Home भोपाल कोरोना मामलों की समीक्षा: अनलॉक में कोविड नियमों का उल्लंघन करने वालों...

कोरोना मामलों की समीक्षा: अनलॉक में कोविड नियमों का उल्लंघन करने वालों से सख्ती से निपटें: शिवराज

11
0

स्वदेश ब्यूरो, भोपाल।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि जन सामान्य को राहत देने के लिए प्रदेश में कफ्र्यू में राहत दी गई है,लेकिन कोविड नियमों का पालन करना जरूरी है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि अनलॉक में कोविड नियमों का उल्लंघन करने वालों से सख्ती से निपटा जाए।

श्री चौहान ने उक्त निर्देश मंगलवार को कोरोना मामलों की समीक्षा के दौरान दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश से कोरोना संक्रमण पूरी तरह विदा हो और आगे यह न फैले,इसके लिए सभी को कोविड अनुकूल व्यवहार करने व वैक्सीन लगवाना जरूरी है। इस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि प्रत्येक जिले में अनलॉक प्रक्रिया पर पूरी नजर रखी जाए। कहीं भी कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन न हो, यह सुनिश्चित किया जाए। इसके लिए लोगों को जागरूक करने के साथ ही सख्ती भी की जाए।

कोरोना के 535 नए मरीज

मंगलवार को प्रदेश में कोरोना के 535 नए प्रकरण मिले। वहीं 1376 व्यक्ति स्वस्थ हुए हैं और एक्टिव मरीजों की संख्या 7 हजार 983 है। प्रदेश की 7 दिनों की औसत पॉजिटिविटी दर 0.9 प्रतिशत और आज की पॉजिटिविटी दर 0.7प्रतिशत रही।

अब अस्पतालों में 3 हजार 462 मरीज

बैठक में बताया गया कि प्रदेश के कुल एक्टिव मरीजों में से 4 हजार 521 होम आयसोलेशन और 3 हजार 462 अस्पतालों में हैं। अस्पताल में भर्ती मरीजों में से एक हजार 421 आई.सी.यू. में, 1326 ऑक्सीजन बेड्स पर और 715 सामान्य बिस्तरों पर हैं।

प्रदेश में 7 जिलों में कोरोना के 10 से अधिक प्रकरण आए हैं। इंदौर में 179, भोपाल में 124, जबलपुर में 46, रतलाम में 13, ग्वालियर में 12, खरगोन में 11 और अनूपपुर में 11 नए प्रकरण आए हैं। राज्य के पाँच जिले इंदौर, भोपाल, जबलपुर, रतलाम और बैतूल में ही एक प्रतिशत से अधिक साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर है। जबकि 6 जिलों अलीराजपुर, भिंड, छतरपुर, कटनी, सिंगरौली और टीकमगढ़ में कोरोना का कोई प्रकरण नहीं आया है। चार जिलों अशोकनगर, मुरैना, सीहोर और श्योपुर में एक-एक नए प्रकरण आए हैं। अलीराजपुर कोरोना मुक्त है।

टीकाकरण के लिए करें जागरूक

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि कोरोना वैक्सीनेशन के प्रति लोगों में जागरूकता लाई जाए। इससे संबंधित सभी भ्रान्तियों को दूर किया जाए, 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के हर व्यक्ति का टीकाकरण हो और वैक्सीन की एक भी खुराक बेकार नहीं जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here