Home भोपाल पेगासस जासूसी मामले में स्थिति स्पष्ट करे केंद्र सरकार: कमलनाथ

पेगासस जासूसी मामले में स्थिति स्पष्ट करे केंद्र सरकार: कमलनाथ

33
0

* अपने कथन को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दे शपथ पत्र
* उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश से कराएं जांच

स्वदेश ब्यूरो, भोपाल।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि इजरायली कंपनी एनएसओ से पेगासस के माध्यम से जासूसी कराई गई या नहीं, इसको लेकर सरकार को स्थिति साफ करनी चाहिए। उच्चतम न्यायालय में सरकार शपथपत्र प्रस्तुत करे कि जो वह कह रही है,वह सही है। साथ ही विपक्ष को भरोसे में लेकर उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश से जांच कराई जाए।

श्री नाथ ने यह मांग बुधवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में आयोजित एक प्रेस कांफे्रंस में रखी। उन्होंने कहा कि सरकार सुप्रीम कोर्ट में शपथ पत्र दे कि उसने पेगासस नहीं खरीदा,न ही इसका लायसेंस लिया। उन्होंने कहा कि यदि यह सब राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर हुआ तो फिर नेताओं और पत्रकारों के फोन क्यों टेप किए गए। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां तक उन्हें जानकारी है पेगासस केवल फोन ही टेप नहीं करता,यह यूजर्स के मेल व मैसेज आदि भी पढ़ सकता है।

उन्होंने कहा कि फ्रांस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है लेकिन भारत सरकार इसे लेकर गोलमोल जवाब दे रही है। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि पेगासस स्पाईवेयर 2016 में तैयार हुआ और वर्ष 2017 से भारत में इसका उपयोग शुरू हुआ। इसकी खरीदी व लायसेंस लेने का काम केवल सरकार ही कर सकती है। श्री नाथ ने कहा कि हमारे यहां जो कानून हैं, उसके अनुसार कार्रवाई की जाए। एक अन्य सवाल के उत्तर में कांग्रेस नेता ने कहा कि संभव है मप्र में उनकी सरकार के गिरने में भी इसका उपयोग किया गया हो। श्री नाथ ने कहा कि मैंने कभी यह नहीं कहा कि जासूसी के शिकार लोगों की सूची मेरे पास है।

शिवराज कांग्रेस की चिंता नहीं करें

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा इसे कांग्रेस की व अंतर्राष्ट्रीय साजिश बताए जाने पर उन्होंने कहा कि शिवराज कांग्रेस की नहीं बल्कि प्रदेश की चिंता करें। उन्होंने जासूसी कांड को लेकर एक शब्द भी नहीं बोला। इससे साफ पता चलता है कि उनके पास कहने के लिए कुछ नहीं है। उन्होंने मुख्यमंत्री से कहा कि वे नौ अगस्त से होने वाले विधानसभा के सत्र में जासूसी नहीं होने संबंधी शपथपत्र प्रस्तुत करें। उन्होंने ई-टेंडर घोटाले का जिक्र करते हुए कहा कि इस मामले में 90 टेंडर्स में गड़बड़ी हुई,लेकिन यह समूचा मामला कहां दब गया किसी को पता नहीं।

मैं मप्र नहीं छोडऩे वाला

एक सवाल के उत्तर में उन्होंने दोहराया कि दिल्ली में लाइन कुछ भी चल रही हो, लेकिन यह तय है कि मैं मप्र नहीं छोडऩे वाला। संगठन की प्रदेश इकाई के पुनर्गठन को लेकर उन्होंने कहा कि इस बारे में पार्टी नेतृत्व के साथ विचार मंथन जारी है। खंडवा लोकसभा उपचुनाव में प्रत्याशी को लेकर उन्होंने कहा कि पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव इस सीट से चुनाव लडऩा चाहते हैं,यह तो उन्होंने कभी बताया ही नहीं। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि 15 माह की उनकी सरकार में 11 माह ही काम करने का मौका मिला, यदि कोई पाप किया होता तो जनता बता देती।

