Home » नेवी चीफ की चेतावनी- हिंद प्रशांत में अमेरिका और चीन के बीच बढ़ती प्रतिस्पर्धा भारत के लिए खतरा

नेवी चीफ की चेतावनी- हिंद प्रशांत में अमेरिका और चीन के बीच बढ़ती प्रतिस्पर्धा भारत के लिए खतरा

नौसेना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार ने हिंद प्रशांत क्षेत्र में अमेरिका और चीन के बीच बढ़ती प्रतिस्पर्धा को लेकर चेतावनी जारी की है। उन्होंने कहा कि हिंद प्रशांत (इंडो-पैसिफिक) क्षेत्र में अमेरिका और चीन की प्रतिद्वंद्विता की एक ‘मैराथन’ होने की संभावना भारत के लिए खतरे की घंटी है। विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन (VIF) में ‘मैरीटाइम डोमेन में राष्ट्रीय सुरक्षा चुनौतियों पर विमर्श’ में एक संबोधन में नौसेना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार ने इंडो-पैसिफिक में बढ़ती जियो पॉलिटिक्स के खेल पर चिंता जताते हुए कहा ‘US-चीन प्रतिद्वंद्विता यहां लंबे समय तक रहने वाली है, यह छोटे समय के लिए नहीं है, यह एक मैराथन होगी, जैसे वे लगे हुए हैं।’ उन्होंने आगे कहा ‘इसने अनिवार्य रूप से पश्चिम और चीन के बीच एक नौसैनिक हथियारों की दौड़ को मित्र देशों और केंद्रीय शक्तियों के बीच विश्व युद्ध -1 के युग के समान बना दिया है।’ नौसेना प्रमुख ने कहा कि क्षेत्र में अमेरिका-चीन प्रतिद्वंद्विता ने हथियारों की दौड़ को जन्म दिया है। उन्होंने कहा ‘उदाहरण के लिए, चीन ने पिछले 10 सालों में 148 युद्धपोतों को अपने बेडे़ में शामिल किया है जो मैं कहूंगा क शायद पूरे भारतीय नौसेना का आकार है और प्रक्रिया अभी भी जारी है।’ नौसेना प्रमुख ने आगे कहा ‘ हथियारों की इस दौड़ ने हमारे संसाधन-संपन्न क्षेत्र को प्रभाव, बाजार, संसाधनों और ऊर्जा के लिए धक्का-मुक्की का अखाड़ा बना दिया है।’ नौसेना प्रमुख ने बताया कि प्रतिद्वंद्विता ने क्षेत्र में जगह के लिए धक्का-मुक्की को जन्म दिया है, जहां कई बाहरी ताकतें आना चाहती हैं। उन्होंने अपने संबोधन में आगे कहा ‘बड़ी संख्या में देश अपनी इंडो-पैसिफिक रणनीति के साथ सामने आए हैं और उनमें से कई इस क्षेत्र से संबंधित नहीं हैं।’ आर हरि कुमार ने आगे कहा ‘एक साथ प्रतिस्पर्धा और सहयोग सुरक्षा की जटिलताओं को बढ़ाता है। जबकि यूरोप में चल रहे संघर्ष के बारे में बहुत कुछ कहा गया है। तथ्य यह है कि पश्चिम द्वारा रूस पर व्यापक प्रतिबंधों के बावजूद अधिकांश यूरोपीय देश रूस से तेल और गैस प्राप्त कर रहा है. जो इस बात को रेखांकित करता है कि संघर्षों के दौरान भी, यह संभावना नहीं है कि देश पूरी तरह से आपसी निर्भरता संबंधों से रहित हो सकते हैं।’

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd