Home भोपाल टीकाकरण अभियान में मुख्यमंत्री ने मांगा सभी का सहयोग: जन अभियान परिषद...

टीकाकरण अभियान में मुख्यमंत्री ने मांगा सभी का सहयोग: जन अभियान परिषद के एक लाख वॉलेंटियर्स संभालेंगे दायित्व

44
0
  • भ्रांतियों को दूर कर टीकाकरण के लिए करें प्रेरित

स्वदेश ब्यूरो, भोपाल।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोरोना टीकाकरण महा अभियान को सफल बनाने में स्वयं सेवकों की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसमें सभी का सहयोग जरूरी है। 21 जून को महाअभियान के पहले दिन जन अभियान परिषद के एक लाख वॉलेंटियर्स भी इस काम में जुटेंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान कोविड-19 वैक्सीनेशन महाअभियान में जन अभियान परिषद की भूमिका संबंधी बैठक को निवास से वर्चुअली संबोधित कर रहे थे। परिषद के उपाध्यक्ष विभाष उपाध्याय ने भी बैठक को वर्चुअली संबोधित किया। श्री चौहान ने कहा है कि कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए लोगों को प्रेरित करने में कोरोना वॉलेंटियर्स की महत्वपूर्ण भूमिका है। कोरोना वॉलेंटियर 21 जून को होने वाले वैक्सीनेशन महाअभियान में जन-सामान्य की अधिक से अधिक भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए ग्राम और वार्ड स्तर पर सघन प्रयास करें।

तार्किक रूप से करें जागरूक

वैक्सीनेशन को लेकर लोगों में व्याप्त भ्रांतियों का समाधान करना आवश्यक है। लोगों को वैक्सीनेशन के लिए तार्किक रूप से सहमत और जागरूक करना आवश्यक है। जन-सामान्य को वैक्सीनेशन सेंटरों तक लाने में कोरोना वॉलेंटियर्स का योगदान संक्रमण को रोकने और जीवन बचाने में महत्वपूर्ण होगा।

वॉलेंटियर बुजुर्गों का करें सहयोग

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में वैक्सीनेशन के लिए 7 हजार केन्द्र बनाए जा रहे हैं। प्रत्येक केन्द्र पर दो-दो वॉलेंटियर्स सेवा और सहयोग के लिए उपलब्ध रहें। यह वॉलेंटियर वैक्सीनेशन के लिए बुजुर्गों का सहयोग करें। साथ ही जन-सामान्य को वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करने के लिए ग्राम और वार्ड स्तर पर सम्पर्क, सोशल मीडिया पर वातावरण निर्माण जैसी गतिविधियाँ आवश्यक हैं।

ख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि तीसरी लहर से बचाव के लिए कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन करने के लिए भी वैक्सीनेशन सेंटर्स पर जन-सामान्य को प्रेरित किया जाए। जानकारी दी गई कि वैक्सीनेशन महाअभियान के लिए एक लाख कोरोना वॉलेंटियर्स को विभिन्न दायित्व सौंपे गए हैं।

दूसरी लहर में बहुत नुकसान उठाया

एक अन्य कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर पहली से बहुत अधिक घातक थी, वायरस ज्यादा संक्रामक था। परिणाम स्वरूप हमने बहुत नुकसान उठाया। संक्रमण की तीव्रता के सात दिनों की भयावहता आज भी मन-मस्तिष्क पर बनी रहती है।

हमने दिन रात कोशिश कर जनता के इलाज की व्यवस्था के लिए ऑक्सीजन, दवाइयों, इंजेक्शन्स आदि की उपलब्धता एवं व्यवस्था की। सभी के सहयोग से हम स्थिति का सामना करने में सक्षम हुए। परिणामस्वरूप अब प्रदेश में संक्रमण नियंत्रण में है। श्री चौहान ने कहा कि मैं आपके साथ मिलकर यह तय करना चाहता हूँ कि अक्टूबर तक हम अधिकतम लोगों को वैक्सीन लगा दें ताकि कोरोना की लहर आये भी तो हम उसका मुकाबला कर सकें। हम अपने लोगों को मरता हुआ नहीं देख सकते। दूसरी लहर में हमने बहुत कष्ट झेला है, अब तीसरी बार नहीं झेल सकते। इसके अनुकूल हमें व्यवस्थाएँ बनानी होगी और वैक्सीन भी लगानी होगी। इसमें आप सबका सहयोग चाहिए।

बार-बार लॉकडाउन संभव नहीं

श्री चौहान ने कहा कि वायरस अभी गया नहीं है। इंग्लैंड में 90 दिन के लॉकडाउन के बाद पुन: कोरोना संक्रमितों की संख्या बढऩा शुरू हो गई। परिणामस्वरूप वहाँ अब लॉकडाउन पूरी तरह से नहीं खोल रहे हैं अर्थात वायरस अभी मौजूद है। श्री चौहान ने कहा कि तीसरी लहर की संभावना व्यक्त की जा रही है, फिर पॉजिटिव प्रकरणों की संख्या बढ़ सकती है, पर हम बार-बार लॉकडाउन नहीं कर सकते।

व्यापार और रोजगार को कब तक बंद करेंगे। अत: ऐसा तरीका ढूंढऩा होगा जिससे दुनिया भी चलती रहे और कोविड के संक्रमण को नियंत्रित भी किया जा सके। यह काम सरकार अकेले नहीं कर सकती। इसमें समाज की प्रमुख हस्तियों, धर्मगुरूओं, स्वयंसेवी संस्थाओं का सहयोग चाहिए।

Previous articleआइसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप : खराब रोशनी के कारण फिर रुका खेल, भारत का स्कोर 146/3
Next articleराष्‍ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने पत्रकारों का किया सम्मान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here