झूठ का सहारा लेने वाले कमलनाथ को बहुत अच्छे से पहचानता है देश: विष्णुदत्त शर्मा

इधर,पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के उक्त आरोपों पर पलटवार करते हुए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि समाज और देश बहुत अच्छी तरह से श्री नाथ को जानता है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने हमेशा देश के खिलाफ काम किया है और उनका चरित्र भी वही है। उन्होंने कहा कि 1984 के सिख दंगों की जांच रिपोर्ट इशारा करती है कि वह किस तरह इन दंगों में शामिल रहे। देश की जनता उनसे इस मामले में जवाब चाहती है।

उनके केंद्रीय वाणिज्य मंत्री रहते हुए चीन से हुई डील को लेकर भी भाजपा ने सवाल उठाए लेकिन इसका अब तक उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि झूठ और भ्रम फैलाने वालों को यह समझ लेना चाहिए कि समाज झूठ बोलने से नहीं, बल्कि नीतिगत सिद्धांतों से चलेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश आगे बढ़ रहा है और आगे बढ़ेगा। कांग्रेस और विपक्षियों द्वारा पैदा किए जा रहे व्यवधान उसमें बाधा नहीं डाल सकते।

वजूद बचाने झूठ का सहारा ले रहे कांग्रेस नेता

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष श्री शर्मा ने कहा कि देश के गृहमंत्री एवं संचार मंत्री ने साफ तौर पर यह कहा है कि ऐसे लोग और संस्थाएं देश को बदनाम करने का प्रयास कर रहे हैं, जो हमेशा देश के खिलाफ खड़े रहते हैं। यह वही लोग हैं जिनकी विदेशी फ ंडिंग बंद हो गई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का नेतृत्व विदेशी फं डिंग के माध्यम से मिशनरीज और अन्य संस्थाओं को सशक्त बनाते हुए लगातार इस प्रयास में लगा रहता है कि देश को कैसे आघात पहुंचा सकते हैं, देश को कैसे बदनाम कर सकते हैं और भारतीय संस्कृति पर कैसे प्रहार कर सकते हैं। श्री शर्मा ने कहा कि कांग्रेस नेता अपना वजूद बचाने के लिए झूठ का सहारा ले रहे हैं,लेकिन वे यह जान लें कि दुनिया में भारत या हमारे नेतृत्व को बदनाम कर पाना अब संभव नहीं है।

अजा-अजजा को समझा केवल वोट बैंक

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि लंबे समय तक शासन के बाद भी कांग्रेस ने जनजातीय व जनजाति वर्गों के लिए कुछ नहीं किया। वह केवल इन्हें अपना वोट बैंक समझती रही। जबकि दूसरी तरफ जनजातीय वर्ग को अधिकार संपन्न बनाने के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली राजग सरकार ने अलग से जनजातीय मंत्रालय बनाया। पं. जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व में कांग्रेस लगातार यह प्रयास करती रही कि संविधान निर्माता डॉ. अंबेडकर को कहीं उनका उचित स्थान न मिल जाए। उन्होंने कहा कि संविधान के निर्माता डॉ. भीमराव अंबडेकर जी के लिए आज तक कांग्रेस ने क्या किया?

भाजपा की सरकार ने ही बाबा साहब अंबेडकर को भारत रत्न दिया। कांग्रेस ने देश में ओबीसी कमीशन बनाया, लेकिन उसे संवैधानिक दर्जा नहीं दिया। यह काम भी भाजपा सरकार ने किया। उन्होंने कहा कि जनजातीय क्षेत्रों में गरीब कल्याण की योजनाओं के माध्यम से मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के संवेदनशील नेतृत्व में भाजपा की सरकार जो काम कर रही है, वह कांग्रेस के नेताओं को पच नहीं रहा है। इसीलिए कभी कमलनाथ तो, कभी दिग्विजय सिंह के पेट में दर्द होने लगता है। श्री शर्मा ने कहा कि गलती से सत्ता में आए कांग्रेस के नेता सत्ता चली जाने के बाद मछली की तरह तड़प रहे हैं।

Previous articleदूसरे राज्यों में शादी के बाद भी मूल निवासी माने जाएंगे कश्मीरी
Next articleउपचुनाव को लेकर कांग्रेस की बैठक 28 को, 3 जिलों में अध्यक्ष मनोनीत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here