Home भोपाल हमीदिया के भंडार से 863 रेमडिसिवर इंजेक्शन चोरी, स्टोर के कर्मचारियों की...

हमीदिया के भंडार से 863 रेमडिसिवर इंजेक्शन चोरी, स्टोर के कर्मचारियों की भूमिका संदिग्ध, प्रबंधन सवालों के घेरे में

20
0
  • पुलिस और प्रशासन अफसर जांच करने पहुंचे तो स्टोर के अंदर बाहर नहीं मिले सीसीटीवी

स्वदेश संवाददाता, भोपाल

हमीदिया अस्पताल से 863 रेमडेसिविर इंजेक्शन चोरी होने से हमीदिया अस्पताल की सुरक्षा के सारे दावे खोखले साबित हो गए। यहां सरकार द्वारा निजी एजेंसी को हर महीने दस लाख रुपए से ज्यादा का भुगतान सिर्फ सुरक्षा के लिए किया जाता है। बावजूद इसके दवा स्टोर से रेमडेसिविर इंजेक्शन का चोरी हो जाना चौंकाने वाली है। शनिवार को जैसे ही पता चला कि हमीदिया अस्पताल के सेंट्रल दवा स्टोर से इंजेक्शन के 48 बॉक्स गायब हैं, यह खबर जंगल में आग की तरह फैल गई। इन 48 बॉक्स में 863 इंजेक्शन थे।

बाजार में दो करोड़ रुपए से अधिक कीमत

दवा स्टोर से गायब हुए रेमडेसिविर इंजेक्शन की कीमत वैसे तो एमआरपी रेट पर कम है। लेकिन बाजार में यह 20 से 25 हजार रुपए में बिक रहा है। इस तरह हमीदिया से गायब हुए 863 इंजेक्शन की कीमत मोटे तौर पर दो करोड़ रुपए आंकी जा रही है। क्योंकि कोरोना संक्रमण के कारण जरूरतमंद लोग इसे हर कीमत पर खरीदने को तैयार हैं।

150 मरीजों को लगाए जाने थे इंजेक्शन

हमीदिया अस्पताल प्रबंधन से मिली जानकारी अनुसार गायब हुए 843 रेमडेसिविर इंजेक्शन करीब 150 मरीजों के काम आते। एक मरीज को छह इंजेक्शन का डोज लगता है, कभी कभी कम गंभीर मरीज को एक या दो इंजेक्शन भी लगा दिए जाते हैं, इस तरह 150 मरीजों के कोटे का यह इंजेक्शन हमीदिया अस्पताल के दवा स्टारे से अब गायब है।

जहां दवा स्टोर, वहां लोगों का आना जाना

हमीदिया अस्पताल का सेंट्रल मेडिकल स्टोर पैथोलॉजी के नीचे बेसमेंट में स्थापित है। यहां आसानी से लोग आते जाते रहते हैं। कंस्ट्रक्शन कार्य के चलते मजदूर, पीडब्ल्यूडी विभाग के इंजीनियर, जनरेटर चालू करने वाले श्रमिक के अलावा हमीदिया अस्पताल के गार्ड और वार्ड बॉय यहां आसानी से घूस जाते हैं और घंटों बैठकर टाइम पास करते हैं।

पहले भी होती रही हैं चोरियां

अस्पताल के दवा स्टोर से पहले भी दवा और जरूरी उपकरण चोरी होने की खबरें आती रही हैं। लेकिन कोरोना संकटकाल में रेमडेसिविर इंजेक्शन के चोरी हो जाने की खबर पर हंगामा खड़ा कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here