Home भोपाल सीडीपीओ प्रतिनिधि मंडल की संचालक से होगी मुलाकात आज

सीडीपीओ प्रतिनिधि मंडल की संचालक से होगी मुलाकात आज

38
0

स्वदेश संवाददाता। भोपाल महिला एवं बाल विकास विभाग की 453 परियोजनाओं में कार्य करने वाले परियोजना अधिकारियों की समस्याओं का समाधान निकालने के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग के उच्चाधिकारियों का सकारात्मक सहयोग न मिलने के चलते उन्होने 26 फरवरी के पहले एक घंटे का समय मांगा था। संगठन की चिट्ठी पर विभागीय संचालक ने समक्ष में चर्चा करने के लिए 25 फरवरी को सुबह 10.30 बजे का समय निर्धारित करते हुए दिया है। हालांकि विभाग में आयुक्त का पद एक साल से खाली होने के कारण विभागीय अधिकारियों और कर्मचारियों की समस्याएं सुलझने की वजाय उलझती ही जा रहीं हैं। उल्लेखनीय है कि कोरोनाकाल के समय से वर्तमान तक विभाग के उच्चाधिकारियों का सकारात्मक सहयोग नही मिलने के कारण लगभग 400 से अधिक अधिकारी-कर्मचारी ने स्वेच्छा निवृत्ति ले ली है, जो कि यह शासन स्तर पर विभागीय समीक्षा का विषय आज भी बना हुआ है।
मैदानी अमला होगा सम्मानित
महिला बाल विकास विभाग द्वारा मैदानी स्तर पर कार्यरत अधिकारियों-कर्मचारीयों को उनके उत्कृष्ट कार्यों के लिये प्रोत्साहित करने का निर्णय लिया गया है। इसमें ओवर-ऑल परफारमेंस ग्रेडिंग के आधार पर आंगनवाडी कार्यकर्ता से लेकर परियोजना अधिकारी स्तर तक के उत्कृष्ट वर्कर्स को कर्मचारी ऑद द मंथ के रूप में चयनित किया जायेगा। चयनित अधिकारी-कर्मचारी को प्रतिमाह विभागीय एमआईएस पोर्टल के होम पेज पर प्रदर्शित किया जायेगा। विभाग द्वारा राज्य स्तर पर चयनित एक आंगनवाडी कार्यकर्ता और एक-एक पर्यवेक्षक और परियोजना अधिकारी को कर्मचारी ऑफ मंथ के रूप में चयनित किया जायेगा। संभाग स्तर पर एक-एक पर्यवेक्षक और परियोजना अधिकारी जिला स्तर पर एक-एक आंगनवाडी कार्यकर्ता और पर्यवेक्षक तथा परियोजना स्तर पर आंगनवाडी कार्यकर्ता ऑफ द मंथ के रूप में चयन किया जायेगा।
इन्होने बताया
प्रदेश के सभी परियोजना अधिकारियों की मांगे लंबे समय से लंबित थीं, जिन पर सकारात्मक विचारधारा के साथ उनका निराकरण नहीं किया जा रहा था, इस कारण उच्चाधिकारियों से 26 फरवरी के पूर्व समक्ष में चर्चा करने का समय मांगा था, जिस पर 25 फरवरी की सुबह संचालक ने प्रतिनिधि मंडल के साथ समस्याओं पर बिंदुवार चर्चा करने का समय दिया है। आगे की रणनीति चर्चा के बाद तय की जाएगी7
-इंद्रभूषण तिवारी, प्रदेश सचिव, आईसीडीएस परियोजना अधिकारी संघ मप्र.

Previous articleबिलासपुर के किसान का कमाल, खेतों में उगाई गुलाबी और पीले रंग की फूलगोभी
Next articleडागा हाईट व रिगालिया टावर के अवैध निर्माणों पर चला बुलडोजर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here