Home देश सचिन वझे पर यूएपीए के तहत मामला दर्ज, एंटीलिया मामले में एनआईए...

सचिन वझे पर यूएपीए के तहत मामला दर्ज, एंटीलिया मामले में एनआईए की बड़ी कार्रवाई

18
0
  • पुलिस अधिकारी रियाज काजी बना सरकारी गवाह

मुंबई। एंटीलिया केस में मुंबई पुलिस के सस्पेंडेड एपीआई सचिन वझे की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने बुधवार को वझे के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) लगाया है। यह धारा आतंकी या राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के तहत लगाई जाती है।
वहीं, एक अन्य घटनाक्रम में वझे के साथ काम करने वाला पुलिस अधिकारी रियाज काजी सरकारी गवाह बन गया है। वझे की सोसाइटी से काजी ने ही सीसीटीवी फुटेज जब्त किए थे। एनआईए ने स्पेशल कोर्ट में इसकी जानकारी दी है। एनआईए काजी से अब तक 4 बार पूछताछ कर चुकी है। इससे पहले बुधवार को ही ठाणे सेशन कोर्ट ने महाराष्ट्र एंटी टेररिज्म स्क्वॉड (एटीएस) को आदेश दिया कि इस केस की जांच रोककर इसे राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को सौंप दें। एनआईए ने कोर्ट में अपील की थी कि केंद्रीय गृह मंत्रालय के आदेश बावजूद एटीएस उसे केस नहीं सौंप रही है।

हिरेन मामले में दो हिरासत में लिए

मनसुख हिरेन की मौत के मामले में एनआईए ने दो आरोपियों को हिरासत में लिया है। मुंबई एटीएस ने इन दो आरोपियों को गिरफ्तार किया था। एटीएस ने इन गिरफ्तारियों के बाद मनसुख हिरेन की मौत के मामले को सुलझाने का दावा किया था। एटीएस ने हिरेन की हत्या के मामले में निलंबित पुलिसकर्मी विनायक शिंदे तथा क्रिकेट सट्टेबाज नरेश गौड़ को पिछले सप्ताह गिरफ्तार किया था।

वझे की राजदार महिला कौन, तलाश जारी

वहीं, एंटीलिया मामले में दूसरी तरफ एनआईए को वझे के खिलाफ लगातार नए सबूत मिल रहे हैं। दो दिन पहले एक होटल में की गई छापेमारी के दौरान सीसीटीवी की जांच में पता चला है कि सस्पेंड एपीआई सचिन वझे जिस दौरान होटल में ठहरे थे, उस बीच एक महिला उनसे मिलने आई थी। उस महिला के पास नोट गिनने वाली मशीन थी। एनआईए को शक है यह महिला वझे की राजदार है, इसलिए इस महिला की तलाश तेज कर दी गई है। एनआईए को इस बात का भी शक है यह महिला पूरी साजिश में शामिल हो सकती है।

स्कॉर्पियो में वझे ने ही रखा था धमकी भरा पत्र

एनआईए जांच में यह भी सामने आया है कि सचिन वझे ने ही स्कॉर्पियो में धमकी भरा पत्र रखा था। इस पत्र को मनसुख हिरेन की हत्या के मामले में गिरफ्तार विनायक शिंदे के घर में लिखा गया था। शिंदे के घर से वह प्रिंटर भी बरामद हुआ है, जिससे इसे प्रिंट किया गया। सूत्रों ने दावा किया है कि वझे स्कॉर्पियो खड़ी करने से पहले इनोवा में घटनास्थल पर रेकी के लिए गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here