Home » भोपाल में जिनी स्कूल के व्याख्याता वाट्सएप पर लीक किया पेपर, केद्राध्यक्ष सहित चार गिरफ्तार

भोपाल में जिनी स्कूल के व्याख्याता वाट्सएप पर लीक किया पेपर, केद्राध्यक्ष सहित चार गिरफ्तार

प्रदेशभर में माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा संचालित की जा रही कक्षा 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के प्रश्न-पत्रों को लीक करने के मामले में भोपाल में बड़ा खुलासा हुआ है। भोपाल के छोला थाना क्षेत्र में स्थित विद्यासागर उ. मा. विद्यालय के व्याख्याता प्रश्न-पत्रों को आधा घंटे पहले जब खोलते थे, तभी अपने मोबाइल से फोटो खींचकर अपने कोचिंग के वाट्सएप ग्रुप पर भेज देते थे। ऐसे में उनके कोचिंग के बच्चे आधा घंटे में प्रश्नों के उत्तर पूरी तरह से याद कर परीक्षा देने आते थे। इस मामले में दो पर्यवेक्षक, केंद्राध्यक्ष और सह केंद्राध्यक्ष के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया है। केंद्राध्यक्ष राजकुमार सक्सेना हाई स्कूल के प्राचार्य हैं, जबकि सह केंद्राध्यक्ष रेखा गोयल भी व्याख्याता हैं। विभाग ने तुरंत निलंबित कर दिया है। वहीं प्रदेशभर में पेपर लीक मांड में अब तक 19 शिक्षकों को निलंबित किया जा चुका है। आशंका है कि आरोपियों ने भोपाल के कुछ कोचिंग सेंटर्स के साथ अन्य जिलों के कोचिंग सेंटर्स को भी पेपर लीक किया होगा। पुलिस चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है। केंद्राध्यक्ष और सह केंद्राध्यक्ष को थाने से जमानत मिल जाएगी।

किस तरह पकड़ में आया गिरोह

निशातपुरा एसीपी ऋचा जैन ने बताया कि भानपुर स्थित विद्यासागर विद्यालय को परीक्षा केंद्र बनाया गया है। शनिवार सुबह इस विद्यालय के व्याख्याता पवन सिंह और विश्वनाथ सिंह ने कक्षा 12वीं का रसायन शास्त्र का प्रश्न-पत्र आधा घंटे पहले खोला और उसे अपने कोचिंग सेंटर के वाट्सएप ग्रुप पर भेज दिया। जिससे स्कूल के बाहर ही उनके कोचिंग में पढऩे वाले छात्र प्रश्नों के उत्तर याद करने लगे। इसी बीच प्रशासन को सूचना मिली। बार कोड से पता चला कि उक्त पेपर विद्यासागर विद्यालय का है। इसके बाद गोविंदपुरा एसडीएम मनोज वर्मा ने पुलिस बल के साथ केंद्र पहुंचे और पर्यवेक्षक पवन सिंह और विश्वनाथ सिंह के मोबाइल से प्रश्नपत्र की फोटो प्राप्त कर ली। इसके बाद दो पर्यवेक्षक और केंद्राध्यक्ष और सह केंद्राध्यक्ष के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में केंद्राध्यक्ष और सह केंद्राध्यक्ष पर आरोप है कि इन्होंने मोबाइल को परीक्षाहॉल के अंदर ले जाने की अनुमति दी। वहीं आधा घंटे पहले प्रश्न-पत्र खुलने के बाद उसकी सुरक्षा सुनिश्चित नहीं की है। फिलहाल पुलिस पूरे मामले में आरोपियों के मोबाइल जब्त कर जांच कर रही है।

4 मार्च से पेपर लीक कर रहे थे आरोपी

पुलिस सूत्रों की मानें तो विद्या सागर हायर सेकेंड्री विद्यालय के व्याख्याता पवन सिंह और विश्वनाथ सिंह चार मार्च से आधा घंटे पहले प्रश्न-पत्रों को खोलकर अपने कोचिंग के वाट्सएप ग्रुप पर भेजते रहे हैं। स्कूल शिक्षा विभाग की विजलेंस टीम के निशाने पर आने के बाद यह पूरा मामला खुला है। सूत्रों की मानें तो इस गिरोह में दूसरे जिलों के निजी विद्यालय संचालक या उनके शिक्षक इस कांड में शामिल हैं। पुलिस जल्द ही और गिरफ्तारियां कर सकती है।

निपानिया जाट में पदस्थ हैं सक्सेना

विभाग से मिली जानकारी के अनुसार केंद्राध्यक्ष राजकुमार सक्सेना निपानिया जाट में स्थित सरकारी उमा विद्यालय में प्राचार्य हैं, जबकि सह केंद्राध्यक्ष रेखा गोयल चांदबड़ हायर सेकेंड्री विद्यालय में पदस्थ हैं। दोनों पर्यवेक्षक विद्या सागर विद्यालय के व्याख्याता हैं।

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd