अमेरिका और रूस ने आबू दाबी एयरपोर्ट पर बदले कैदी

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

रूस और अमेरिका ने अपनी जेलों से एक-एक कैदी को रिहा किया हैं । जहां एक तरफ अमेरिका ने हथियारों के डीलर विक्टर बाउट को अपनी कैद से छोड़ा, तो दूसरी ओर रूस ने भी अमेरिका की बास्केटबॉल स्टार और ओलिंपिक मेडलिस्ट ब्रिटेनी ग्रिनर को रिहा किया है । प्राइवेट प्लेन के जरिए दोनों कैदियों को UAE में अबू धाबी एयरपोर्ट पर लाया गया था। जहां दोनों ही कैदी प्लेन से एयरपोर्ट पर उतरे और अपने-अपने देश के अधिकारियों के साथ वापस अपने वतन लौट गए।

अमेरिका की तरफ से दो बार की ओलिंपिक मेडलिस्ट रह चुकी हैं ब्रिटेनी ग्रिनर
ओलिंपिक मेडलिस्ट रह चुकी हैं ब्रिटेनी ग्रिनर ।

ग्रिनर को रूस ने इसी साल फरवरी में प्रतिबंधित कैनाबीस ऑयल के साथ मास्को एयरपोर्ट पर पकड़ा था। जिसके बाद जुलाई में बाइडेन प्राशसन ने ब्रिटेनी की रिहाई के लिए विक्टर बाउट को रिहा करने का प्रस्ताव दिया था। US जानता था कि रूस भी बाउट को रिहा कराना चाहता है।

ये भी पढ़ें:  बांग्लादेश के 14 हिंदू मंदिरों पर हुआ हमला
विक्टर बाउट पर अल कायदा और तालिबान को भी गैर कानूनी तरीके से हथियार पहुंचाने के आरोप हैं।
विक्टर बाउट पर गैर कानूनी तरीके से हथियार पहुंचाने के लगे आरोप ।

ब्रिटेनी के अमेरिका पहुंचने के बाद व्हाइट हाउस में अमेरिका के राष्ट्रपति ने बयान दिया। उन्होंने कहा कि मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि ब्रिटेनी ग्रिनर सुरक्षित हैं उन्हें बेहतर होने में कुछ समय लगेगा। वहीं विक्टर बाउट 12 साल से अमेरिकी जेल में कैद था। उसे दुनिया भर में गैर कानूनी तरीके से हथियार पहुंचाने के कारण मर्चेंट ऑफ डेथ, यानी मौत का सौदागर कहा जाता है।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News