इंदौर में लम्पी वायरस के चलते अलर्ट हुआ जारी , कलेक्टर ने दिए आदेश

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

स्वदेश डेस्क (विशाखा धारे) – मध्यप्रदेश में भी लंपी वायरस का कहर बरस रहा हैं । प्रदेश भर में इस वायरस से कई गायो की मौत हो चुकी हैं । वहीं इंदौर में इस वायरस को लेकर अलर्ट जारी कर दिया गया हैं । तेजी से फैल रहे इस वायरस की रोकथाम के लिए इंदौर जिले में पशु हाट मार्केटों में पशुओं के खरीदने और बेचने पर पुरी तरह से पाबंदी लगा दी हैं ।बता दें कि इस वायरस से दुध के खपत पर भी भारी प्रभाव देखने को मिल रहा हैं ।

Confirmation Of Virus Lumped In Samples Of Four Cows In Ratlam, Vaccines  Called To Protect Animals From Diseas - Mp News: रतलाम में चार गायों के  सैंपल में लंपी वायरस की पुष्टि, पशुओं को बीमारी से बचाने बुलवाए गए टीके -  Amar Ujala Hindi News Live

इस वायरस के प्रभाव को देखते हुए कलेक्टर ने धारा 144 के तहत यह आदेश जारी कर दिया हैं ।  इंदौर जिले के देपालपुर विकासखण्ड के ग्राम रोमदा एवं देपालपुर में पशुओं में लंपी चर्मरोग के लक्षण पाये जाने से पशुओं में व्यापक रूप से लंपी चर्मरोग फैलने की स्थिति बन सकती हैं , इसलिए संक्रमण की रोकथाम के लिए कलेक्टर मनीष सिंह ने धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए गए हैं। ताकि पशुओं में यह रोग फैलने से बचाया जा सके।

ये भी पढ़ें:  महाकाल लोकार्पण के पहले सीएम शिवराज ने दिया जनता के नाम दिया संदेश

आदेश में यह भी कहा गया है कि किसी भी व्यक्ति या संस्थान द्वारा गौवंश या भैंस का परिवहन किसी भी प्रकार के वाहन या व्यक्तिगत पैदल रूप से अन्य जिलों की सीमाओं से जुड़े जिलों से इंदौर जिले में प्रवेश नहीं कर सकेंगे।  इंदौर जिले के राजस्व अनुभाग इंदौर, देपालपुर, हातोद, महू, सांवेर, मल्हारगंज, जूनी इंदौर, कनाडिया, राऊ, खुड़ैल, भिचोली हप्सी की सीमाओं में परस्पर एक-दूसरे अनुभाग की सीमाओं से पशु वाहनों का प्रवेश एवं आवागमन प्रतिबंधित रहेगा।  जबकि लंपी से प्रभावित पशुओं को ग्राम के सार्वजनिक जलाशय पर पानी पिलाया जाना भी प्रतिबंधित रहेगा। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू किया जाकर 18 नवम्बर 2022 तक प्रभावशील रहेगा. उक्त प्रभावशील अवधि में उक्त आदेश का उल्लघंन धारा 188 भारतीय दण्ड विधान अंतर्गत दण्डनीय अपराध की श्रेणी में आयेगा।

ये भी पढ़ें:  टाइम कीपर के 4 मकान, गोदाम, दुकान व जेसीबी मशीन मिलीं

क्या है लंपी रोग 

In Jodhpur Indigenous remedies are stopping lumpy virus in the Luni region  | Lumpy skin disease: लूणी क्षेत्र में लंपी वायरस को रोक रहें देशी उपचार,  गौवंश को मिल रही राहत | Hindi News, जोधपुर


लंपी स्किन डिजीज जिसे पशु चेचक भी कहते हैं । एक वायरल बीमारी है, जो कैपरी पाक्स वायरस से फैलती है। कैपरी पाक्स वायरस से बकरियों में गोट पाक्स नाम की बीमारी फैलती है और भेड़ों में सीप पाक्स तथा गायों में लंपी स्किन डिजीज नाम की बीमारी फैलती है।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News