Home भोपाल आशा का संचार करने किया 100 घंटे का अखण्ड कीर्तन

आशा का संचार करने किया 100 घंटे का अखण्ड कीर्तन

14
0
  • पूरे विश्व में हो रहा 100 घंटे का बाबा नाम केवलम् अखंड कीर्तन

स्वदेश संवाददाता, भोपाल।


बहिर्मुखी और जड़ाभिमुखी चिन्तन ही कोरोना वैश्विक महामारी रूपी ज्वालामुखी का मूल कारण है। विश्वस्तरीय 100 घंटे का अखंड कीर्तन में भोपाल उसके आसपास के जिला में लगभग 2,000 से भी ज्यादा आनंद मार्गी परिवारों ने अपने घर में रहकर 3 घंटे का बाबा नाम केवलम् अखंड कीर्तन वेबीनार प्रारम्भ किया। वैश्विक महामारी के काल में निराशा को दूर और आशा के संचार के लिए पूरे विश्व में अखंड कीर्तन किया जा रहा है। विश्वस्तरीय 100 घंटे का अखंड कीर्तन का 25 मई को आयोजन किया गया है।

आज शाम को संपन्न होगा कीर्तन

आचार्य सवितानन्द अवधूत ने बताया कि भोपाल एवं उसके आसपास के जिला के लगभग 2000 से भी ज्यादा आनंद मार्गी परिवारों में 3 घंटे का सलोट मिला एवं भोपाल के सभी आनंद मार्गी अपने-अपने घर पर मास्क पहनकर कोरोना महामारी के सुरक्षा के दृष्टिकोण से घर में ही रह कर कीर्तन का हिस्सा बने। आनंद मार्ग के केंद्रीय कार्यालय आनंदनगर स्थित बाबा आवास गृह में रात्रि 2 बजे अष्टाक्षरी सिद्ध महामंत्र बाबा नाम केवलम् का कीर्तन प्रारम्भ हुआ। यह कीर्तन भोपाल सहित मप्र, भारतवर्ष के प्रत्येक राज्य एवं दुनिया के 160 देशों में ऑनलाइन 100 घंटे तक निरंतर किया जाएगा। 26 मई को प्रात: 6 बजे कीर्तन संपन्न होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here