Home लाइफ स्टाइल इम्यूनिटी बढ़ाने से लेकर गले की ख़राश दूर करने तक, ऐसे हैं...

इम्यूनिटी बढ़ाने से लेकर गले की ख़राश दूर करने तक, ऐसे हैं दूध के फायदे

32
0

नई दिल्ली। दूध को सदियों से सेहत के लिए ज़रूरी माना गया है। अब कोविड-19 महामारी की वजह से इम्यूनिटी को बढ़ाने, वज़न घटाने के लिए एक बार फिर दूध से बनीं देसी ड्रिंक्स फोकस में आ गई हैं। दूध का अगर रोज़ाना सेवन किया जाए, तो ये सेहत को कई तरह से फायदा पहुंचाता है।

सेहत की मज़बूती और इम्यूनिटी को बढ़ावा देने के लिए आप दूध का सेवन इन 5 तरीकों से कर सकते हैं:-

  1. हड्डियों और दांतों के लिए: दूध में कैल्शियम की मात्रा हड्डी के स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है और आपके दंत मोती को मज़बूत भी बनाती है। कैल्शियम दिल की लय, मांसपेशियों की कार्यक्षमता जैसे कई चीज़ों को बनाए रखने में मदद करता है। हार्वर्ड टीएच चैन स्कूल ऑफ मेडिसिन, चेतावनी देता है कि कैल्शियम और डेयरी प्रोडक्ट्स ऑस्टियोपोरोसिस और कोलोन कैंसर के जोखिम को कम तो कर सकते हैं, लेकिन साथ ही इसके ज़रूरत से ज़्यादा सेवन से प्रोस्टेट और ओवरी कैंसर का ख़तरा बढ़ भी सकता है। वे सलाह देते है कि सभी को रोज़ाना एक या दो ग्लास से ज़्यादा दूध नहीं पीना चाहिए। इसके अलावा डाइट में हरी पत्तेदार सब्ज़ियां और ब्रोकली, ये दोनों विटामिन-के के अच्छे स्त्रोत होते हैं, जो हड्डियों की मज़बूती के लिए ज़रूरी हैं। बीन्स और टोफू भी कैल्शियम के स्त्रोत होते हैं।
  2. कब्ज़ के लिए दूध: कब्ज़ एक वात स्थिति है, जिसका मतलब ये है कि शरीर में शुष्कता और कठोरता है। यानी शरीर को डाइट के ज़रिए फाइबर नहीं मिल रहा है, पानी और व्यायाम की कमी भी वजह है। इसके लिए सोते वक्त एक कप गर्म दूध में एक या दो चम्मच घी मिलाकर पीने से काफी फायदा मिल सकता है। हालांकि, इसे रोज़ाना न पिएं, क्योंकि इससे खांसी की समस्या भी हो सकती है।
  3. हल्दी वाला दूध: आजकल हल्दी वाला दूध आपके कैफेज़ में भी ‘टर्मरिक लाते’ या ‘गोल्ड मिल्क’ के नाम से मिल जाएगा। हल्दी वाला दूध भारत में कोई नई चीज़ नहीं है, लेकिन विदेशों में आजकल पॉपुलर हो रहा है। सुनहरे रंग की इस डिश को गाय या भैंस के दूध को गर्म कर उसमें हल्दी और दालचीनी, अदरक, चीनी जैसे अन्य मसाले मिलाकर बनाया जाता है। कुछ रेसीपीज़ में काली मिर्च, जायफल जैसे मसालों को भी शामिल किया जाता है।
    हल्दी दूध प्रोटीन, एंटीऑक्सिडेंट का एक समृद्ध स्रोत है, जिसमें कर्क्यूमिन, मैग्नीशियम, कैल्शियम और पोटेशियम शामिल होता है। ये दूध आम सर्दी-ज़ुकाम, शरीर में इंफेक्शन की वजह से होने वाली जलन या फिर पेट दर्द में कारगर साबित होता है। भारत में आमतौर पर सर्दी-खांसी होने पर मांए, एक ग्लास हल्दी का दूध दे देती हैं।
  4. दूध और अच्छी नींद का रिश्ता:
    अगर रात में नींद न आने की दिक्कत से गुज़र रहे हैं, तो सोने से पहले एक ग्लास गर्म दूध पीने से नींद अच्छी आ सकती है। दूध में कुछ यौगिक – विशेष रूप से ट्रिप्टोफैन और मेलाटोनिन – आपको सो जाने में मदद कर सकते हैं।
  5. वज़न घटाने के लिए दूध:
    दूध में प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है इसीलिए यह वजन घटाने और मांसपेशियों के निर्माण में मददगार साबित हो सकता है। प्रोटीन मानव शरीर में सभी प्रक्रियाओं के लिए बिल्डिंग ब्लॉक की तरह होते हैं, ख़ासतौर से मांसपेशियों के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण हैं। दूध में मौजूद प्रोटीन आपकी भूख को नियंत्रण में रखेगा और पोषण भी पहुंचाएगा।
    आयरन को छोड़ दिया जाए तो दूध में स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखने के लिए सभी आवश्यक पोषक तत्व होते हैं, यही वजह है कि इसे संपूर्ण भोजन भी माना जाता है। यह प्रोटीन, विटामिन-ए, बी1, बी2, बी12, डी, कैल्शियम, पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसलिए आपको दूध का सेवन ज़रूर करना चाहिए, लेकिन अगर आप लैक्टॉस इंटॉलेरेंट हैं, या आपको दूध से किसी तरह की एलर्जी है, तो डॉक्टर से ज़रूर सलाह लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here