Home देश सोमवार से अनलॉक हो रही दिल्ली में क्या खुलेगा और क्या रहेगा...

सोमवार से अनलॉक हो रही दिल्ली में क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद

30
0

नई दिल्ली । कोरोना की संक्रमण दर डेढ़ फीसद पर आ जाने के बाद दिल्ली अब धीरे धीरे अनलाक होगी। शुक्रवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में हुई दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की बैठक में दो मामलों में छूट देने का फैसला लिया गया। बैठक के बाद मुख्यमंत्री अर¨वद केजरीवाल ने डिजिटल प्रेस वार्ता कर जानकारी दी कि डीडीएमए ने सोमवार सुबह पांच बजे से औद्योगिक और निर्माण गतिविधियों को एक सप्ताह तक खोलने का निर्णय लिया है। अन्य सभी मामलों में अभी पूर्व की तरह प्रतिबंध जारी रहेगा।
अरविंद केजरीवाल की अहम बातें और निर्देश
-दिल्ली को फिलहाल सीधे पूरी तरह से अनलॉक करने की बजाय चरणबद्ध तरीके से अनलॉक किया जाएगा।
-पहले सप्ताह में बाजार आदि नहीं खोला जाएगा।
-सोमवार से अनलॉक 1.0 के तहत कंस्ट्रक्शन और फैक्ट्री की गतिविधियों को खोला जाएगा।
-अरविंद केजरीवाल के मुताबिक, हफ्ते दर हफ्ते जनता के सुझाव और एक्सपर्ट के सुझाव पर लॉकडाउन खोलेंगे।
-अरविंद केजरीवाल ने अपील की है कि लोगों कोरोना वायरस के खतरे और प्रभाव के मद्देनजर इससे संबंधी एहतियात बरतें।
-अरविंद केजरीवाल ने चेताया है कि कोरोना बढ़ेगा, तो लॉकडाउन लगाना पड़ेगा। जब तक जरूरत न पड़े, घर से बाहर नहीं निकलें। बड़ा नाजुक समय है।
इन्हें मिलेगी छूट
-कोरियर सेवा के लिए अनुमति रहेगी।
-इलेक्ट्रीशियन, प्लम्बर वाटर प्यूरीफायर से संबंधित कर्मचारियों को काम करने की अनुमति जारीह रहेगी।
-बच्चों की पढ़ाई से संबंधित किताबों की दुकानें खुली रहेंगी।

  • बिजली के पंखों से संबंधित दुकानें भी खुली रहेंगी।
    -बीमार लोगों को अस्पताल जाने की छूट मिलेगी।
    -बीमार लोगों को अस्पताल जाने और अस्पताल से आने की छूट रहेगी। डीटीसी बसें और दिल्ली मेट्रो का संचालन जारी रहेगा।
    -ऑटो व टैक्सी जैसी सार्वजनिक परिवहन सुविधाएं चलती रहेगी। उसमें बैठने वालों को ई-पास या आईडी कार्ड दिखाना पड़ेगा।
    -माल की ढुलाई करने वाले वाहनों को नहीं रोका जाएगा। शहर के अंदर और शहर से दूसरे राज्यों के लिए आवागमन, सामान की ढुलाई पर रोक नहीं होगी। इसके लिए अनुमति या ई-पास लेने की जरूरत नहीं होगी।
    -मीडियाकर्मियों को कार्ड दिखाने पर आने-जाने की छूट रहेगी। इनमें इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट के साथ वेबमीडियाकर्मी भी शामिल हैं।
    -अस्पताल, सरकारी कर्मचारी, पुलिस, जिलाधिकारी, बिजली, पानी, सफाई से जुड़े लोगों को लॉकडाउन में छूट मिलेगी।
    -रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, एयरपोर्ट जाने वाले लोगों को छूट मिलेगी।
    इन पर रहेगी पाबंदी
    -सभी बाजार बंद रहेंगे।
    -साप्ताहिक बाजार भी बंद रहेंगे।
    -बिना जरूरत के घर से बाहर निकलने पर रोक है।
    -सभी मॉल, जिम, स्पा, ऑडिटोरियम, असेंबली हॉल, एंटरटेनमेंट पार्क बंद रहेंगे।
    -रेस्तरां में जाकर खाने पर पाबंदी होगी।
    -भुखमरी से न मर जाएं लोग, इसलिए संतुलन बनाकर चलना है
    सीएम ने कहा कि अस्पतालों के अंदर अब बेड मिलने में किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं है। आइसीयू बेड भी काफी खाली हो गए हैं। ऑक्सीजन बेड भी काफी खाली हो गए हैं। सरकार ने जितने कोविड-19 केंद्र खोले थे, उनमें भी काफी बेड उपलब्ध हैं, इसलिए अब अनलॉकिंग का यह समय है। कहीं ऐसा न हो कि लोग कोरोना से तो बच जाएं, लेकिन भुखमरी से मर जाएं। इसलिए हमें संतुलन बनाकर चलना है कि एक तरफ कोरोना को भी नियंत्रण करना है और दूसरी तरफ आर्थिक गतिविधियों को लेकर भी साथ-साथ कोशिश करनी है। जहां-जहां जितना बन सके, उतने की अनुमति दी जाए।
    जब तक जरूरत न पड़े, तब तक घर से बाहर न निकलें
    दिल्ली के दो करोड़ लोगों ने मिलकर कोरोना की दूसरी लहर पर भी काबू पा लिया है। सीएम ने कहा कि जनता के सुझावों पर आगे भी हम धीरे-धीरे अनलॉक की प्रक्रिया जारी रखेंगे। उन्होंने साफ किया कि कहीं ऐसा न हो कि एकदम से लॉकडाउन खोलने से हमें उसका नुकसान हो जाए और फिर से कोरोना बढ़ने लगे। अगर ऐसा हुआ, तो हमारे पास दोबारा लॉकडाउन लगाने के अलावा और कोई चारा नहीं बचेगा। उन्होंने अपील कि सभी लोग कोविड-19 के एहतियात अवश्य बरतें। यह बहुत ही नाजुक समय है। जब तक जरूरत न पड़े, तब तक घर से बाहर न निकलें।
    विशेषज्ञों का मानना है कि लॉकडाउन धीरे-धीरे खोला जाए
    सभी विशेषज्ञों का यह मानना है कि लॉकडाउन को धीरे-धीरे खोला जाए। लॉकडाउन खोलने के दौरान सबसे पहले उन लोगों का ख्याल रखना है, जो समाज का सबसे गरीब तबका हैं, श्रमिक हैं। उत्तर प्रदेश, बिहार समेत आसपास के और राज्यों से लोग आजीविका कमाने के लिए दिल्ली आते हैं। काफी लोग दिहाड़ी का काम करते हैं और बहुत ही मुश्किल परिस्थितियों के अंदर जीते हैं। ऐसे सबसे ज्यादा लोग निर्माण गतिविधियों और औद्योगिक क्षेत्रों में काम करने वाले मिलते हैं।
Previous articleदेश में कोरोना के 1.73 लाख नए मामले, 2.84 लाख हुए ठीक
Next articleभारतीय तटरक्षक बल से आज जुड़ेगा जहाज ‘सजग’, आत्मनिर्भर भारत की दिखेगी झलक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here