Home भोपाल तीन अस्पतालों में ब्लैक फंगस से 4 मरीजों की मौत, आधे घंटे...

तीन अस्पतालों में ब्लैक फंगस से 4 मरीजों की मौत, आधे घंटे में बंट गए 80 इंजेक्शन

15
0

ब्लैक फंगस से मंगलवार को तीन अस्पतालों में चार मरीजों की मौत हो गई। चारों ही मरीज पिछले सप्ताह से इन अस्पतालों में भर्ती थे। चार नए मरीजों की मौत से भोपाल में ब्लैक फंगस से मरने वालों की संख्या 6 हो गई है। सीएमएचओ दफ्तर के अफसरों ने बताया कि मंगलवार को हमीदिया अस्पताल में 2 और पालीवाल व चिरायु हॉस्पिटल में ब्लैक फंगस संक्रमित एक – एक मरीज की मौत हो गई। राजधानी में बीते 10 दिन में ब्लैक फंगस के 120 से ज्यादा मरीज मिल चुके हैं। जबकि 6 मरीजों की इससे जान गई है। जीएमसी डीन डॉ. जितेन शुक्ला ने बताया कि निजी अस्पतालों में भर्ती ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए रिजर्व 80 इंजेक्शन मंगलवार को दफ्तर खुलने के आधे घंटे के भीतर बंट गए।

इंजेक्शन एम्स, बंसल, चिरायु, पालीवाल सहित अन्य अस्पतालों को डॉक्टर के पर्चे के आधार पर मरीज के परिजनों को दिए गए हैं। जबकि 200 इंजेक्शन, हमीदिया अस्पताल में भर्ती 50 मरीजों को लगाए गए हैं। राज्य सरकार ने मंगलवार दोपहर बाद एंफोटेरिसिन बी इंजेक्शन के 400 वाॅयल और दिए हैं। यह इंजेक्शन हमीदिया सहित दूसरे अस्पतालों में भर्ती ब्लैक फंगस संक्रमितों को डॉक्टरों के पर्चे के आधार पर दिए जाएंगे। इधर, प्रदेश में काेविड और पोस्ट कोविड मरीजों में ब्लैक फंगस संक्रमित मरीजों की पहचान प्राइमरी स्टेज करने पर ब्लैक फंगस स्क्रीनिंग अभियान पूरे प्रदेश में शुरू किया जाएगा। इसकी पुष्टि चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने की है।

हमीदिया में 2, पालीवाल और चिरायु में 1-1 मरीज की मौत ब्लैक फंगस से हुई

  • 01 सप्ताह से चल रहा था चारों मरीजों का अलग-अलग अस्पतालाें में इलाज
  • 200 इंजेक्शन हमीदिया अस्पताल में भर्ती 50 मरीजों को लगाए गए हैं।
  • 400 वाॅयल और दिए हैं हमीदिया सहित शहर के दूसरे अस्पतालों को

देर रात आएंगे 75 इंजेक्शन वॉयल; फूड एंड ड्रग कंट्रोलर दफ्तर के अफसरों ने बताया कि एंफोटेरेसिन बी इंजेक्शन के 75 वॉयल देर रात भोपाल आएंगे। यह इंजेक्शन जीएमसी डीन की अनुमति से निजी अस्पतालों में भर्ती ब्लैक फंगस संक्रमित मरीजों के लिए अस्पतालों को सप्लाई किए जाएंगे।

ब्लैक फंगस के लिए टास्क फोर्स, निजी अस्पतालों को भी इंजेक्शन; ब्लैक फंगस के इलाज से जुड़ी व्यवस्थाओं को देखने राज्य सरकार ने टॉस्क फोर्स बनाया है। इसमें स्वास्थ्य मंत्री, चिकित्सा शिक्षा मंत्री के साथ संबंधित विभागों के अपर मुख्य सचिव व प्रमुख सचिव, ईएनटी विशेषज्ञ डॉ. एसपी दुबे, डॉ. लोकेंद्र दवे व अन्य एक्सपर्ट रहेंगे। मप्र को ढाई हजार इंजेक्शन मिल गए हैं। जल्द ही 10 हजार इंजेक्शन जल्द मॉयलान कंपनी से मिलेंगे। इन्हें निजी अस्पतालों को भी दिया जाएगा।

मानवाधिकार आयोग ने नोटिस भेजकर 6 बिंदुओं पर जवाब मांगा
मानवाधिकार आयोग ने मंगलवार को राज्य सभा सांसद विवेक तन्खा द्वारा भेजी एक याचिका पर संज्ञान लिया है। आयोग ने सरकार से 6 बिंदुओं पर जवाब मांगा है। इसमें इंजेक्शन को लेकर क्या व्यवस्था है? म्यूकोरमाइकोसिस से अब तक एमपी में कितनी मौतें हुईं? कालाबाजारी के खिलाफ क्या एक्शन लिया गया? तीसरी लहर को लेकर व्यवस्थाएं क्या हैं? आयोग ने सरकार को 28 मई तक का समय दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here