Home राजनीति भवानीपुर जीतने के लिए टीएमसी ने लिया मस्जिद पॉलिटिक्स का सहारा, भाजपा...

भवानीपुर जीतने के लिए टीएमसी ने लिया मस्जिद पॉलिटिक्स का सहारा, भाजपा बोली- ममता बनर्जी को आ रहा पसीना

20
0

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को भवानीपुर की सोला आना मस्जिद का दौरा किया। यह औचक दौरा 30 सितंबर को भवानीपुर विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव से पहले हुआ है। यहां भाजपा ने तीन बार मुख्यमंत्री रह चुकीं ममता के खिलाफ प्रियंका टिबरीवाल को चुनावी मैदान में उतारा है।

सोला आना मस्जिद के अपने दौरे के दौरान ममता बनर्जी को स्थानीय लोगों के साथ बातचीत करते देखा गया। ममता बनर्जी की एक झलक पाने के लिए वहां काफी लोग मौजूद थे। ममता बनर्जी ने मस्जिद का दौरा भवानीपुर विधानसभा सीट के लिए नामांकन दाखिल करने के कुछ दिनों बाद किया है। इसे मुस्लिम मतदाताओं को अपने पाले में करने की दिशा में एक प्रायस के तौर पर देखा जा रहा है।

इस सियासी घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए, भाजपा प्रवक्ता अमित मालवीय ने एक ट्वीट में कहा, “अगर आपको लगता है कि भवानीपुर में “कोई प्रतियोगिता नहीं” है और ममता बनर्जी अपनी जीत को लेकर निश्चिंत हैं, तो इसे भूल जाइए। उन्हें (ममता बनर्जी को) पसीना आ रहा है। सोला आना मस्जिद का यह दौरा “अचानक” नहीं है, बल्कि वार्ड 77 से वोट मांगने के लिए एक योजनाबद्ध यात्रा है।”

भवानीपुर उपचुनाव के लिए भाजपा प्रत्याशी प्रियंका टिबरीवाल ने सोमवार को अपना नामांकन दाखिल किया है। टीएमसी नेता फिरहाद हकीम की एक टिप्पणी के जवाब में, जिन्होंने कहा कि ममता बनर्जी से लड़ने के लिए टिबरीवाल एक “युवा लड़की” है, भाजपा नेता ने कहा, “एक युवा लड़की हमेशा के लिए एक युवा लड़की नहीं रहती है। वह चुनौतियों का सामना करने के लिए बड़ी होती है।”

भवानीपुर उपचुनाव का महत्व

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने इस साल की शुरुआत में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत के साथ जीत हासिल की थी। हालांकि ममता बनर्जी नंदीग्राम में भाजपा के सुवेंदु अधिकारी से लगभग 2,000 मतों के अंतर से चुनाव हार गईं। ममता अपने पूर्व डिप्टी सुवेंदु अधिकारी के खिलाफ नंदीग्राम से विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए भवानीपुर की अपनी पारंपरिक सीट छोड़ दी थी। उनकी जगह टीएमसी ने पार्टी के वरिष्ठ नेता शोभनदेव चटर्जी को मैदान में उतारा था, जो चुनाव जीते भी थे।

चटर्जी ने बाद में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को उपचुनाव लड़ने के लिए रास्ता बनाने के लिए इस्तीफा दे दिया। भवानीपुर उपचुनाव टीएमसी सरकार के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि ममता बनर्जी को अपना मुख्यमंत्री पद बनाए रखने के लिए छह महीने के भीतर पश्चिम बंगाल विधानसभा के लिए निर्वाचित होना आवश्यक है। भवानीपुर सहित तीन विधानसभा सीटों पर 30 सितंबर को होने वाले उपचुनाव के लिए वोटों की गिनती 3 अक्टूबर को होगी।

Previous articleकिसान आंदोलन पर पंजाब व हरियाणा में ठनी, कैप्‍टन बोले- पंजाब में धरना देकर आर्थिकता प्रभावित न करें
Next articleप्रदेश में एक लाख पदों पर भर्ती प्रक्रिया शीघ्र

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here