Home विदेश संयुक्‍त राष्‍ट्र ने कहा, तालिबान ने महिलाओं समेत कई वादे तोड़े, कतर...

संयुक्‍त राष्‍ट्र ने कहा, तालिबान ने महिलाओं समेत कई वादे तोड़े, कतर ने की अपील

40
0

जिनेवा। संयुक्त राष्ट्र ने तालि‍बान के तौर-तरीकों की सख्‍त आलोचना की है। यूएन की एक अधिकारी ने कहा कि अफगानिस्तान में तालिबान शासकों ने महिलाओं को घर पर रहने का आदेश देने, किशोर लड़कियों को स्कूल जाने से रोकने और घर-घर जाकर तलाशी लेने सहित अधिकारों पर सार्वजनिक वादों का खंडन किया है। मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाचेलेट ने कहा कि अफगानिस्तान एक ‘नए और खतरनाक चरण’ में है क्योंकि पिछले महीने आतंकी इस्लामी समूह तालि‍बान ने अफगानिस्‍तान की सत्ता पर कब्जा कर लिया था। इसके बाद से काफी संख्‍या में महिलाओं और जातीय और धार्मिक समुदायों के सदस्य चिंतित थे।

उन्‍होंने जिनेवा में मानवाधिकार परिषद को बताया कि यह उन आश्वासनों के विपरीत है कि तालिबान महिलाओं के अधिकारों को बनाए रखेगा, पिछले तीन हफ्तों में महिलाओं को सार्वजनिक क्षेत्र से उत्तरोत्तर बाहर रखा गया है । बाचेलेट ने महिलाओं की अनुपस्थिति और जातीय पश्तूनों द्वारा उसके प्रभुत्व को ध्यान में रखते हुए तालिबान सरकार की संरचना पर निराशा व्यक्त की।

उन्होंने कहा कि अफगानिस्‍तान में तालिबान की सत्‍ता में प्रतिशोध में हत्याओं की रिपोर्ट की गई है। कुछ जगहों पर 12 साल से अधिक उम्र की लड़कियों को स्कूल जाने से रोक दिया गया है, वहीं महिलाओं को घर पर रहने के लिए कहा गया है। 2001 में अमेरिका के नेतृत्व वाले आक्रमण से पहले 1996-2001 के बीच तालिबान के दमनकारी शासन की याद दिलाता है, जिसे बाद में गिरा दिया गया था।

महिलाओं के अधिकारों का सम्‍मान करे तालिबान

उधर, कतर के विदेश मंत्री ने कहा कि अफगानिस्तान के नए तालिबान शासकों से कतर ने महिलाओं के अधिकारों का सम्मान करने का आग्रह किया है और उनकी सरकार को मान्यता देने पर विचार करना अभी भी जल्दबाजी होगी। शेख मोहम्मद बिन अब्दुलरहमान अल-थानी दोहा में फ्रांसीसी विदेश मंत्री जीन-यवेस ले ड्रियन के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में बोल रहे थे।

ले ड्रियन ने कहा कि दर्जनों फ्रांसीसी नागरिक अभी भी अफगानिस्तान में हैं और पेरिस उन्हें निकालने के लिए कतर के साथ काम कर रहा है। शेख मोहम्मद ने कहा कि हमने हमेशा तालिबान की सरकार से आग्रह किया है। हमने कल दोहराया कि महिलाओं के अधिकारों और अफगानिस्तान के विकास में उनकी भूमिका सहित अफगान लोगों के लाभ की रक्षा की जानी चाहिए।

Previous articleतालिबानी नेता बरादर का आडियो क्लिप जारी, कहा- मैं पूरी तरह से सुरक्षित, उड़ाई गई मौत की अफवाह
Next articleपूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह के पोते इंद्रजीत सिंह ने थामा भाजपा का दामन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here