Home देश कोरोना से राहत के संकेत, मार्च के बाद पहली बार 20 हजार...

कोरोना से राहत के संकेत, मार्च के बाद पहली बार 20 हजार से कम नए केस, 3 लाख से नीचे एक्टिव मरीज

15
0

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक भारत में 201 दिन बाद पहली बार कोरोना के नए मामलों की संख्या 20 हजार से सामने आई है. देश में पिछले 24 घंटे में 18,795 कोरोना मरीज मिले हैं. जबकि इस दौरान कोविड महामारी की चपेट में आए 179 मरीजों की मौत हुई है.
नई दिल्ली,
देश में रिकॉर्ड कोरोना वैक्सीनेशन के बीच कोविड-19 के घटते मामले महामारी से राहत के संकेत हैं. देश में बीते 24 घंटे में आए नए मामलों में 6 महीने में सबसे बड़ी कमी देखी गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक भारत में 201 दिन बाद पहली बार कोरोना के नए मामलों की संख्या 20 हजार से सामने आई है. पिछले 24 घंटे में 18,795 कोरोना मरीज मिले हैं. जबकि इस दौरान कोविड महामारी की चपेट में आए 179 मरीजों की मौत हुई है. देश में फिलहाल कोरोना के एक्टिव केस भी तीन लाख से नीचे हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से आज (मंगलवार) सुबह जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, भारत में कोरोना वायरस के कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,36,97,581 हो गई. वहीं, एक्टिव मरीजों की संख्या घटकर 2,92,206 रह गई है, जो 192 दिनों में सबसे कम है. पिछले 24 घंटे में उपचाराधीन मरीजों की संख्या में कुल 7,414 की कमी दर्ज की गई. मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर 97.81 प्रतिशत है. बीते 24 घंटे में कोरोना संक्रमण से 179 और लोगों की मौत के बाद मृतकों का कुल बढ़कर 4,47,373 हो गया है. संक्रमण से मौत के ये मामले 193 दिन में सबसे कम है. इससे पहले 19 मार्च को संक्रमण से मौत के 154 मामले सामने आए थे. देश में अभी तक कुल 3,29,58,002 कोविड मरीज इस महामारी को मात देकर ठीक हो चुके हैं. आंकड़ों के अनुसार, दैनिक संक्रमण दर 1.42 प्रतिशत है, जो पिछले 29 दिनों से तीन प्रतिशत से कम है. वहीं, साप्ताहिक संक्रमण दर 1.88 प्रतिशत है, जो पिछले 95 दिन से तीन प्रतिशत से कम बनी हुई है. जबकि मृत्यु दर 1.33 प्रतिशत है. देश में कोरोना के ज्यादातर मामले केरल में सामने आ रहे हैं. लंबे समय से केरल में ही कोविड के 50 से 60 फीसदी मरीज मिल रहे हैं. हालांकि, तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश भी कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित राज्यों में शामिल हैं.

Previous articleदिल्ली में 2020 में हुए दंगे पूर्व नियोजित साजिश थी, यह पल भर के आवेश में नहीं हुए : हाईकोर्ट
Next articleचन्नी सरकार में मंत्रियों के विभागों का बंटवारा, सुखजिंदर सिंह रंधावा बने गृह मंत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here