Home भोपाल पश्चिम बंगाल में भय एवं आतंक का वातावरण यथावत : धर्मदास

पश्चिम बंगाल में भय एवं आतंक का वातावरण यथावत : धर्मदास

9
0
  • भारतीय मजदूर संघ ने 03 जून को मध्यप्रदेश के भोपाल सहित सभी जिलों में मनाया एक जुटता दिवस

स्वदेश संवाददाता, भोपाल

पश्चिम बंगाल में 02 मई 2021 को विधानसभा निर्वाचन की मतगणना के तुरन्त बाद ही संपूर्ण राज्य में भयंकर हिंसा का तांडव शुरु हो गया था, विभिन्न माध्यमों से प्राप्त समाचार पुलिस प्रशासन को की गई शिकायत एवं हिंसा पीडितों द्वारा घटनाओं के वर्णन से यह स्पष्ट हो गया है कि यह केवल राजकीय हिंसा नहीं अपितु पूर्व कल्पित सुनियोजित ढंग से किया गया जेहादी आक्रमण है, जिसका लक्ष्य निश्चित संस्था और संगठनों के कार्यकर्ता और समर्थक और विशेष रुप से हिन्दु समाज है।

कू्र हत्या, महिलाओं के साथ अभ्रदता व आक्रमण मारपीट करना घायलों को अस्पताल जाने से रोकना घरों को आग लगाना, दुकानों में लूट-पाट, फसल उजाडऩा फल बगान के वृक्षों को काट लेना, लोगों को भगा देना, बुलडोजऱ से घरों को गिरा देना, घरों की जल एवं भोजन की आपूर्ति बन्द कर देना, जैसे बर्बरतापूण कृत अनगिनत संख्या में किए गये। उक्त घटना के 10 दिन बाद भी कई स्थानों पर हिंसा चलती रही ।


इसके चलते बड़ी संख्या लोग बेघर होकर निर्वासित हुए। इसके बाद से रोजगार बंद है, भय एवं आतंक का वातावरण यथावत है। प्राय: सभी जिलों में अनगिनत गांव हिंसा की चपेट में आए है, जिसमें हजारों लोग प्रभावित हुए हैं। उक्त विचार भारतीय मजदूर संघ मध्यप्रदेश के क्षेत्रीय संगठन मंत्री, श्री धर्मदास शक्ल ने गुरूवार 03 जून को एक जुटता दिवस के रूप में विरोध दिवस मनाते हुए व्यक्त किए हैं।

हिंसा की तीव्र निंदा की

श्री शुक्ला ने बताा कि भारतीय मजदूर संघ ने 03 जून को बंगाल में हुई हिंसा तथा भारतीय मजदूर संघ के सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट एवं उनके घर उजाडऩे की तीव्र निंदा की है और बंगाल में लगभग 24 हजार लोगों के घर उजडऩे के कारण भारतीय मजदूर संघ भी प्रदेश के सभी जिलों में एक जुटता दिवस मनाकर टीएमसी. के गुण्डों द्वारा मचाएं गये आतंक का विरोध करता है तथा आम जनता के साथ एक जुटता के साथ खड़ा है।

भोपाल में मनाया विरोध दिवस

श्री शुक्ला ने बताया कि भोपाल में भी एकजुटता दिवस के माध्यम से विरोध दिवस मनाया, जिसमें भारतीय मजदूर संघ के अखिल भारतीय उपाध्यक्ष जयंतीलाल ने बंगाल की परिस्थितियों की जानकारी दी और कहा कि वहां लोगों के पुर्नवास के लिए मुक्त हस्त से सहायता प्रदान करें, ताकि 24 हजार से अधिक निर्वासित लोगों के लिए आवास बनाया जा सकें। इस अवसर पर विरोध दिवस के रूप में भारतीय मजदूर संघ के राष्ट्रीय मंत्री, रामनाथ गणेश, भारतीय मजदूर संघ म.प्र. के सयुक्त महामंत्री अरविंद मिश्रा आदि ने संबोधित किया।

विभागों के प्रतिनिधि हुए शामिल

भारतीय मजदूर संघ ने पूरे देश में बंगाल में हिंसा के शिकार हुए लोगों के लिए एक जुटता दिवस मनाया है, इसी कड़ी में भोपाल भारतीय मजदूर संघ कार्यालय, ठेंगड़ी भवन में बंगाल में हुए घटनाक्रम के खिलाफ एक जुटता कार्यक्रम में बिजली, रेलवे, भेल, दुग्ध संघ राज्य कर्मचारी संघ, राजीव गांधी प्रोद्योगिक महासंघ, कपड़ा मिल आदि के प्रतिनिधी शामिल रहें। उक्त जानकारी प्रदेश कार्यालय मंत्री दीपक गुप्ता ने मीडिया को शेयर करते हुए दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here