मप्र भाजपा ने किया मिशन-2023 का आगाज

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp
  • प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में लिया संकल्प : कांग्रेस की छल-कपट की राजनीति को मात देकर बढ़ाएंगे दस प्रतिशत मत
  • स्वदेश संवाददाता, भोपाल

राज्य विधानसभा के अगले आम चुनाव में दो साल का वक्त है,लेकिन प्रदेश भाजपा ने मिशन-2023 की तैयारी शुरू कर दी है। शुक्रवार को प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की बैठक में दस प्रतिशत मत बढ़ाने के लक्ष्य का संकल्प लिया गया। इस दौरान भाजपा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि हर हाल में उसकी छल-कपट की राजनीति को हम मात देकर रहेंगे।

चार सत्रों में आयोजित इस बैठक की शुरुआत पार्टी प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा के अध्यक्षीय भाषण के साथ शुरू हुआ। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह एवं पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा के देश हित में लिए गए फैसलों की सराहना करते हुए कहा कि केंद्र हो या प्रदेश की शिवराज सरकार। हमारे पास दोनों ही सरकारों की अनेक उपलब्धियां हैं। केंद्रीय नेतृत्व ने पूरे देश में पार्टी का वोट प्रतिशत 51 प्रतिशत से अधिक करने का लक्ष्य तय किया है। प्रदेश इकाई भी इस लक्ष्य को हासिल करने दिन-रात एक करेगी।

उन्होंने कहा कि हमें हर बूथ पर 10 से 11 प्रतिशत तक पार्टी के पक्ष में मत बढ़ाना है। यही संकल्प लेकर आगे बढऩा है। इसके लिए हमें लोगों के मन जीतना होगा, हमारी केंद्र और राज्य सरकारों ने गरीब कल्याण की जो योजनाएं शुरू की हैं, उन्हें जन-जन तक पहुंचाना होगा। हमें सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास के संकल्प के साथ आगे बढऩा है। छल-कपट की राजनीति करने वालों को जवाब देना है और 2023 में जीत का इतिहास बनाना है।

सकारात्मक रहें, लें जन सेवा का संकल्प: शिवराज

बैठक के समापन सत्र को मुख्यंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि जीवन में जनसेवा का संकल्प जरूरी है। राजनीति तो फिर सेवा का ही माध्यम है। कभी-कभी कार्यकर्ता को संगठन से नाराजगी भी हो जाती है, लेकिन मैं कहना चाहूंगा कि आप निष्ठा के साथ जनसेवा के कार्य में संकल्पित होकर जुटे रहें। आप समर्पित होंगे तो संगठन भी आपकी चिंता करेगा। इसलिए कार्यकर्ता सदैव उत्साह, प्रसन्नता और सेवा भाव के साथ रहें। नकारात्मक विचार और संकीर्ण सोच के साथ आप संगठन और जन सेवा नहीं कर सकेंगे।

सरकार और संगठन के साथ जनसेवा के लिए सदैव उत्साह से तत्पर रहें। सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार हम सभी कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी है। हम इन योजनाओं के लाभ के लिए पात्र नागरिकों की मदद करें और अन्य सभी लोगों को जानकारी दें। हमारी सरकार की योजनाएं लोगों के जीवन को बदल देने वाली हैं।

कन्यापूजन हमारी संस्कृति का अभिन्न अंग

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं रोज एक पौधा रोप रहा हूं। प्रदेश की लाखों कन्याओं को लाड़ली लक्ष्मी का दर्जा दिया। उन्होंने कहा कि जब हम कार्यक्रम में कन्या पूजन करते हैं, तो कांग्रेस के लोग मजाक उड़ाते हैं। उन्हें पता नहीं कि कन्या पूजन हमारी संस्कृति का अभिन्न अंग है। मैं चाहता हूं कि संगठन भी इन बेटियों के साथ उनके माता-पिताओं को आमंत्रित कर उनका सम्मान करें। उन्होंने कहा कि वर्तमान राजनीति में लोगों से जुड़ाव के लिए सोशल मीडिया पर सक्रियता भी जरूरी है।

ली संविधान की शपथ, राजनीतिक प्रस्ताव पारित

कार्यसमिति की बैठक के दौरान सभी पदाधिकारियों संविधान दिवस की शपथ दिलाई गई और डा.भीमराव आंबेडकर के चित्र पर माल्यापर्ण किया गया। प्रदेश की सह प्रभारी पंकजा मुंडे ने संविधान दिवस पर केंद्रित अपनी बात रखी। उन्होंने कांग्रेस की इस बात को लेकर आलोचना की कि पार्टी द्वारा संविधान दिवस का बहिष्कार किया।

