Home भोपाल कांग्रेस को ‘आज़ाद’ नहीं, ‘अजमल’ पसंद, असम पहुंचे शिवराज ने कांग्रेस व...

कांग्रेस को ‘आज़ाद’ नहीं, ‘अजमल’ पसंद, असम पहुंचे शिवराज ने कांग्रेस व राहुल गांधी पर साधा निशाना कहा

27
0

स्वदेश ब्यूरो, भोपाल

मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान गुरुवार को असम पहुंचे। वहां उन्होंने कामरूप जिले के पलासबाड़ी में भाजपा उम्मीदवार हेमांग ठाकुरिया के समर्थन में जनसभा को संबोधित किया। श्री चौहान ने इस दौरान कांग्रेस व उसके नेता राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस को आजाद (पूर्व राज्यसभा सांसद गुलामनबी आजाद)नहीं, देश में घुसपैठियों को संरक्षण देने वाला बदरुद्दीन अजमल पसंद है। उन्होंने कहा कि जो राहुल गांधी मप्र, छत्तीसगढ़ में किए गए अपने वादे पूरे नहीं कर सके वे असम में क्या करेंगे?

असम विधानसभा के लिए जारी पहले चरण के मतदान वाले चुनाव प्रचार का आज अंतिम दिन था। वहां पहले दौर का मतदान 27 मार्च को होगा। श्री चौहान बतौर पार्टी के स्टार प्रचारक वहां प्रचार करने पहुंचे। पलासवाड़ी में जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां भी चुनाव आते हैं राहुल बाबा पहुंच जाते हैं। वो कहते हैं मैं झूठ नहीं बोलता, मैं गारंटी दे रहा हूं। ये वही राहुल गांधी हैं, जिन्होंने खुद और उनकी पार्टी ने कहा था सभी को सरकारी रोजगार दिया जाएगा, सरकारी नौकरी दी जाएगी। मध्यप्रदेश में सवा साल कांग्रेस की सरकार रही, एक को भी सरकारी नौकरी नहीं मिली। राहुल गांधी की पार्टी ने वचन दिया था कि 4000 रुपये बेरोजगारी भत्ता देंगे। इन्होंने एक पैसा भी किसी बेरोजगार को नहीं दिया। इन्होंने कहा था फू ड प्रोसेसिंग की हर ब्लॉक हर जिले में खेत के बगल में इंडस्ट्री खोलेंगे, एक इंडस्ट्री नहीं खोली। इन्होंने यह भी कहा था कि 10 दिन में अगर किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ तो 11वे दिन मुख्यमंत्री बदल दूंगा। उस हिसाब से सवा साल में 40- 50 मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश में बदल देना चाहिए थे। अब राहुल बाबा असम आकर रोजगार समेत 5 गारंटी दे रहे हैं। मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि जो वादे आपने मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ में पूरे नहीं किए, वो असम में कैसे पूरे कर देंगे?

राहुल ने उठाया कांग्रेस की समाप्ति का जिम्मा

श्री चौहान ने कहा कि कांग्रेस में महात्मा गांधी ने सत्य के साथ कई प्रयोग किए थे। इस पर उन्होंने एक पुस्तक भी लिख, जिसका नाम है ‘माई एक्सपेरीमेंट विथ ट्रुथÓ। कांग्रेस में ऐसे ही प्रयोग अब राहुल गांधी झूठ को लेकर कर रहे हैं। यदि वह किताब लिखते हैं तो उसका शीर्षक होगा ‘एक्सपेरीमेंट्स विथ अनट्रुथÓ। श्री चौहान ने कहा कि महात्मा गांधी देश को आजादी मिलने के बाद कांग्रेस को भंग करना चाहते थे। नेहरू जी ने उनकी बात नहीं सुनी, लेकिन राहुल गांधी बापू के इस कथन को सच साबित करके रहेंगे। उन्होंने राहुल गांधी के लिए राहुल शब्द की व्याख्या करते हुए कहा- इसके अक्षरों का अर्थ है-रिजेक्टेड, एब्सेंट माइंड, होपलेस, यूजलेस व लायर।

‘आजाद व आनंद नहीं अजमल ही क्यों पसंद’

बाद में गुवाहटी स्थित प्रदेश भाजपा कार्यालय में पत्रकार वार्ता का संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कांग्रेस की सोच पर हैरत होती है। असम में वह घुसपैठ को संरक्षण देने वाले बदरुद्दीन अजमल से समझौता करती है। वहीं पार्टी के लिए अपना खून-पसीना बहाने वाले वरिष्ठ नेता गुलामनबी आजाद व आनंद शर्मा उन्हें पसंद नहीं है। श्री चौहान ने कहा कि बदरुद्दीन अजमल को असम कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रहे तरुण गोगोई ने भी कभी पसंद नहीं किया। उसे स्वीकार करने से उन्होंने इंकार कर दिया था, लेकिन असम में कांग्रेस ने अजमल को गले लगाया है तो केरल में ये मुस्लिम लीग और पश्चिम बंगाल में फुरफु रा शरीफ के साथ हैं। कांग्रेस ऐसे ही लोगों को गले क्यों लगाती है? उन्होंने राहुल गांधी द्वारा असम में किए जा रहे वादों को लेकर कहा कि मैं आपको गारंटी देता हूं, कांग्रेस अपना एक भी वादा पूरा नहीं करेगी। सौ प्रतिशत भ्रष्टाचार को बढ़ावा देगी, असम की संस्कृति को चौपट व घुसपैठियों को संरक्षित कर असम की शांति भंग करेगी।

Previous articleठाकुर बांकेबिहारीजी ने भक्तों पर की टेसू के रंगों की बौछार
Next articleदमोह उपचुनाव: नतीजे से पहले ही भाजपा ने जीता मैदान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here