Home देश दो चरणों में होगी जनगणना, जाति आधारित जनगणना-2011 के आंकड़े जारी करने...

दो चरणों में होगी जनगणना, जाति आधारित जनगणना-2011 के आंकड़े जारी करने का प्रस्ताव नहीं : सरकार

14
0

नई दिल्‍ली। केंद्र सरकार ने दो चरणों में जनगणना 2021 के आयोजन का फैसला किया है। गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में बताया कि एक चरण में मकानों की गिनती और आवास जनगणना जबकि दूसरे चरण में जनसंख्या गणना कराई जाएगी। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक पहले चरण के साथ राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को भी अपडेट करने का फैसला लिया गया है। वहीं एक समाचार एजेंसी मुताबिक सरकार ने बताया कि साल 2011 में कराई गई जाति आधारित (जनगणना-2011) के आंकड़े जारी करने का कोई प्रस्ताव नहीं है। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को बताया कि साल 2011 में ग्रामीण विकास मंत्रालय तथा तत्कालीन आवास और शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय की ओर से क्रमश: ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में सामाजिक आर्थिक और जाति जनगणना की गई थी। जाति संबंधी आंकड़ों को छोड़कर इस जनगणना के आंकड़ों को ग्रामीण विकास मंत्रालय और आवास एवं शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय की ओर से प्रकाशित किया जा चुका है। उन्‍होंने यह भी बताया कि कोरोना संकट के चलते जनगणना का पहला चरण और NPR का अपडेशन समेत अन्य संबंधित क्षेत्र की गतिविधियों को स्थगित कर दिया गया है। जाति संबंधी कच्चे आंकड़े सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय को आंकड़ों के वर्गीकरण और श्रेणीकरण के लिए उपलब्‍ध करा दिए गए हैं। सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की ओर से जारी की गई सूचना के मुताबिक फिलहाल जाति संबंधी आंकड़े जारी करने का कोई प्रस्ताव नहीं है। केंद्रीय मंत्री ने बताया कि जनगणना में उन जातियों एवं जनजातियों की जनगणना की जाती है जो संविधान (अनुसूचित जाति) आदेश 1950 और संविधान (अनुसूचित जनजाति) आदेश 1950 के अनुसार अधिसूचित हैं। देश में साल 1871 के बाद से हर 10वें साल जनगणना आयोजित होती थी। केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि आजादी के बाद भारत ने नीतिगत रूप से अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के अतिरिक्त जातिवार जनसंख्या की गणना नहीं करने का फैसला किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here