Home विदेश जापान में एथलीटों को जिन 500 शहरों में रुकना था, वहां के...

जापान में एथलीटों को जिन 500 शहरों में रुकना था, वहां के मेजबानों ने हाथ खड़े किए

32
0

जापान में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच 23 जुलाई से ओलिंपिक खेल प्रस्तावित हैं। इस महामारी ने इस खेल से जुड़ी सारी तैयारियों को फीका कर दिया है। विदेशी खिलाड़ियों के प्रशिक्षण और जापान के मौसम में ढलने के लिए उनके लिए 500 से अधिक शहरों और कस्बों में सैकड़ों शिविर बनाए गए थे।

इसके लिए चार साल से 41 हजार समुदायों को तैयार किया गया था। हर टीम और उसकी जरूरत के हिसाब से इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया गया था। लेकिन अब ये शहर वीरान हैं और कोरोना ने लोगों के जीवन के सबसे शानदार अनुभव को छीन लिया है।

हालांकि, अभी तक यह तय नहीं है कि ओलिंपिक गेम होते हैं तो दुनियाभर के एथलीट कहां ठहरेंगे। क्या पहले से तय समुदाय के मेहमान बनेंगे, जो 2016 से उनकी राह देख रहे हैं। टोयामा प्रांत के कुरूम्बे शहर में एक्सचेंज प्रमोशन डिवीजन के प्रवक्ता हारुना टेराडा कहते हैं कि यहां हर सदस्य निराश है। कम्युनिटी ने भारतीय तीरंदाजी टीम की मेजबानी के लिए करार किया था।

समझौते के तहत यहां की कम्युनिटी को भारतीय तीरंदाजी टीम को सांस्कृतिक अनुभवों जैसे तीज-त्योहार, कला और संगीत जैसे कार्यक्रमों से रूबरू कराना था। साथ ही खिलाड़ियों के प्रशिक्षण के लिए स्कूल-कॉलेज में व्यवस्था की गई थी। टेराडा कहते हैं कि फिलहाल हमें नहीं पता है कि हमने जो योजनाएं बनाई हैं, उन पर क्या होने वाला है। हम अब भी सरकार के बयान का इंतजार कर रहे हैं।

हालांकि वे इस बात को मानते हैं कि तीरंदाज सख्त नियमों के तहत कुरोबे शहर का दौरा करने में सक्षम हैं। लेकिन कोविड प्रोटोकॉल के तहत वे स्थानीय छात्रों या निवासियों के साथ कोई सीधा संपर्क नहीं कर पाएंगे। हालांकि एक अन्य मेजबान समुदाय इस असमंजस में नहीं है। दक्षिणी जापान में शिमाने प्रांत में ओके इजुमो शहर ने भारतीय हॉकी टीम के लिए एक पूर्व-ओलिंपिक प्रशिक्षण शिविर की तैयारी में 36 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। लेकिन अब यह योजना रद्द हो गई है।

अन्य समुदायों की तरह, तैयारी का एक बड़ा हिस्सा यात्रा में चला गया था, जिसमें एक उत्सव, हॉकी प्रशिक्षण और स्थानीय बच्चों के साथ मैच शामिल था। शहर के एक प्रवक्ता शेरो हसेगावा बताते हैं, “हम इस बारे में कई वर्षों से उत्साहित थे, लेकिन मौजूदा स्थिति में यह संभव नहीं है। इसलिए हमने इसे रद्द करने का फैसला लिया।

80% जापानियों को डर- ओलिंपिक सुपर स्प्रेडर इवेंट होगा

टोक्यो ओलिंपिक शुरू होने में 10 हफ्ते बचे हैं। जापान के लोग इसे सुपर स्प्रेडर इवेंट मान रहे हैं। कई जनमत सर्वे में 80% से अधिक लोग इस इवेंट के पक्ष में नहीं हैं। जापानी सरकार, टोक्यो प्राधिकरण और अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति कहती हैं कि वे योजना के अनुसार आगे बढ़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here