Home देश कोरियाई रक्षा मंत्री ने देखा पैराट्रूपर्स का युद्धक प्रदर्शन

कोरियाई रक्षा मंत्री ने देखा पैराट्रूपर्स का युद्धक प्रदर्शन

5
0
  • लगभग 12 हजार फीट की ऊंचाई से कूदकर पैरा-ब्रिगेड ने दिखाई अपनी ताकत
  • सेना की पैराशूट ब्रिगेड ने पहली बार सार्वजनिक तौर पर दिखाया परिचालन कौशल

नई दिल्ली। कोरियाई रक्षा मंत्री सुह वूक ने शनिवार सुबह आगरा में सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे के साथ भारतीय सेना के पैराट्रूपर्स का अभ्यास देखा। लगभग आधे घंटे तक चले इस अभ्यास में 25 पैराट्रूपर्स ने युद्धक प्रदर्शन किया। पैराट्रूपर्स ने लगभग 12 हजार फीट की ऊंचाई पर एक विमान से पैरा ड्रॉपिंग की। वूक द्विपक्षीय रक्षा और सैन्य सहयोग बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करते हुए तीन दिवसीय भारत यात्रा पर आए हैं। उन्होंने रक्षा संबंधों को मजबूत करने पर भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ व्यापक बातचीत की है।

अपनी तीन दिवसीय यात्रा के आखिरी दिन शनिवार को कोरियाई रक्षा मंत्री सुह वूक दक्षिण कोरिया की तरफ से भारतीय सेना को औपचारिक रूप से धन्यवाद देने के लिए आगरा स्थित पैरा-ब्रिगेड हेडक्वार्टर भी गए। कोरियाई रक्षा मंत्री ने आगरा छावनी स्थित भारतीय सेना के 60 पैरा फील्ड अस्पताल का भी दौरा किया, जिसने 1950 के कोरियाई युद्ध के दौरान संयुक्त राष्ट्र और दक्षिण कोरियाई कर्मियों को चिकित्सा सहायता प्रदान की थी। सेना प्रमुख जनरल नरवणे और कोरियाई रक्षा मंत्री के सामने भारतीय सेना की पैराशूट ब्रिगेड ने पहली बार सार्वजनिक तौर पर अपने परिचालन कौशल का प्रदर्शन किया। इस अभ्यास में कुल 650 सैनिक शामिल हुए। लगभग आधे घंटे तक चले इस अभ्यास में 25 पैराट्रूपर्स ने युद्धक प्रदर्शन किया जिन्होंने लगभग 12 हजार फीट की ऊंचाई पर एक विमान से पैरा ड्रॉपिंग की थी।

इसके बाद लगभग 80 पैराट्रूपर्स ने स्टैटिक लाइन जंप का प्रदर्शन किया। यह सभी पैराट्रूपर्स लगभग 1,250 फीट की ऊंचाई पर एक विमान से कूदे। इसी विमान से सैन्य उपकरण भी गिराए गए। सेना की पैरा-ब्रिगेड ने कोरियाई रक्षा मंत्री की मौजूदगी में बटालियन के आकार में अपनी ताकत का प्रदर्शन किया, जिसमें पैदल सेना के लड़ाकू वाहनों और तोपखानों को भी शामिल किया गया। भारतीय सेना की इस एयर-बॉर्न फोर्स को रणनीतिक लक्ष्यों को गुप्त तरीके से हासिल करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। उनके परिचालन प्रशिक्षण और कौशल के बारे में जानकारियां गोपनीय रहती हैं। इसलिए यह पहला मौका रहा जब उनके परिचालन कौशल का प्रदर्शन सार्वजानिक तौर पर कोरियाई रक्षा मंत्री के सामने किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here