MaharastraPoliticalCrisis : सियासी संकट के बीच कल फ्लोर टेस्ट , शिंदे ने कहा – हमारे पास 2/3 बहुमत

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp
Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र की सियासी फाइट में अब एक्शन टाइम,  जानिए क्या हैं BJP-शिंदे गुट और उद्धव के पास विकल्प? - maharashtra  political crisis eknath shinde ...

स्वदेश [अदिति रावत ] : महाराष्ट्र में बीजेपी के द्वारा उद्धव को ताकत दिखाने की मांग के बाद उद्धव ठाकरे को अपनी सत्ता बचाने के लिए 30 जून को फ्लोर टेस्ट का सामना करना होगा।वही महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने गुरुवार को विशेष सत्र बुलाने का आह्वान किया है।

महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार 30 जून को शक्ति परीक्षण का सामना करेगी क्योंकि भाजपा ने शिवसेना के साथ चल रहे संकट के बीच विधानसभा में ताकत दिखाने की मांग की थी।एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र राज्य सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं। वे शिवसेना के सदस्य के रूप में भारत के ठाणे के कोपरी-पचपखडी से विधान सभा के सदस्य हैं। एकनाथ शिंदे ठाणे महानगर पालिका में दो कार्यकालों तक नगरसेवक रहे और तीन साल तक शक्तिशाली स्थायी समिति के सदस्य और चार साल तक सदन के नेता रहे। एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले बागी शिवसेना खेमे ने बहुमत का दावा किया है।

ये भी पढ़ें:  कश्मीर घाटी में लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी की मौत, लेकिन नहीं लगी पुलिस की गोली

देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से मुलाकात की और शक्ति परीक्षण की मांग के एक दिन बाद यह कदम उठाया है। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने कहा है कि प्रदेश की राजनीतिक स्थिति अच्छी नहीं है. शिवसेना के 39 विधायक पहले ही महा विकास अघाड़ी गठबंधन से अलग होने की बात कह चुके हैं, जबकि 7 निर्दलीय विधायकों ने भी पत्र लिखकर उद्धव सरकार से समर्थन वापस लेने की बात कही है।राज्यपाल ने बताया कि विपक्ष के नेता भी उनसे मिले हैं और फ्लोर टेस्ट की मांग उठाई हैं। शिवसेना और शिंदे गुट के बीच जारी घमासान के बीच मंगलवार रात बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस ने राज्यपाल से मुलाकात की और एक पत्र सौंपा। जिसमें अनुरोध किया गया कि सरकार से सदन में बहुमत साबित करने के लिए कहें।

ये भी पढ़ें:  डिफेंस सेक्टर को लेकर प्रधानमंत्री मोदी का बड़ा बयान- अब हम आयातक से बड़े निर्यातक बनने की ओर आगे बढ़ रहे हैं

गुवाहाटी में बैठे एकनाथ शिंदे समेत बाकी बागी नेता गुरुवार को फ्लोर टेस्ट के लिए मुंबई आएंगे। शिंदे ने कहा हम कल मुंबई पहुंचेंगे, 50 विधायक हमारे साथ हैं, हमारे पास 2/3 बहुमत है, हम किसी फ्लोर टेस्ट को लेकर चिंतित नहीं हैं। हम सब कुछ पास कर देंगे और हमें कोई नहीं रोक सकता। लोकतंत्र में बहुमत मायने रखता है और हमारे पास वह है” गुवाहाटी में विद्रोही शिवसेना विधायक एकनाथ शिंदे कहते हैं। इससे पहले बुधवार सुबह 4 बागी नेताओं के साथ शिंदे गुवाहाटी के प्रसिद्ध कामख्या मंदिर पहुंचे और प्रार्थना की। महाराष्ट्र में बहुमत परिक्षण कल होगा या नहीं, इस पर सुप्रीम कोर्ट शाम 5 बजे फैसला सुननायेगी। शिवसेना ने राज्यपाल के आदेश को दी चुनौती।

ये भी पढ़ें:  कामेडियन राजू श्रीवास्तव की हालत बेहद नाज़ुक, डॉक्टर्स ने कहा- बस दुआओं का सहारा

आईये समझते है क्या है फ्लोर टेस्ट

फ्लोर टेस्ट एक ऐसा प्रस्ताव है जिसके माध्यम से यह जाना जाता है कि मौजूदा सरकार या मुख्यमंत्री के पास पर्याप्त बहुमत है या नहीं। यानी कि क्या कार्यपालिका को विधायिका का विश्वास प्राप्त है। यह एक संवैधानिक व्यवस्था है जिसके तहत गवर्नर एक मुख्यमंत्री को विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए कह सकता है.

आसान भाषा में समझें तो सत्तारुढ़ पार्टी या मुख्यमंत्री पर जब बहुमत को लेकर सवाल उठाया जाता है, तो बहुमत का दावा करने वाले पार्टी या गठबंधन के नेता को, विश्वास मत हासिल करना होता है. इसके तहत उन्हें विधानसभा में मौजूद और मतदान करने वालों के बीच अपना बहुमत साबित करना पड़ता है. यह एक पारदर्शी प्रक्रिया है जिसमें राज्यपाल की कोई भूमिका या हस्ताक्षेप नहीं होता है.

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News