Home विदेश टेलीकॉम कंपनी हमास के साथ, तो इजरायलियों ने छोड़े कनेक्शन

टेलीकॉम कंपनी हमास के साथ, तो इजरायलियों ने छोड़े कनेक्शन

29
0

इजरायल और फिलिस्तीन में पिछले 10 दिन से चल रहे संघर्ष के बीच इजरायल में दो गुट आमने-सामने आ गए हैं। इनमें से पहला गुट है इजरायल के नागरिक, जो अपने देश के साथ खड़े हैं। वहीं दूसरा गुट वह है, जो फिलिस्तीन के पक्ष में है और हमास का भी समर्थन कर रहा है। इसमें ज्यादातर अरब देशों के नागरिक हैं, जो दुनिया के अलग-अलग देशों से आकर इजरायल की कंपनियों में नौकरी कर रहे हैं।

दोनों देशों के बीच जारी मौजूदा जंग का इस कदर असर हुआ है कि 40 साल के इतिहास में पहली बार इजरायल के लूद और रामले जैसे शहरों में प्रदर्शन हो रहे हैं। खास बात यह है कि इन प्रदर्शनकारियों ने हमास के प्रति समर्थन जताया है। मामला तब और गर्मा गया, जब इजरायल ने दोनों ही शहरों में प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ सेना उतार दी। हालांकि, हमास का समर्थन करने वाले प्रदर्शनकारियों में शामिल अपने कर्मचारियों को स्थानीय कंपनियों ने चेतावनी दी है।

दूसरी तरफ इजरायल में मोबाइल सेवा देने वाली कंपनी सेल्कॉम ने अरबियों द्वारा किए जा रहे प्रदर्शन को समर्थन देने का ऐलान कर दिया है। इससे इजरायली नागरिक बुरी तरह भड़क उठे हैं। इसका नतीजा यह हुआ कि इस ऐलान के महज दो घंटे के भीतर 28 हजार से ज्यादा इजरायली नागरिकों ने सेल्कॉम के मोबाइल कनेक्शन कटवा डाले।

इधर, इजरायल में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। रोजमर्रा की इस्तेमाल होने वाली वस्तुओं की बिक्री करने वाली दुकानों को एक निश्चित समय के लिए ही खोलने की अनुमति है। इसमें भी 80 फीसदी बाजार ही खुल रहे हैं। हालांकि इस दौरान बीच-बीच में बमबारी होने पर अलर्ट सायरन बज उठता है और व्यापारी तत्काल दुकानें बंद कर सेफ्टी रूम में पहुंच जाते हैं। सेफ्टी रूम और शेल्टर होम में सरकार और सामाजिक संगठन लोगों को बाथरूम, टॉयलेट, किचन, फ्रिज, माइक्रोवेव और स्टोरेज सहित सभी जरूरी सुविधाएं मुहैया करवा रहे हैं।

फिलीस्तीन की मदद करेगी पाक की इमरान सरकार
पाकिस्तान सरकार ने इजरायली हमले झेल रहे फिलीस्तीन को मदद देने का फैसला किया है। मंगलवार को इमरान खान की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में तय किया गया कि पाकिस्तान फिलिस्तीनियों को मेडिकल किट्स भेजेगा। दूसरी ओर मंगलवार को ही पाक के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी तुर्की पहुंचे। वे राष्ट्रपति एर्दोगन से मुलाकात कर इजरायल के खिलाफ रणनीति का खाका बनाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here