इससे कांग्रेस की संविधान निर्माता डा. भीमराव आंबेडकर के प्रति उनकी निष्ठा उजागर हो गई। इस दौरान राजनीतिक प्रस्ताव भी पारित हुआ। इसमें स्व.कुशाभाऊ ठाकरे जन्म शताब्दी वर्ष के दौरान पार्टी के तय कार्यक्रमों को क्रियान्वित करने एवं वोट प्रतिशत बढ़ाने के लक्ष्य पर काम करने का संकल्प लिया गया।

कुशाभाऊ ठाकरे के नाम से जाना जाएगा मिंटो हाल

पुरानी विधानसभा वाला मिंटो हाल निकट भविष्य में भाजपा के पितृ पुरुष स्व.कुशाभाऊ ठाकरे के नाम से जाना जाएगा। यह घोषणा शुक्रवार को प्रदेश कार्यसमिति के समापन सत्र को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने की। उन्होंने कहा कि श्रद्धेय ठाकरे जीवन पर्यन्त राष्ट्र सेवा के लिए समर्पित रहे। उन्होंने असंख्य कार्यकर्ताओं को संस्कारित कर राष्ट्र सेवा के लिए समर्पित किया।

दो दिन पहले उठी नाम बदलने की मांग: गौरतलब है कि दो दिन पहले ही मिंटो हॉल का नाम बदलने की मांग उठी। भाजपा के संगठन मंत्री रजनीश अग्रवाल ने इसका नाम सागर विश्वविद्यालय के संस्थापक एवं संविधान सभा के उप सभापति रहे डॉ.हरिसिंह गौर के नाम पर किए जाने की मांग रखी। प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने इसका समर्थन करते हुए मुख्यमंत्री से चर्चा करने की बात कही।

जानकारों के अनुसार,पुराना विधानसभा भवन व मिंटो हॉल के नाम से जाने वाले इस भवन की नींव वर्ष 1909 को रखी गई थी। बताया जाता है कि इस वर्ष भारत के तत्कालीन वायसराय लॉर्ड मिंटो भोपाल आए थे। उन्हें उस समय के गेस्ट हाउस राजभवन में रुकवाया गया था लेकिन वायसराय वहां की व्यवस्था देखकर काफ ी नाराज हुए। इसे देखते हुए तत्कालीन नवाब सुल्तानजहां बेगम ने एक हॉल बनवाने का निर्णय लिया और इसकी नींव वायसराय लॉर्ड मिंटो से रखवाई। बाद में उन्हीं के नाम पर इसका नामकरण हुआ।

मिंटो हॉल भवन का आकार जॉर्ज पंचम के मुकुट के समान था। भवन के निर्माण की अधिकांश सामग्री इंग्लैंड से मंगवाई गई थी। उस समय भवन के निर्माण की लागत लगभग तीन लाख रुपये थी। काफ ी लम्बे समय तक मिन्टो हॉल का उपयोग भोपाल राज्य की सेना के मुख्यालय के रूप में होता रहा। भोपाल के नवाब हमीदुल्ला के समय इसका फ र्श संगमरमर का बनवाया गया और नवाब की बड़ी बेटी आबिदा बेगम ने इसे स्केटिंग का मैदान बना दिया। बाद के समय में इस हॉल का एक हिस्सा पुलिस मुख्यालय तथा सुरक्षा विभाग को दे दिया गया।

कॉलेज व विधानसभा भवन से बना कन्वेंशन सेंटर

1946 में इसे इंटर कॉलेज बनाया गया, जो बाद में ‘हमीदिया कॉलेज’ के रूप में स्थापित हुआ। ये कॉलेज 1956 तक चलता रहा। सितम्बर 1956 में इसका चयन विधानसभा भवन के लिये हुआ और 1 नवम्बर 1956 से इसका मध्यप्रदेश के विधानसभा भवन के रूप में किया गया। शिवराज सरकार ने करीब 32 करोड़ की लागत से आकर्षक साज सजावट के साथ इसे कन्वेंशन सेंटर में बदला। वर्तमान में पयर्टन विकास निगाम के अधीन है। अब इसका नामकरण स्वर्गीय कुशाभाऊ ठाकरे के नाम पर करने की तैयारी है।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Recent News

Related News