Home भोपाल बड़े अतिक्रमणों को संरक्षण, छोटे अतिक्रमणों पर कार्रवाई

बड़े अतिक्रमणों को संरक्षण, छोटे अतिक्रमणों पर कार्रवाई

23
0
  • शहर की सुंदरता को दीमक की तरह चट कर रहे पॉश क्षेत्रों के अतिक्रमण, फैल रही अव्यवस्थाएं

स्वदेश संवाददाता। भोपाल

नगर निगम का अतिक्रमणकारी अमला छुटपुट और हाथ ठेला इत्यादि के अतिक्रमणों को हटाकर हर रोज वाहवाही लूटने का कार्य कर रही है, जबकि वास्तिविकता यही है कि शहर में चहुंओर इस कदर अतिक्रमणों का जाल बिछता जा रहा है, जिसको न ही नगर निगम के अतिक्रमण प्रभारी को दिख रहा है और न ही जिला प्रशासन के राजस्व अमले को दिखाई दे रहा है।

पुराने भोपाल के अतिक्रमणकारियों ने नए भोपाल की तरफ रुख करते हुए स्थाई अतिक्रमण कर अपने व्यवसायों को सजाकर रखा हुआ है, जो जिम्मेदारों की कमाई का साधन बना हुआ है। नगर निगम आयुक्त ऐसे अतिक्रमणकारियों पर कार्रवाई करवाने से क्यों कतरा रहे हैं, यह एक चिंतनीय विषय बना हुआ है।

धरातल पर निरीक्षण जरूरी

सुभाष नगर अंडर ब्रिज के पास मैदामिल मार्ग पर फर्नीचर का अतिक्रमण, शासकीय प्रेस तिराहे पर सब्जी वालों का स्थाई अतिक्रमण, बागमुगलिया और बागसेवनिया मार्ग पर हरित भूमि पर टीन शेड से बड़े-बड़े शोरुम बनाकर किए जाने वाले व्यवसायों का अतिक्रमण, साकेत नगर इत्त्यादि जगहों पर स्थाई अतिक्रमणों की बाढ़ आ गई है। जिनको समय रहते नहीं हटाया गया तो आने वाले समय में नया भोपाल पुराने भोपाल से भी ज्यादा अतिक्रमणकारियों का केन्द्र बन जाएगा। इस तरह के अतिक्रमणों पर कार्रवाई करने के लिए धरातल पर जिम्मेदारों का निरीक्षण जरूरी है।

Previous articleवेलफेयर एसोसिएशन अध्यक्ष बने अनिल वाजपेयी
Next articleकांफ्रेंस से हिन्दुत्व ‘डिस्मैंटल’ हुआ या होगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here