Home राजनीती पीएम मोदी की बैठक में शामिल नहीं हुईं ममता, आधे घंटे देर...

पीएम मोदी की बैठक में शामिल नहीं हुईं ममता, आधे घंटे देर से पहुंचकर अलग से की मुलाकात, मांगा 20 हजार करोड़ का पैकेज

14
0

कोलकाता। चक्रवात ‘यास’ से बंगाल को पहुंचे नुकसान का आकलन करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से शुक्रवार को कलाइकुंडा एयरफोर्स बेस पर बुलाई गई बैठक में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शामिल नहीं हुईं, हालांकि उन्होंने पीएम मोदी से उसी जगह अलग से मुलाकात की और चक्रवात से बुरी तरह प्रभावित हुए सूबे के दीघा व सुंदरवन इलाकों के विकास के लिए 10-10 हजार करोड़ रुपये के पैकेज की मांग की।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ममता राज्य के मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय के साथ 30 मिनट देर से कलाइकुंडा एयरफोर्स बेस पहुंचीं। उन्होंने बैठक से पहले पीएम मोदी से अलग से मुलाकात की और यास से बंगाल को पहुंचे नुकसान पर प्राथमिक रिपोर्ट सौंपी। ममता ने दीघा व सुंदरवन के लिए कुल 20,000 करोड़ रुपये के पैकेज की मांग की और उसके बाद दीघा में प्रशासनिक बैठक का हवाला देते हुए तुरंत वहां से निकल गईं।

ममता के बैठक में शामिल नहीं होने की वजह भाजपा नेता व बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी को उसमें आमंत्रित किया जाना बताया जा रहा है। सूत्रों से यह भी पता चला है कि मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से प्रधानमंत्री कार्यालय को पत्र लिखकर पूछा गया कि इस बैठक में विधायकों व सांसदों को क्यों शामिल किया जा रहा है?

इस बीच राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मुख्यमंत्री के प्रधानमंत्री की ओर से बुलाई गई बैठक में भाग नहीं लेने पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री व उनके अधिकारी अगर बैठक में भाग लेते तो यह राज्य व यहां के लोगों के हित में होता। विरोधात्मक रवैये से राज्य व लोकतंत्र के हितों को नुकसान पहुंचता है। मुख्यमंत्री व उनके अधिकारियों का बैठक में शामिल न होना संवैधानिक नियमों के मुताबिक नहीं है। वहीं सुवेदु अधिकारी ने कहा कि यह समय राजनीति करने का नहीं बल्कि लोगों को राहत पहुंचाने के लिए साथ मिलकर काम करने का है।

भाजपा ने कहा कि सुवेंदु अधिकारी बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हैं। उन्हें बैठक में आमंत्रित किया जा ही सकता है। मुख्यमंत्री को इसे लेकर आपत्ति नहीं होनी चाहिए थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here