Home » महाकाल नगरी उज्जैन में एक और अशुभ संकेत, नंदी द्वार में लगा एक कलश टूटकर गिरा

महाकाल नगरी उज्जैन में एक और अशुभ संकेत, नंदी द्वार में लगा एक कलश टूटकर गिरा

उज्जैन में एक और दुर्घटना होने से बाल बाल बची। दरअसल यहां नंदी द्वार से कलश टूटकर गिर गया। बताया जा रहा है कि मध्य प्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन स्थित महाकाल लोक में कुछ ठीक नहीं चल रहा है यहां लगातार अशुभ संकेत मेिल रहे हैं। सप्तऋषि की छह मूर्तियां खंडित होने का मामला शांत होने के पहले ही अब महाकाल लोक में नंदी द्वार से कलश टूटकर गिरने की खबर सामने आई है।

रिपोर्ट्स की माने तो गुरुवार शाम नंदी द्वार पर लगा पत्थर का कलश अचानक टूटकर नीचे गिर गया। इस दौरान वहां की टाइल्स भी टूट गई। घटना के समय नंदी द्वार के आसपास कई श्रद्धालु भी पूजा -अर्चना में मग्न थे। हालाकि इस घटना में किसी श्रद्धालु को कोई चोट नहीं आई है। श्रद्धालु नंदी द्वार से ही महाकाल लोक में प्रवेश करते हैं। इसी में लड्‌डू के आकार के कुछ कलश लगे हैं। गुरूवार शाम अचानक द्वार के डिजाइन में लगा एक कलश टूटकर गिर गया।

हैरान करने वाली बात यह है कि गुरुवार को आंधी भी नहीं चली, इसके बावजूद भगवान नंदी द्वार का कलश गिर गया। गौरतलब है कि गुरुवार को घटना उस समय हुई जब महाकाल लोक प्रकरण का कवरेज करने कुछ मीडियाकर्मी भी वहां गए हुए थे। इसी दौरान 30 फीट ऊंचे पिलर से भारी भरकम कलस नीचे गिर गया।
शुक्रवार को व्यवस्था में थोड़ा हुआ बदलाव
महाकालेश्वर मंदिर में शुक्रवार 2 जून को नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल प्रचंड का आगमन हो रहा है। वे भगवान महाकाल के दर्शन के लिए सुबह 11 बजे मंदिर पहुंचेंगे तथा भगवान महाकाल की पूजा-अर्चना करेंगे। उनके साथ राज्यपाल मंगुभाई पटेल भी रहेंगे। वीआईपी आगमन होने के कारण श्री महाकालेश्वर मंदिर में सुबह से दोपहर तक दर्शन व्यवस्था में बदलाव किया गया है। वहीं श्री महाकाल लोक में भी आम जनों को दोपहर बाद ही प्रवेश मिलेगा

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd