Home छत्तीसगढ़ पंजाब के बाद छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस की बढ़ी मुश्किलें, आलाकमान से...

पंजाब के बाद छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस की बढ़ी मुश्किलें, आलाकमान से मिलने 10 विधायक दिल्ली पहुंचे

47
0

नई दिल्ली/रायपुर। पंजाब में जारी सियासी संकट के बीच छत्तीसगढ़ के 10 विधायक बृहस्पत सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस के राज्य प्रभारी पीएल पुनिया से मिलने दिल्ली पहुंचे हैं। बीते काफी दिनों से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और राज्य के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के बीच ढाई साल के पावर शेयरिंग को लेकर कथित तौर पर विवाद जारी है। इससे पहले 28 अगस्त को कांग्रेस आलाकमान के साथ एक लंबी बैठक हुई थी। बघेल ने कहा कि आने वाले समय में राहुल गांधी राज्य का दौरा करेंगे।

इसके ठीक अगले दिन यानी 29 अगस्त को जब टीएस सिंहदेव लौटे तो उन्होंने कहा कि उन्होंने नेतृत्व से भी बात की और उन्होंने “निर्णय सुरक्षित” रखा है। अभी तक राहुल गांधी के राज्य के दौरे को अभी अंतिम रूप नहीं दिया गया है और इस संबंध में बघेल के अक्टूबर के पहले सप्ताह में दिल्ली आने की संभावना है।

दिल्ली पहुंचे बृहस्पत सिंह ने कहा, “हम यहां अपने आलाकमान से मिलने आए हैं। हम आज या कल पुनिया जी (पीएल पुनिया) से मिलेंगे।’ दरअसल, राहुल गांधी अगले कुछ दिनों में दो दिन के लिए छत्तीसगढ़ का दौरा करेंगे। हम यहां आलाकमान से यात्रा विस्तार करने का आग्रह कर रहे हैं, ताकि राहुल जी (राहुल गांधी) हमारे राज्य को अधिक समय दे सकें और अधिक लोगों से मिल सकें।”

यह पूछे जाने पर कि क्या वह विधायकों के साथ राज्य के राजनीतिक संकट पर चर्चा करने के लिए दिल्ली में हैं, उन्होंने कहा, “छत्तीसगढ़ में अब कोई राजनीतिक संकट नहीं है। पिछले महीने लगभग 60 विधायकों ने पीएल पुनिया के माध्यम से आलाकमान को अपनी स्थिति बताई है।

अब सब कुछ स्प्ष्ट है।” 23 सितंबर को, एक वरिष्ठ मंत्री और सरकार के प्रवक्ता रवींद्र चौबे ने कहा कि बघेल के राहुल गांधी की बस्तर यात्रा को अंतिम रूप देने के लिए अक्टूबर के पहले सप्ताह में दिल्ली आने की संभावना है। चौबे ने कहा कि राहुल गांधी की यात्रा की तैयारी पूरी है और आबकारी मंत्री कवासी लखमा, जो बस्तर के कोंटा निर्वाचन क्षेत्र से विधायक हैं, ने कुछ दिन पहले इसकी समीक्षा की और कार्यक्रम के संभावित स्थान का सुझाव दिया।

उल्लेखनीय है कि बीते विधानसभा चुनाव में छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी ने शानदार प्रदर्शन किया। पार्टी 90 में से 68 सीटें जीती। नतीजे आते ही राज्य के चार नेता, बघेल, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, स्पीकर चरण दास महंत और टीएस सिंहदेव मुख्यमंत्री पद के लिए दिल्ली के लिए रवाना हो गए। महंत ने स्पीकर पद पर समझौता किया। बघेल और सिंहदेव के बीच मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए काफी संघर्ष हुआ। मुख्यमंत्री बनने की रेस में साहू आगे चल रहे थे, लेकिन पीएल पुनिया और राहुल गांधी ने बघेल पर भरोसा जताया। कहा यह भी जा रहा है कि 2.5 साल के फॉर्मूले पर सहमति बनी।

Previous articleउत्तर कोरिया ने हाइपरसोनिक मिसाइल के परीक्षण का किया दावा
Next articleगुलाब के असर से पश्चिम बंगाल में भारी बारिश का कहर, मकान गिरने से 2 की मौत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here