Home भोपाल नर्मदापुरम संभाग को 31 मई तक कोरोना मुक्त करें: मुख्यमंत्री

नर्मदापुरम संभाग को 31 मई तक कोरोना मुक्त करें: मुख्यमंत्री

14
0
  • कोरोना की जड़ों पर करें अंतिम प्रहार
  • प्रत्येक पीड़ित परिवार की मदद के लिये तत्पर है राज्य सरकार
  • एक जून से क्रमबद्घ रूप से हटाया जाएगा कोरोना कर्फ्यू
  • मुख्यमंत्री ने की नर्मदापुरम संभाग में कोविड की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में आ गई है। जन-प्रतिनिधियों, सांसद, विधायक, अधिकारी, कर्मचारी और जन-समुदाय आदि सभी के समन्वित प्रयासों से यह संभव हो पाया है।

प्रदेश में पॉजिटिविटी रेट घटकर 4.2 प्रतिशत पर पहुँच गई है। किन्तु थोड़ी सी भी लापरवाही परेशानी का सबब बन सकती है, इसलिए कोरोना की जड़ों पर अंतिम प्रहार करें और ग्राम, वार्ड, पंचायत एवं पूरे जिले को 31 मई तक कोरोना मुक्त करें। राज्य सरकार प्रत्येक पीड़ित परिवार की हरसम्भव मदद के लिये तत्पर है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज होशंगाबाद जिले के एनआईसी कक्ष में नर्मदापुरम संभाग के तीनों जिले बैतूल, हरदा एवं होशंगाबाद में कोविड की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि एक जून से क्रमबद्ध रूप से गतिविधियाँ सामान्य की जाएगी। किन्तु 31 मई तक पूरे संभाग में कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन किया जाए। शादी समारोह आदि भीड़भाड़ वाले आयोजन 31 मई तक टाले।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान होशंगाबाद के एनआईसी कक्ष में

सांसद श्री उदय प्रताप सिंह, विधायक सर्वश्री डॉ. सीतासरन शर्मा, श्री विजयपाल सिंह, श्री ठाकुर दास नागवंशी और श्री प्रेमशंकर वर्मा, कमिश्नर श्री रजनीश श्रीवास्तव, पुलिस महानिरीक्षक श्री जे.एस. कुशवाह, कलेक्टर श्री धनंजय सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री संतोष सिंह गौर उपस्थित रहे।

माइक्रो कंटेनमेंट जोन में सघन निगरानी की जाए

मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिक संक्रमण वाले ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाया जाए। ऐसे क्षेत्रों में प्रशासन पूरी ताकत से सर्दी, खाँसी एवं बुखार के मरीजों को पहचान कर तत्काल मेडिकल किट उपलब्ध कराकर इलाज कराये। इस कार्य में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप सक्रिय भूमिका निभाएं। संक्रमित व्यक्तियों के लिए होम आइसोलेशन की व्यवस्था परफेक्ट हो। घरों में पर्याप्त स्थान न होने की दशा में कोविड केयर सेंटर में भर्ती किया जाए। सेनिटाईजेशन कार्य निरंतर जारी रखे।

ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग करें

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आक्रामक टेस्टिंग रणनीति अपनाई जाकर ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग कार्य किया जाए। क्षेत्रवार रणनीति अपनायी जाकर मोबाइल टेस्टिंग भी की जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि एक-एक मरीज की जान बचाने के पूरे प्रयास किए जाए। वेंटिलेटर, ऑक्सीजन बेड्स में भर्ती प्रत्येक मरीज की सघन मॉनिटरिंग करें।

तीसरी लहर के लिए आवश्यक तैयारियाँ सुनिश्चित करें

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर का सामना करने के लिए नर्मदापुरम संभाग में भी आवश्यक तैयारियाँ सुनिश्चित करें। कोरोना प्रोटोकॉल का इतनी सख्ती से पालन किया जाए कि तीसरी लहर आएं ही नहीं। ऑक्सीजन बेड्स, आईसीयू बेड्स बढ़ाएं जाए। ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना पर राज्य सरकार अनुदान और बिजली शुल्क में रियायत देगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ब्लैक फंगस के इलाज की भी समुचित व्यवस्थाएँ सरकार द्वारा की जा रही हैं। ब्लैक फंगस के इलाज के लिए आवश्यक दवाइयों की व्यवस्था भी की जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने तीनों जिले में ब्लैक फंगस की जाँच के लिए व्यवस्थाएँ बनाने के निर्देश दिए।

किल-कोरोना अभियान लगातार जारी रहे

मुख्यमंत्री ने कहा कि किल-कोरोना अभियान लगातार जारी रखा जाए। सर्दी, खाँसी, जुकाम से प्रभावित प्रत्येक व्यक्ति की पहचान कर उसे तत्काल मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाए। आवश्यकतानुसार इलाज की व्यवस्था की जाए। कोरोना के लक्षणों को पहचानने और इलाज आरंभ करने में विलम्ब नहीं हो। जो कोरोना मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं उनका बेहतर इलाज सुनिश्चित किया जाए। मरीज की जान बचाने की हरसंभव कोशिश की जाए।

महाराष्ट्र की बॉर्डर सील रखें

मुख्यमंत्री ने कहा कि महाराष्ट्र एवं अन्य राज्यों से कोरोना संक्रमण के बढ़ने का खतरा अधिक है। महाराष्ट्र की बॉर्डर को पूरी तरह सील रखें। इटारसी रेलवे स्टेशन पर भी टीम नियोजित रहे, जिनके द्वारा स्टेशन पर बाहर से आने वाले नागरिकों की सघन स्क्रीनिंग की जाए।

वैक्सीन का एक भी डोज़ व्यर्थ न जाए

मुख्यमंत्री ने कहा कि वैज्ञानिकों के अनुसार कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण सबसे प्रभावी उपाय है। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा टीकाकरण के खिलाफ फैली भ्रांतियों को दूर किया जाये और लोगों में जागरूकता लायी जाये। यह सुनिश्चित किया जाए कि वैक्सीन का एक भी डोज़ बेकार न हो।

गरीब एवं मध्यमवर्गीय परिवारों का नि:शुल्क कोविड इलाज सुनिश्चित करें

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना शरीर के साथ-साथ आर्थिक रूप से भी तोड़ देता है। मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना के तहत सभी गरीब एवं मध्यमवर्गीय परिवारों का नि:शुल्क कोविड इलाज हो, यह सुनिश्चित किया जाए।

संकटकाल में सहायता

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के कारण उत्पन्न परिस्थितियों में गरीब परिवारों की सहायता के लिए राज्य सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा दो माह का और राज्य सरकार द्वारा तीन माह का राशन उपलब्ध कराया गया है। सभी पात्र हितग्राहियों को नि:शुल्क राशन का वितरण हो जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि शहर में कोई भूखा न सोए।

राशन वितरण के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के पालन का विशेष ध्यान रखें। तेंदूपत्ता तुड़ाई के दौरान भी कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक सावधानियों का पालन किया जाए। कोरोना के प्रकोप में जो बच्चे अनाथ हो गये हैं उनके लिए पाँच हजार रूपये प्रतिमाह की पेंशन, नि:शुल्क राशन और पढ़ाई की व्यवस्था की जा रही है। निर्माण श्रमिकों और स्व-सहायता समूहों के खातों में राशि जारी की जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिन परिवारों में कोविड से मृत्यु हुई है उन्हें एक लाख रुपये की सहायता देने का निर्णय भी लिया गया है।

कलेक्टर्स ने प्रेजेंटेशन से दी जानकारी

समीक्षा बैठक में होशंगाबाद, हरदा एवं बैतूल जिले के कलेक्टर द्वारा जिले में कोविड नियंत्रण के लिए किए गए प्रयासों के बारे प्रेजेंटेशन के माध्यम से जानकारी दी। बैठक में होशंगाबाद जिले के सभी विधायकों द्वारा स्वास्थ्य सुविधाओं को और अधिक मजबूत बनाने के सुझाव दिए गए।

कलेक्टर होशंगाबाद धनंजय सिंह ने बताया कि जिले में किल-कोरोना अभियान का सफलता से संचालन किया गया है, जिसके सकारात्मक परिणाम प्राप्त हुए हैं। जिले में पॉजिटिविटी रेट में तेजी से कमी आई है। जिले में जिला चिकित्सालय सहित सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत किया गया है। साथ ही चिकित्सालयों एवं स्वास्थ्य केंद्रों पर ऑक्सीजन बेड्स, आवश्यक दवाओं की भी लगातार मॉनिटरिंग कर पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। जिले में कोरोना संक्रमण काल में किसानों से समर्थन मूल्य पर गेहूँ उपार्जन कार्य का भी सफलता से क्रियान्वयन किया गया।

मुख्यमंत्री चौहान ने कोविड नियंत्रण के लिए प्रशासन द्वारा किए गए प्रयासों पर संतोष व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि तीनों जिले में जन-प्रतिनिधियों एवं प्रशासन के समन्वित प्रयासों से कोरोना संक्रमण पर प्रभावी रोक लगाई गई। उन्होंने सक्रिय भूमिका के लिए सभी जन-प्रतिनिधियों, अधिकारी, कर्मचारी, सामाजिक संगठनों एवं मैदानी प्रशासनिक अमले को बधाई दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here