Home राजनीति किसान महापंचायत पर गरमाई सियासत, भाजपा का पलटवार

किसान महापंचायत पर गरमाई सियासत, भाजपा का पलटवार

44
0
  • कहा- दूसरों के कंधों पर बंदूक रखकर सियासत कर रहे राहुल

नई दिल्‍ली। किसान आंदोलन की पुरानी तस्वीर साझा करने और उसे ताजा तस्वीर बताते हुए राहुल गांधी के सरकार पर हमले को लेकर भाजपा ने करारा पलटवार किया है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने राहुल पर आरोप लगाया कि उन्होंने मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत में उमड़ी भीड़ को दिखाने के लिए जो तस्वीर साझा की थी वह पुरानी तस्वीर है। इसके साथ ही भाजपा प्रवक्‍ता ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी दूसरे के कंधों पर बंदूक रखकर सियासत कर रहे हैं।

संबित पात्रा ने कहा कि राहुल खुद तो जमीन पर काम नहीं करना चाहते हैं लेकिन अपना हित साधने के लिए दूसरों के कंधे पर बंदूक रखकर चलाते हैं। राहुल गांधी भली-भांति जानते हैं कि कांग्रेस अध्यक्षविहीन है। मौजूदा वक्‍त में कांग्रेस किसी भी बुनियादी मसले को उठाने के लिए असमर्थ है। यही वजह है कि कभी सोनिया गांधी अन्य दलों के नेताओं के साथ वर्चुअल बैठकें करती हैं तो कभी राहुल झूठी तस्‍वीर के जरिए सियासी फायदा उठाने की कोशिश करते हैं। राहुल मौजूदा वक्‍त की भारतीय सियासत का राजनीतिक कोयल बन गए हैं।

पात्रा ने कहा कि कोयल कभी खुद मेहनत नहीं करती है। वह कभी भी अपना घोंसला खुद नहीं बनाती है। मौजूदा वक्‍त में दूसरे के घोसले (किसान आंदोलन) में आनंद की अनुभूति करने की कोशिश ही पालिटिकल कूकू आफ इंडियन पालिटिक्स है। पात्रा ने कहा कि अपने संगठन को आगे नहीं बढ़ाना, उसे अध्यक्षविहीन रखना, खूद मेहनत नहीं करना और दूसरों के कंधे पर बंदूक रखकर चलाने की कोशिश करना… राहुल की आदत में शुमार हो गया है। देश में भ्रम और झूठ की राजनीति में राहुल का ही हाथ होता ही है।

राहुल के वार पर भाजपा नेता अमित मालवीय ने भी तंज कसा है। उन्‍होंने कहा कि महापंचायत की सफलता दिखाने के लिए राहुल को पुरानी तस्वीर का सहारा लेना पड़ा जो दिखाता है कि किस तरह से किसानों की पंचायत में भारी भीड़ का दुष्प्रचार किया गया। महापंचायत में जो नारे लगे उससे साबित होता है कि उनका असली मकसद क्या है।

उल्‍लेखनीय है कि राहुल गांधी ने मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत के बाद सोमवार को किसानों का समर्थन करते हुए ट्वीट किया था कि भारत का भाग्य विधाता डटा हुआ और निडर है।

Previous articleरूस की तालिबान को दो टूक, दूसरे देशों में आतंकवाद फैलाने के लिए ना हो अफगान जमीन का उपयोग
Next articleतेजी से चल रहा राम मंदिर का काम, अक्टूबर तक तैयार होगा फाउंडेशन, दिसंबर 2023 में गर्भगृह: वीएचपी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here