Home देश बकरीद पर योगी सरकार ने जारी किया दिशा-निर्देश, एक साथ 50 लोगों...

बकरीद पर योगी सरकार ने जारी किया दिशा-निर्देश, एक साथ 50 लोगों के इकठ्ठा होने पर लगाई रोक

22
0

लखनऊ। बकरीद के मौके पर स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाए। बकरीद के लिए नए दिशा-निर्देश उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से जारी किए गए हैं। इस दिशा-निर्देश में कोरोना का खास ख्याल रखा गया है, साथ ही सारे कोरोना नियम को पालन करने के भी निर्देश दिए गए हैं।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बकरीद के मद्देनजर अधिकारियों को बड़ा निर्देश दिया है।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा है कि बकरीद पर 50 से ज्यादा लोग एक जगह पर न जुटें। मुख्यमंत्री योगी ने दिशा-निर्देश जारी करते हुए कहा कि गोवंश, ऊंट और प्रतिबंधित जानवरों की कुर्बानी न हो। कुर्बानी तय या निजी स्थलों पर ही की जाए।

बकरीद के मौके पर स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाए। बकरीद के लिए नए दिशा निर्देश उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से जारी किए गए हैं। इस दिशा निर्देश में कोरोना का खास ख्याल रखा गया है, साथ ही सारे कोरोना नियम को पालन करने के भी निर्देश दिए गए हैं।

गौरतलब है कि बकरीद का पर्व पैगंबर हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम द्वारा अल्लाह के प्रति अगाध प्रेम और त्याग की भावना को याद करते हुए मनाया जाता है। इस बार यह त्योहार 21 जुलाई को मनाया जाएगा। उत्तर प्रदेश के कई मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कोरोना संक्रमण के कारण बकरीद की नमाज मोहल्ले की मस्जिदों में ही अदा करने की अपील की है। इसके अलावा लगातार दूसरे साल बकरीद पर ऊंटों की कुर्बानी नहीं की जाएगी, सरकार ने इस पर प्रतिबंध लगा दिया है।

इस्लामिक सेन्टर ऑफ इण्डिया ने जारी एडवायजरी
इस्लामिक सेन्टर आफ इण्डिया फरंगी महल के चेयरमैन मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली इमाम ईदगाह लखनऊ ने ईद उल अज़हा के सिलसिले में एक अहम एडवाइजरी जारी की है जिस पर देश के मुसलमानों से अमल करने की अपील की गयी है- 

  1. ईदगाहों और मस्जिदों में ईद उल अज़हा की जमाअत में प्रशासन की गाइड लाइन के अनुसार सिर्फ 50 लोग ही नमाज़ अदा करे।
  2. ईद उल अज़हा की नमाज़ में भी मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग का ख़ास ख्याल रखें।
  3. ईद उल अज़हा के दिन भी न किसी से हाथ मिलायें और न गले मिलें।
  4. उन्ही जानवरों की कुर्बानी की जाए जिन पर कोई कानूनी पाबन्दी नही है।
  5. जानवरों की गन्दगी रास्तों या पब्लिक स्थानों पर न फेंके बल्कि नगर निगम के कोड़ेदानों ही का प्रयोग करें।
  6. सड़क के किनारे, गली और पब्लिक स्थानों पर कुर्बानी न की जाए।
  7. कुर्बानी के जानवरों का खून नालियों में न बहायें। उसको कच्ची जमीन में दफन कर दें ताकि वह पौधों और पेड़ों की खाद बन सके। 
Previous articleमेडिकल कॉलेज में हुआ कोरोना विस्फोट, 50 छात्र मिले पॉजिटिव, केरल में बढ़ रहीं चिंताएं
Next articleअमेरिका के कोलिन मोरिकावा ने ब्रिटिश ओपन गोल्फ टूर्नामेंट का खिताब जीता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here