Home » दमोह के गंगा जमुना स्कूल से ड्रेस से हटाया हिजाब, प्रार्थना भी नहीं होगी

दमोह के गंगा जमुना स्कूल से ड्रेस से हटाया हिजाब, प्रार्थना भी नहीं होगी

कक्षा दसवीं-12वीं का माध्यमिक शिक्षा मंडल का परीक्षा परिणाम जारी होने के बाद दमोह के गंगा-जमुना स्कूल द्वारा अपने स्कूल के टॉपर छात्रों का जो पोस्टर बनवाकर सार्वजनिक चौराहों पर लगवाया था, उसको लेकर विवाद का पटाक्षेप होने वाला है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सख्ती के बाद गंगा-जमुना स्कूल प्रबंधन ने खेद व्यक्त करते हुए स्कार्फ को स्वैच्छिक बताया है। वहीं दमोह कलेक्टर ने बताया कि स्कार्फ/हिजाब को स्कूल ड्रेस से हटवाने के साथ धर्म विशेष की लिखी कविता की प्रार्थना भी बंद करा दी गई है। ज्ञात हो कि हिंदूवादी संगठनों और राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग द्वारा इस मामले में हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाने और स्कूल में प्रार्थना के दौरान राष्ट्रगान के बाद एक धर्म विशेष की प्रार्थना करने का भी आरोप लगाया था। इसके बाद छात्राओं के अभिभावकों ने कहा कि गंगा जुमना स्कूल के संचालक इदरीश खान वर्षों से ड्रेस कोड का हवाला देकर हिजाब टाइप का कपड़ा लड़कियों को पहनवाते थे।

ऐसे स्कूल मध्यप्रदेश में नहीं चलने देंगे

शुक्रवार को छतरपुर पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि दमोह में एक विद्यालय में स्कूल में बेटियों को सिर पर कुछ बांधकर ही आओ, ये नियम बना दिया था। उस व्यक्ति के नाम से जिसने भारत का विभाजन करवाया उसकी कविता पढ़ाई जा रही थी। मैं सावधान करना चाहता हूं, मध्य प्रदेश की धरती पर ऐसी हरकतें नहीं चलेंगी। प्रधानमंत्री के द्वारा जो नई शिक्षा नीति लागू की गई है वहीं शिक्षा नीति लागू होगी। उसके खिलाफ अगर कोई दूसरी चीज स्कूल में पढ़ायेगा या किसी बेटी को सिर पर स्कॉप या कोई दूसरी चीज बांधकर आओ। इसके लिए मजबूर करेगा तो वैसे स्कूल मध्यप्रदेश में चल नहीं पाएगा। यह मध्यप्रदेश में नहीं चलने देंगे। शिक्षा नीति के हिसाब से यहां शिक्षा देने का काम होगा।

कलेक्टर ने की कार्रवाई

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सख्त तेवर के बाद दमोह कलेक्टर ने स्कूल प्रबंधन से जवाब तलब किया है। कलेक्टर ने स्कूल संचालक को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है, वहीं प्रात:कालीन प्रार्थना में अब केवल राष्ट्रगान जन गण मन होगा। पहले जन गण मन के बाद साथ ही लब पे आती है दुआ सरीखे गीत भी गाए जाते थे। जिस पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। स्कूल प्रबंधन ने अब ड्रेस से स्कार्फ, हिजाब का बंधन भी हटा दिया है। कलेक्टर दमोह ने कहा मुख्यमंत्री के सख्त निर्देश पर स्कूल मामले में गठित समिति द्वारा जांच जारी रहेगी कि ये सब किन परिस्थितियों में हुआ।

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd