Home भोपाल लाड़ली लक्ष्मी उत्सव: दुर्गा नवमी पर मुख्यमंत्री शिवराज का बालिकाओं के लिए...

लाड़ली लक्ष्मी उत्सव: दुर्गा नवमी पर मुख्यमंत्री शिवराज का बालिकाओं के लिए बड़ा ऐलान

30
0
  • ‘लाड़लियों’ की उच्च शिक्षा के लिए सरकार देगी 25 हजार की छात्रवृत्ति
  • * चिकित्सा, इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट में प्रवेश तो पढ़ाई खर्च सरकार का

स्वदेश ब्यूरो, भोपाल।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को लाड़ली लक्ष्मी उत्सव में बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के कॉलेजों में पढऩे वाली सभी बेटियों को 25 हजार रुपए की छात्रवृत्ति मिलेगी। चिकित्सा शिक्षा और इंजीनियरिंग सहित मैनेजमेंट की पढ़ाई का खर्च भी सरकार उठाएगी। यह लाभ सरकारी व निजी दोनों ही तरह की संस्थाओं में प्रवेशित छात्राओं को मिलेगा। मुख्यमंत्री ने प्रदेश की 21 हजार से ज्यादा बालिकाओं के खाते में 6 करोड़ रुपए भी छात्रवृत्ति के जमा किए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यह घोषणा आज स्थानीय मिंटो हाल में आयोजित लाड़ली लक्ष्मी उत्सव में की।

नवरात्र पर्व की नवमी पर आयोजित इस कार्यक्रम में प्रदेशभर की 40 लाख हितग्राही बालिकाएं अपने पालकों के साथ कार्यक्रम से जुड़ी। वहीं प्रदेशभर की त्रिस्तरीय पंचायत राज संस्थाओं, शौर्या दल व लाखों की संख्या में स्व-सहायता समूहों ने भी कार्यक्रम में हिस्सेदारी की। हरियाणा की आनंदमूर्ति गुरु मां विशेष रूप से इसमें शामिल हुईं।

लाड़ली लक्ष्मी का होगा अपना पोर्टल

मुख्यमंत्री ने लाड़ली लक्ष्मी योजना का पोर्टल शुरू करने के निर्देश दिए हैं। इसमें हितग्राही बालिकाओं की पूरी जानकारी होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि एमबीबीएस, बीई, आईआईएम व आईआईटी जैसे व्यवसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश पाने वाली हितग्राही बालिकाओं की पूरी फीस अब सरकार भरेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि लड़कियों को आगे बढ़ाने के लिए लाड़ली लक्ष्मी सिर्फ एक योजना नहीं है, यह मेरे भाव हैं। बेटियों को सशक्त बनाने के लिए भरपूर प्रयास किए जाना जरूरी है। बेटियों को पूजना ही नहीं, बल्कि उन्हें बचाना और सबकी लाड़ली बनाना हमारी जिम्मेदारी है।

पंचायतें होंगी लाड़ली बेटी फें्रडली

मुख्यमंत्री ने कहा कि योजनान्तर्गत हितग्राही बालिकाओं के लिए करियर काउंसिलिंग, ट्रेनिंग, कोचिंग, जन्म के समय प्रमाण पत्र, पोषण और टीकाकरण का प्रबंधन आदि भी किया जाएगा। बेटियों की अधिक संख्या वाले ग्राम पंचायतों को बेटी फ्रें डली गांव घोषित किया जाएगा। प्राइवेट जॉब, प्रोफेशनल के अलावा उद्योग स्थापित करने वाली छात्राओं के लिए प्रशिक्षण से लेकर बैंक ऋण तक की जिम्मेदारी सरकारी उठाएगी। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम से जुड़ी बालिकाओं व उनके अभिभावकों से योजना को ओर बेहतर बनाने के लिए भी सुझाव मांगे।

बालिका कल्याण के लिए अब तक यह हुए प्रयास

  • 40 लाख बालिकाएं लाड़ली लक्ष्मी योजना में पंजीकृत।
  • नौ हजार करोड़ रुपए योजना के कोष में जमा करने व अन्य कार्यों पर व्यय।
  • 6.62 लाख बालिकाओं को 185 करोड़ की छात्रवृत्ति दी।
  • सभी सरकारी कार्यक्रमों में कन्या पूजन से अनिवार्य।
  • दुष्कर्म पर फांसी का सजा देने वाला मप्र पहला राज्य बना।
  • लापता बालिकाओं को वापस लाने मुस्कान अभियान में 10 हजार से अधिक बालिकाओं की कराई वापसी।
  • किशोरियों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए शुरू किया पंख अभियान व आत्मरक्षा का प्रशिक्षण देने अपराजिता प्रशिक्षण कार्यक्रम अंतर्गत 23 हजार बालिकाओं को जूडो, कराटे और ताइक्वाडो का प्रशिक्षण।
Previous articleबांग्लादेश में दुर्गा पूजा पंडालों पर हमले पर आया मोदी सरकार का रिएक्शन
Next articleहाईकोर्ट के नए मुख्य न्यायाधीश को राज्यपाल ने दिलाई शपथ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here