कमलनाथ ने अपनाया बड़ा पैतरा , मध्यप्रदेश पेंशन स्कीम को लेकर किया ऐलान

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

स्वदेश डेस्क (विशाखा धारे)– मध्य प्रदेश में सियासी राजनीतिक चुनावी दलों के बीच पुरानी पेंशन बहाली के मुद्दों पर कांग्रेस ने एक बड़ा दांव खेला हैं । अगले साल 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए भाजपा और कांग्रेस अपने अपने दाव लगाने में जुट गए हैं। वहीं इस बीच पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने बड़ा ऐलान किया है। बता दें कि 2 अक्टुबर को प्रदेश में होने वाले लाखों कर्मचारियों के आंदोलन से पहले ही पुर्व सीएम कमलनाथ ने बुधवार को ट्वीट में लिखा है कि अगर अगले साल होने वाले चुनाव में कांग्रेस की सरकार बनती है तो राज्य में पुरानी पेंशन योजना को लागू करेंगे ।

ये भी पढ़ें:  देश में 5जी सर्विस हुआ लॉन्च, पीएम ने कहा - 5जी के साथ भारत ने रचा इतिहास

वहीं बता दें कि राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार पहले से ही यह योजना लागू कर चुकी हैं । बता दें कि प्रदेश के सरकारी कर्मचारी पिछले कुछ महीनों से ही पुरानी पेंशन स्कीम को बहाल करने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। जिसको लेकर आने वाली 2 अक्टूबर यानि की गांधी जयंती के दिन  कर्मचारियों ने बड़ा आंदोलन करने का ऐलान किया है।मध्यप्रदेश अधिकारी-कर्मचारी संयुक्त मोर्चा सभी जिलों में कर्मचारी एक ही समय पर महात्मा गांधी की प्रतिमा के नीचे दोपहर 12 से 2 बजे के बीच उपवास पर बैठेंगे। ऐसे में कमलनाथ का यह बयान सियासी हलचल मचाने के लिए माना जा रहा हैं ।

ये भी पढ़ें:  कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए मल्लिकार्जुन खड़गे ने किया नामाकंन

आखिर क्या हैं पेंशन स्कीम का यह मामला –  

दरअसल , 1 जनवरी 2005 के बाद भर्ती अधिकारी-कर्मचारियों के लिए अंशदायी पेंशन योजना लागू है। इसके तहत कर्मचारी 10% और इतनी ही राशि सरकार मिलाती है। कर्मचारी संगठन के अनुसार, इस राशि को शेयर मार्केट में लगाया जाता है। इसके चलते कर्मचारियों का भविष्य शेयर मार्केट के ऊपर निर्भर हो गया है। रिटायरमेंट होने पर 60% राशि कर्मचारी को नकद और शेष 40% राशि की ब्याज से प्राप्त राशि पेंशन के रूप में कर्मचारी को दी जाती है। पुरानी पेंशन बहाली संघ के अनुसार, पुरानी पेंशन नीति में सैलरी की लगभग आधी राशि पेंशन के रूप में मिलती थी। DA बढ़ने पर पेंशन भी बढ़ जाती थी। लेकिन नई नीति में ऐसा कुछ भी नहीं है।

ये भी पढ़ें:  महीने की शुरूआत में हुए 6 बड़े बदलाव, सस्ता हुआ कॉमर्शियल गैस सिलेंडर

जिसके बाद अब कमलनाथ ने भी इसे लागू करने का ऐलान कर दिया है। कमलनाथ इससे पहले भी प्रदेश में पुरानी पेंशन स्कीम लागू करने की बात कह चुके हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने पेंशन को लेकर कर्मचारियों से वादा भी किया है।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News