Home मध्यप्रदेश औद्योगिक ऑक्सीजन सिलिंडर का अब मेडिकल सिलिंडर के रुप में होगा उपयोग

औद्योगिक ऑक्सीजन सिलिंडर का अब मेडिकल सिलिंडर के रुप में होगा उपयोग

38
0

जबलपुर, औद्योगिक ऑक्सीजन सिलिंडर का उपयोग अब मेडिकल सिलिंडर में परिवर्तित कोरोना मरीजों का जीवन बचाने में किया जाएगा। जिला प्रशासन और जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र द्वारा जिले की ऐसी समस्त औद्योगिक इकाइयां से, जो ऑक्सीजन का उपयोग इकाई के उत्पादन में कर रही है को निर्देशित किया है कि कोविड 19 संक्रमण के बढ़ते दौर में औद्योगिक ऑक्सीजन सिलिंडर को जिले के ऑक्सीजन फिलर, एएसयू आदित्य एयर प्रोडक्ट, रिछाई, जबलपुर, जैनिम इंडस्ट्रीज रिछाई जबलपुर एवं संजीवनी एयर प्रोडक्ट, ग्राम लिट्टी पनागर को तत्काल उपलब्ध कराए। ताकि इन सिलिंडर को परवर्तित कर मेडिकल ऑक्सीजन सिलिंडर के रूप में उपयोग कर कोविड़ संक्रमितों के उपचार में किया जा सके। सभी इकाइयों के औद्योगिक सिलिंडर कोवीड 19 के संक्रमण के कम होने पर ऑक्सीजन फिलर, एएसयू इकाइयों द्वारा वापस कर दिए जाएंगे।

रेमडिसिविर की कालाबाजारी करने पर दो को जेल: रेमडिसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर निर्धारित मूल्य से अधिक मूल्य 18 हजार रुपए में बेचने वालों को अब जेल की हवा खानी पड़ेगी। जिला दंडाधिकारी व कलेक्‍टर कर्मवीर शर्मा ने पुलिस अधीक्षक से प्राप्त प्रतिवेदन के आधार पर रेमडेसिविर की कालाबाजारी करने वाले दो आरोपितों को जेल भेजने के आदेश जारी किए हैं।

छह माह की जेल: कलेक्‍टर ने आरोपित नितिन विश्वकर्मा उम्र 22 साल निवासी कटियाघाट गौर नदी के पास चौकी गौर थाना बरेला जिला जबलपुर (मप्र) के विरूद्ध चोरबाजारी निवारण और आवश्यक वस्तु प्रदाय अधिनियम 1980 की धारा 3 की उपधारा (1) (2) के तहत अनावेदक को 6 माह की अवधि के लिए केन्द्रीय जेल में निरूद्ध करने का आदेश दिया गया है। इसी तरह रेमडिसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर निर्धारित मूल्य से अधिक मूल्य 18 हजार रुपए में बेचने पर पुलिस अधीक्षक से प्राप्त प्रतिवेदन के आधार सुदामा बघेल उम्र 41 साल निवासी पुष्पनगर थाना लार्डगंज के विरूद्ध चोरबाजारी निवारण और आवश्यक वस्तु प्रदाय अधिनियम 1980 की धारा 3 की उपधारा (1) (2) के तहत अनावेदक को 6 माह की अवधि के लिए केन्द्रीय जेल में निरूद्ध करने का आदेश दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here