Home भोपाल उद्योगपतियों की अंतर्राष्ट्रीय संस्था के वार्षिक सम्मेलन को मुख्यमंत्री ने किया संबोधित

उद्योगपतियों की अंतर्राष्ट्रीय संस्था के वार्षिक सम्मेलन को मुख्यमंत्री ने किया संबोधित

26
0
  • प्रदेश में निवेश कीजिए, लाभ कमाइए और रोजगार दीजिए : मुख्यमंत्री
  • मुख्यमंत्री ने उद्योगपतियों से कहा- यह मेरा आग्रह है और आह्वान भी
  • मध्यप्रदेश- भारत की उभरती आर्थिक शक्ति सत्र में बोले

भोपाल। मध्यप्रदेश में औद्योगिक विकास की असीमित संभावनाएं हैं। प्रदेश में उद्योगपतियों के निवेश के अनुकूल वातावरण और सुविधाए हैं। प्रदेश में निवेश नीति भी सरल है, औद्योगिक विकास के ईएसजी (एनवायरमेंट, सोशल रिस्पांसबिलिटी एण्ड गवर्नेंस) अर्थात पर्यावरण, सामाजिक जिम्मेदारी तथा सुशासन के पैमाने पर खरा उतरता है। सुशासन के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। उद्योग स्थापना के लिए प्रदेश की लोकेशन सबसे अच्छी है, जो यहां आता है प्रदेश का होकर रह जाता है। आप सब भी आइए और प्रदेश में निवेश करिए।

उक्त बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने होरासिसओआरजी के वार्षिक सम्मेलन में ‘मध्य प्रदेश-भारत की उभरती आर्थिक शक्ति’ विषय पर वर्चुअल संबोधन में कही हैं। होरासिसओआरजी उद्योगपतियों का अंतर्राष्ट्रीय संगठन है, जो उनके लिए थिंक टैंक का काम करता है। कोरोना के बाद भारत की अर्थव्यवस्था को कैसे उतारा जाए संबंधी विषय पर भारतीय औद्योगिक परिसंघ (सीआईआई) और भारत सरकार के सहयोग से यह आयोजन किया जा गया है। इस वार्षिक सम्मेलन में दुनिया के उद्योगपतियों के साथ भारत के दिग्गज उद्योगपति शामिल हुए। सम्मेलन को केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने भी संबोधित किया है।

खुद लाभ कमाइए, लोगों को रोजगार दीजिए

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ‘होरोसिस इंडिया मीटिंग-2021’ में भारत और दुनिया के दिग्गज उद्योगपतियों के इस सम्मेलन को संबोधित करते हए कहा कि ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ में प्रदेश देश के अग्रणी राज्यों में शामिल है। आइये मध्यप्रदेश में निवेश कीजिए, खुद भी लाभ कमाइये तथा मध्यप्रदेश के लोगों को रोजगार के अवसर प्रदान कीजिए। यह मेरा आपसे आग्रह भी है और आह्वान भी है।

उद्योगों के लिए अनुकूल वातावरण

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश शांति का टापू है। यहां उद्योगों के लिए अत्यंत अुनकूल वातावरण है। यहां खनिज, जल और वन सम्पदा के साथ ऊर्जा पर्याप्त मात्रा में है। इसके अलावा भरपूर जमीन, कुशल मानव संसाधन, औद्योगिक शांति, औद्योगिक क्षेत्र आदि हैं। हमारी निवेश नीति उद्योग फ्रेंडली है। हम निवेशकों की आवश्यकताओं का पूरा ध्यान रखते हैं तथा उन्हें उदारतापूर्वक पैकेज देते हैं।

उद्योग चलाते हुए कोरोना नियंत्रित किया

मुख्यमंत्री ने उद्योगपतियों को बताया कि प्रदेश में चूना पत्थर, लोहा और कोयले का भंडर है। प्रदेश में खिलौना निर्माण से लेकर डाबर जैसी बड़ी कंपनियों भी निवेश कर रही हैं। हमने प्रदेश में उद्योग चलाते हुए कोरोना को नियंत्रित किया है। निवेशकों को कोई परेशानी न आए, इसलिए मैं प्रति सोमवार एक उद्योगपति से मिलकर चर्चा करता हूं। प्रदेश में 11 राष्ट्रीय उद्यान हैं। हमारे पास तीन विश्व धरोहर स्थल हैं। हमने पर्यटन के लिए कई जल निकाय विकसित किए हैं। पर्यटन के क्षेत्र में भी बहुत संभावनाएं हैं। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश और आत्मनिर्भर भारत के तहत उद्योगों के लिए हमारे पास एक बड़ा लैंड बैंक है। हमारे पास पानी और विकसित औद्योगिक भूखंड हैं। मैं व्यक्तिगत रूप से निवेशकों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए पूरा प्रयास करता हूं।

Previous articleसदन में हंगामे से विपक्ष की होने लगी बदनामी
Next articleआकाशीय बिजली का कहर, 6 की मौत, 9 घायल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here