Home लाइफ स्टाइल दूध ही कैल्शियम का सबसे बेहतर विकल्प है और इसे उबालने पर...

दूध ही कैल्शियम का सबसे बेहतर विकल्प है और इसे उबालने पर पोषक तत्व खत्म हो जाते है, एक्सपर्ट से जानिए इसकी सच्चाई

41
0

एक्सपर्ट रोजाना एक गिलास दूध पीने की सलाह देते हैं, लेकिन कई लोग नाश्ते में खाली पेट दूध लेना पसंद करते हैं। वहीं, कुछ ऐसे भी हैं जो मानते हैं कि दूध को बार-बार उबालने से उसके पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं। ये दोनों ही बातें गलत हैं। आज वर्ल्ड मिल्क डे है, इस मौके पर एक्सपर्ट से जानिए दूध से जुड़े भ्रम और सच….

भ्रम: दूध ही कैल्शियम का सबसे बेहतर विकल्प है।
सच: 
ज्यादातर लोग इसे ही सच मानते हैं, लेकिन यह पूरी तरह से सच नहीं हैं। दो चम्मच चिया सीड्स में दूध से 6 गुना अधिक कैल्शियम होता है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूट्रीशन के मुताबिक, 100 एमएल दूध में 125 मिग्रा. कैल्शियम होता है, जबकि 100 ग्राम रागी में 344 मिग्रा कैल्शियम होता है। एक्सपर्ट कहते हैं, शरीर में कैल्शियम को एब्जॉर्ब होने के लिए विटामिन-डी भी पर्याप्त मात्रा में होना जरूरी है।

भ्रम: दूध को उबालने से पोषक तत्व कम हो जाते हैं।
सच: दूध को खराब होने से बचाने के लिए उसे उबाला जाता है ताकि इसे नुकसान पहुंचाने वाले बैक्टीरिया खत्म हो जाएं। इसे उबालने से इसके पोषक तत्वों पर असर नहीं पड़ता। आहार विशेषज्ञ नमिता चंदानी कहती हैं, दूध को कई बार उबालने से भी इसके पोषक तत्व नहीं खत्म होते।

भ्रम: दूध को सुबह नाश्ते में ही लेना चाहिए।
सच: आहार विशेषज्ञों के मुताबिक, दूध सुबह ले सकते हैं, लेकिन ध्यान रखें इसे खाली पेट न लें। ऐसा करने से पाचन बिगड़ सकता है। गैस बन सकती है। आयुर्वेद कहता है, अगर आपको वात और कफ दोष है तो सुबह खाली पेट दूध न लें। जिन्हें अक्सर खांसी की शिकायत रहती है, उन्हें भी सुबह खाली पेट दूध लेने से बचना चाहिए।

भ्रम: दूध पीने से पेट में ऐंठन होती है।
सच: ऐसा सिर्फ उन लोगों को होता है जिन्हें दूध से एलर्जी है। आमतौर पर ऐसा नहीं होता, लेकिन कुछ चीजों के साथ दूध लेते हैं तो एसिड की समस्या हो सकती है। जैसे, फल के तुरंत बाद दूध लेने पर ऐसा हो सकता है। आहार विशेष नमिता कहती हैं, दूध में दालचीनी या हल्दी मिलाकर पी सकते हैं। यह दूध का स्वाद भी बदलता है और इम्यूनिटी भी इजाफा करता है।

भ्रम: दूध को भोजन मानकर भी पी सकते हैं।
सच: एक्सपर्ट कहते हैं, दूध को पोषक तत्वों के आधार पर कम्प्लीट फूड कहते हैं, लेकिन इसे भोजन का विकल्प नहीं बनाया जा सकता है। शरीर को विटामिन-सी, फाइबर समेत कई पोषक तत्वों की जरूरत होती है जो दूध में नहीं होते। इसलिए इसे लंच या डिनर से रिप्लेस न करें।

Previous articleएली लिली की दवा को डीसीजीआइ से मिली मंजूरी, कोरोना के इलाज में कारगर है यह एंटीबॉडी कॉकटेल थेरेपी
Next article12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर पीएम मोदी की अध्यक्षता में बैठक शुरू

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here