Home देश इसरो के आगामी अंतरिक्ष अभियानों को लेकर के सिवान ने कहा-...

इसरो के आगामी अंतरिक्ष अभियानों को लेकर के सिवान ने कहा- ‘हरित ईंधन के उपयोग की दिशा हो रहा है काम’

50
0

नई दिल्ली: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के प्रमुख के। सिवन ने शुक्रवार को कहा कि भारत अपने मानव अंतरिक्ष अभियान गगनयान के लिए हरित ईंधन का उपयोग किए जाने की दिशा में कार्य कर रहा है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इसरो भविष्य के अपने सभी अभियानों के लिए हरित ईंधन के उपयोग को लेकर कार्य कर रहा है।
वास्ते कोको द्वीप पर होगा ग्राउंड स्टेशन
इंडिया इकॉनोमिक कांक्लेव के एक सत्र के दौरान सिवन ने कहा कि भारत गगनयान मिशन के वास्ते कोको द्वीप पर ग्राउंड स्टेशन उपलब्ध कराने के लिए आस्ट्रेलिया के साथ बातचीत कर रहा है। उन्होंने कहा कि इसरो वैश्विक स्तर पर नेतृत्व करने की महत्वकांक्षा नहीं रखता है।
अंतरिक्ष अभियान में होगा हरित ईंधन का उपयोग
सिवन ने कहा कि इसरो का प्राथमिक उद्देश्य देश की सेवा और अंतरिक्ष में अवसंरचना की आवश्यकताओं को पूरा करना है, ताकि देश में व्यापक स्तर पर सामाजिक-आर्थिक लाभ प्राप्त किया जा सके। हरित ईंधन के उपयोग पर पूछे गए एक सवाल पर इसरो प्रमुख ने कहा, ‘अंतरिक्ष अभियानों के लिए हरित ईंधन का उपयोग किए जाने की आवश्यकता है। हम हरित ईंधन के जरिए ही गगनयान को उड़ाने जा रहे हैं। यह बेहद जरूरी है।’
सोवियत संघ की मदद से भेजा गया था पहला उपग्रह
उन्होंने कहा कि इसरो ने पहले ही हरित ईंधन के उपयोग वाले इंजन का विकास करना शुरू कर दिया है। बता दें कि 15 अगस्त 1969 में भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन की स्थापना की गयी थी। शुरुआती दौर में इसरो का नाम ‘अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए भारतीय राष्ट्रीय समिति’ रखा गया था। वहीं भारत के पहले उपग्रह आर्यभट्ट को 19 अप्रैल 1975 को सोवियत संघ की मदद से अंतरिक्ष में छोड़ा गया था।

Previous articleपुलिस ने दर्ज की एफआईआर, बीजेपी ने कहा- बीएमसी और फायरब्रिगेड का नाम कैसे गायब
Next articleदेशभर में 28 मार्च को किया जाएगा होलिका दहन, जानिए क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here