Home देश भारतीय नौसेना की बढ़ेगी सामरिक ताकत, अब छठी स्कोर्पिन बागशीर पनडुब्बी का...

भारतीय नौसेना की बढ़ेगी सामरिक ताकत, अब छठी स्कोर्पिन बागशीर पनडुब्बी का है इंतजार

13
0

नई दिल्‍ली । भारतीय नौसेना के बेड़े में स्कोर्पिन क्लास सबमरीन, आईएनएस करंज शामिल हो गया है। यह स्कोर्पिन श्रेणी की तीसरी पनडुब्बी है। फ्रांस की मदद से मझगांव डॉकयार्ड लिमिटेड यानी एमडीएल ने स्कोर्पिन क्लास की इस तीसरी पनडुब्बी का निर्माण किया है। इसका नाम अंग्रेजी वर्णमाला के अनुसार करंज है। के से किलर इन्सटिंक्ट, ए से आत्मनिर्भर-भारत, आर से रेडी, ए से एग्रेसिव, एन से निम्बल और जे से जोश हैं। अलग-अलग रिपोर्ट में यह बात सामने आ रही थी कि भारत की अधिकांश पनडुब्बियां अपनी उम्र पूरी करने वाली है। इस फ्रंट पर हम कमजोर पड़ सकते हैं।
स्कोर्पिन क्लास सबमरीन क्या है
पनडुब्बी को फ्रांसीसी नौसेना निर्माण दिशा और स्पेनिश नर्वांटया के सहयोग से विकसित किया गया था। यह एक डीजल इलेक्ट्रिक अटैक पनडुब्बी है।
2005 में फ्रांस में हुआ था अनुबंध
भारतीय नौसेना ने वर्ष 2005 में प्रोजेक्ट-75 के तहत फ्रांस के साथ छह स्कोर्पिन पनडुब्बियां बनाने का करार हुआ था। हालांकि वर्ष 2012 तक नौसेना को पहली सबमरीन मिल जानी चाहिए थी, लेकिन पहली स्कोर्पिन क्लास पनडुब्बी, कलवरी वर्ष 2017 में ही भारतीय नौसेना को मिल पाई थी। खंडेरी वर्ष 2019 में नौसेना की जंगी बेड़े में शामिल हुई थी। 10 मार्च यानी बुधवार को करंज के शामिल होने के बाद माना जा रहा है कि वेला भी इस साल के अंत तक नौसेना को मिल सकती है।
छठी पनडुब्बी बनना शुरू
स्कोर्पिन क्लास की पहली दो पनडुब्बी, आईएनएस कलवरी और आईएनएस खंडेरी पहले ही भारतीय नौसेना के जंगी बेड़े में शामिल हो चुकी हैं और समंदर में ऑपरेशनली तैनात हैं। चौथी पनडुब्बी वेला का समुद्री ट्रायल चल रहा है। पांचवी पनडुब्बी वागिर को भी समंदर में लॉन्च कर दिया गया है। स्र्कोिपन क्लास की छठी सबमरीन वगशीर मझगांव डॉकयार्ड में बननी शुरू हो गई है।
रुस, जर्मनी के साथ मिलकर बनाई पनडुब्बी
वर्तमान समय में भारत के पास 9 सिंधुघोष क्लास या किलो क्लास डीजल इलेक्ट्रिक पनडुब्बियां हैं। इन पनडुब्बियों का निर्माण रूस के रोसवुरुसहेनी एवं भारतीय रक्षा मंत्रालय के बीच हुए समझौते के अंतर्गत किया गया है। इसके अतिरिक्त चार अन्य पनडुब्बियां जर्मनी द्वारा निर्मित शिशुमार क्लास डीजल इलेक्ट्रिक पनडुब्बियां है। वर्तमान समय में परमाणु पनडुब्बी आईएनएस चक्र को दुनिया की सबसे शक्तिशाली पनडुब्बियों में से एक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here