Home भोपाल 12 साल से कम उम्र के बच्चों के माता-पिता को पहले लगेंगे...

12 साल से कम उम्र के बच्चों के माता-पिता को पहले लगेंगे टीके: शिवराज

10
0

* तीसरी लहर आई तो बच्चों की देखरेख होगी आसान
*प्रदेश में एक लाख से अधिक कोरोना वालेंटियर्स, होंगे सम्मानित

स्वदेश ब्यूरो, भोपाल।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है। इसे ध्यान में रखते हुए 12 साल से कम उम्र के माता-पिता को पहले टीका लगाया जाएगा,ताकि बच्चे बीमार हुए तो पालकों के लिए उनकी देखरेख सुरक्षित व आसान होगी।

मुख्यमंत्री ने यह बात आज मंत्रालय में मीडिया को जारी संदेश में कही। उन्होंने कहा कि तीसरी लहर को लेकर सरकार ने सभी आवश्यक तैयारियां तेज कर दी हैं। अलग-अलग स्तर पर बच्चों के विशेष वार्ड बनाने का फैसला लिया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन माता-पिता के बच्चों की उम्र 12 वर्ष से कम है ,ऐसे अभिभावकों को टीकाकरण में प्राथमिकता दी जायेगी। ताकि किसी बच्चे को यदि संक्रमण हुआ तो बच्चे के साथ माता या पिता का रहना आवश्यक होगा।

माता-पिता का टीकाकरण हो जायेगा तो वे बच्चों की देख.भाल करते रहेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी तरह जो बच्चे शिक्षा प्राप्त करने विदेश जाना चाहते हैं,उनका प्राथमिकता के साथ टीकाकरण किया जाएगा। जिससे वे सुरक्षित विदेश जा सकें और शिक्षा प्राप्त कर सकें।

राष्ट्रीय पर्व पर सम्मनित होंगे कोरोना वॉलेंटियर्स

श्री चौहान ने कोरोना वालेंटियर्स तथा जन-अभियान परिषद के जिला समन्वयकों को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना वालेंटियर्स को 15 अगस्त और 26 जनवरी को प्रमाण-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि सभी धर्मों में पीडि़त व्यक्ति की मदद को सबसे बड़ा पुण्य माना गया है। कोरोना की आपदा सदियों में आया भयानक संकट है। ऐसे में पीडि़त मानवता की सेवा के लिए अपनी जान को खतरे में डालते हुए आगे आये वॉलेंटियर्स के समपज़्ण और कर्मठता को देखकर मैं अभिभूत हूँ।

जनभागीदारी मॉडल ने पेश किया उदाहरण

मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोरोना नियंत्रण में प्रदेश के जन-भागीदारी मॉडल ने देश के सामने एक उदाहरण प्रस्तुत किया है। ग्राम, वार्ड, जनपद, शहरों और जिलों में जनता के साथ आने तथा क्राइसिस मेनेजमैंट कमेटियों द्वारा जिम्मेदारी लेकर जनता कफ्र्यू में सहयोग करने के परिणाम स्वरूप ही प्रदेश में कोरोना नियंत्रित हो पाया है।

‘ मैं कोरोना वॉलेंटियर अभियानÓ भी इस पूरी मुहिम का सशक्त अंग रहा है। कोरोना को नियंत्रित रखने और तीसरी लहर को रोकने के लिए बड़े पैमाने पर प्रदेशवासियों को इस अभियान से जोडऩा होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने एनसीसी, एनएसएस कैडेट्स, युवाओं और किशोरों से कोरोना वालेंटियर बनने की अपील की।

वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा,जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष विभाष उपाध्याय कार्यक्रम में उपस्थित थे। जबकि जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट तथा पर्यटन, संस्कृति एवं अध्यात्म मंत्री सुश्री उषा ठाकुर वर्चुअली शामिल हुए।

1 लाख 19 हजार से अधिक हैं कोरोना वॉलेंटियर

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सिंगरौली, इंदौर, उज्जैन, जबलपुर, शहडोल, सतना, ग्वालियर और भोपाल के कोरोना वॉलेंटियर्स से वचुज़्अली बातचीत भी की। ‘मैं कोरोना वॉलेंटियरÓ अभियान से अब तक 1 लाख 19 हजार 730 से अधिक व्यक्ति जुड़े हैं।

इनमें से लगभग 61 हजार से अधिक वालेंटियर्स ने वैक्सीनेशन समन्वयक, चिकित्सा सुविधा समन्वयक, मास्क जागरूकता समन्वयक, मोहल्ला टोली संगठन समन्वयक और दान श्रेणी के अंतर्गत प्रतिदिन सक्रिय रहते हुए अपना योगदान दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here