Home भोपाल स्कूटी का ऑनलाइन पेमेंट करने के बहाने जालसाज ने महिला के खाते...

स्कूटी का ऑनलाइन पेमेंट करने के बहाने जालसाज ने महिला के खाते से निकाली रकम

11
0

बीते साल जून माह में पीडि़ता ने स्कूटी बेचने ओएलएक्स पर दिया था विज्ञापन
भोपाल।
ऐशबाग थाना क्षेत्र में रहने वाली एक महिला को अपनी पुरानी स्कूटी बेचने के लिए ओएलएक्स पर विज्ञापन देना महंगा पड़ गया। गाड़ी खरीदने के बहाने एक जालसाज ने ऑनलाइन पेमेंट भेजने के लिए क्यूआर कोड भेजा। फरियादी ने क्यूआर कोड स्कैन किया तो उसके खाते से 12 हजार रुपए कट गए। साल भर चली लंबी जांच के बाद ऐशबाग पुलिस ने धोखाधड़ी और आईटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज कर पड़ताल शुरू कर दी है। ऐशबाग पुलिस के अनुसार अर्चना भारद्वाज पति जॉगेश्वर (35)ओल्ड सुभाष नगर में परिवार के साथ रहती है। अर्चना ने 13 जून 2020 को अपनी पुरानी स्कूटी बेचने के लिए ओएलएक्स पर विज्ञापन पोस्ट किया था। 14 जून को सुबह एक व्यक्ति ने उसे फोन कर अपना नाम विकास पटेल बताया और खुद को सेना में पदस्थ होना बताया। जालसाज ने कहा कि उसकी बेटी भोपाल के दानिश नगर में रहती है और भोपाल में पढ़ती है। उसे स्कूल और कोचिंग आने-जाने के लिए स्कूटी खरीदना है। 17 हजार रुपए में सौदा तय होने के बाद जालसाज बोला कि कल मेरी बेटी आएगी और आपकी स्कूटी ले जाएगी। इसके बाद शाम को जालसाज ने एक अन्य मोबाइल नंबर से फरियादी महिला को फोन कर कहा कि मैं आज ही ऑनलाइन पेमेंट कर देता हूं। ऑनलाइन पेमेंट के लिए आपके मोबाइल पर एक क्यूआर कोड आएगा, उसको स्कैन करना है।
पहले खाते में पैसे आए, बाद में और कट गए
जालसाज के बताए अनुसार फरियादिया ने क्यूआर कोड स्कैन किया तो उसके खाते में पांच हजार रुपए आ गए। इसके बाद जालसाज ने कहा कि मैं फिर क्यूआर कोड भेज रहा है। इस कोड को स्कैन करोगे तो बाकी के 12 हजार रुपए भी आपके खाते में आ जाएंगे। इसके बाद क्यू आर कोड आता गया और महिला उसे स्कैन करती चली गई। जालसाज बार-बार यही कहता रहा कि पेमेंट रिजेक्ट हो रही है, एक बार और स्कैन कीजिए। इस तरह महिला ने छह बार क्यूआर कोड स्कैन किया। इसके बाद महिला ने अपने मोबाइल में चेक किया तो महिला के खाते में छह बार में 12 हजार रुपए कट चुके थे। महिला के खाते में 12 हजार आने की बजाए 12 हजार रुपए निकलने का पता चलते ही उसे ठगी का पता चला। इसके बाद उसने ऐशबाग थाने में शिकायत की थी। जांच के बाद पुलिस ने धोखाधड़ी व आईटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया है। आरोपी कौन है, इसका खुलासा नहीं हो सका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here