Home देश 12 लोगों की मौत के बाद जागी बीएमसी, 485 इमारतों को घोषित...

12 लोगों की मौत के बाद जागी बीएमसी, 485 इमारतों को घोषित किया खतरनाक

14
0

मुंबई: मुंबई शहर में बीएमसी द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार, 485 इमारतें खतरनाक और उच्च जोखिम में हैं। इसके साथ ही बीएमसी के पास खुद की अपनी ऐसी 52 इमारतें भी हैं। अधिकांश इमारतें जो उच्च जोखिम में आती हैं या जिन्हें खतरनाक घोषित किया गया है, घाटकोपर क्षेत्र के अंतर्गत आती हैं। मुंबई शहर और उपनगरीय मुंबई में ऐसी इमारतों का प्री-मानसून सर्वेक्षण करने के बाद हर साल बीएमसी ने उच्च जोखिम वाली और खतरनाक इमारतों की सूची घोषित की। बीएमसी सभी निजी और बीएमसी के अपने भवनों का यह सर्वेक्षण करता है। जिस खतरनाक इमारत को तुरंत गिराया जाना चाहिए, बीएमसी उन्हें सी-1 के रूप में टैग करती है। तीन साल पहले जब बीएमसी ने सूची घोषित की थी, तब मुंबई में ऐसी 619 इमारतें थीं। कई इमारतें हैं जो पिछले 3-4 वर्षों से सूची में हैं, क्योंकि वह अदालत पहुंच गई और बीएमसी के विध्वंस के खिलाफ स्‍टे आदेश प्राप्त कर लिया।। बीएमसी की नीति के मुताबिक, 30 साल से अधिक पुराने भवन बीएमसी के ऑडिट के लिए पात्र हैं। बीएमसी उन इमारतों को खाली कराने का नोटिस देती है जो उन्हें ‘खतरनाक’ या उच्च जोखिम वाली लगती हैं। लेकिन कई बार किरायेदारों ने अदालत का दरवाजा खटखटाया और निकासी प्रक्रिया पर रोक लगाने की कोशिश की और ऐसी इमारतों में रहना जारी रखा। सूत्रों के मुताबिक, पी साउथ बीएमसी वार्ड से 25 ऐसी इमारतों को खतरनाक घोषित किया गया है, यह मलाड इलाके का वही वार्ड है जहां एक इमारत ढह गई थी और 12 लोगों की मौत हो गई थी। लेकिन जो इमारत ढही थी वह खतरनाक इमारत की सूची में नहीं थी। उच्च जोखिम वाली इमारतों की सूची में घाटकोपर क्षेत्र की 47 इमारतें, अंधेरी और जोगेश्वरी के पश्चिम में 36 इमारतें, मुलुंड क्षेत्र के टी वार्ड से 35 इमारतें शामिल हैं। बांद्रा पश्चिम के एच-वेस्ट वार्ड से 49 भवन भी इस लिस्‍ट में हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here