Home विदेश सम्मान: भारतीय मूल की पत्रकार मेघा को मिला पुलित्जर, दुनिया के सामने...

सम्मान: भारतीय मूल की पत्रकार मेघा को मिला पुलित्जर, दुनिया के सामने खोली चीन के झूठ की पोल, चीन सरकार ने रद्द किया था वीजा

36
0

न्यूयॉर्क। भारतीय मूल की पत्रकार मेघा राजगोपालन ने पुलित्जर अवार्ड जीता है। उन्होंने दुनिया के सामने चीन के हिरासत केंद्रों की सच्चाई को उजागर किया था। चीन के शिनजियांग प्रांत में बने इन केंद्रों में लाखों उइगर मुस्लिमों को कैद कर रखा गया है। मेघा के अलावा भारतीय मूल के नील बेदी को भी इस प्रतिष्ठित पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

चीन सरकार ने रद्द किया था वीजा

इंटरनेट मीडिया बजफीड न्यूज ने बताया कि वर्ष 2017 में मेघा ने पहली बार एक हिरासत केंद्र का तब दौरा किया था, जब चीन ने इस तरह की जगह होने से इन्कार किया था। वहां की सरकार ने मेघा को चुप कराने की कोशिश की थी। उनका वीजा रद्द कर दिया था और देश से निकाल दिया था। हालांकि लंदन से काम करने वाली मेघा ने चुप रहने से इन्कार कर दिया और चीन का सच दुनिया के सामने लाने के लिए काम किया।

पुरस्कार जीतने के बाद मेघा ने कहा, ‘मुझे पुरस्कार जीतने की कोई उम्मीद नहीं थी। मैं अपने सहयोगियों के प्रति आभारी हूं।’ मेघा ने इंटरनेशनल रिपोर्टिग श्रेणी में यह पुरस्कार जीता है। उन्होंने दो सहयोगियों के साथ मिलकर सैटेलाइट तस्वीरों के जरिये यह उजागर किया कि चीन ने किस तरह लाखों उइगरों को हिरासत केंद्रों में रखा है। मेघा ने इस पुरस्कार को बजफीड न्यूज के दो सहकर्मियों के साथ साझा किया है।

पिता ने बेटी को दी बधाई

मेघा राजगोपालन ने अपने पिता के बधाई संदेश को ट्विटर पर पोस्ट किया। इस मैसेज में उनके पिता मेघा को पुलित्जर पुरस्कार मिलने की बधाई दी है। उनके पिता ने लिखा कि बधाई मेघा, मम्मी ने मुझे अभी यह संदेश भेजा है। पुलित्जर पुरस्कार। बहुत बढ़िया। जिसके जवाब में मेघा ने थैंक्स लिखकर रिप्लाई किया।

भारतवंशी नील ने भी जीता पुरस्कार

भारतीय मूल के नील बेदी ने अमेरिका के फ्लोरिडा में अधिकारियों की उस पहल पर खोजी रिपोर्टिग की थी, जिसमें उन लोगों की पहचान के लिए कंप्यूटर आधारित माडल का इस्तेमाल किया गया था, जिन पर भावी समय में कोई अपराध करने का संदेह था। बेदी टंपा बे टाइम्स के खोजी पत्रकार हैं। बेदी के साथ कैथलीन मैकग्रोरी ने स्थानीय श्रेणी में यह पुरस्कार जीता है।

रायटर और न्यूयार्क टाइम्स को भी पुलित्जर

कोरोना महामारी और अमेरिकी पुलिस में नस्ली असमानता पर अपनी रिपोर्टिग के लिए रायटर, न्यूयार्क टाइम्स, द अटलांटिक और द मिनियापोलिस स्टार ट्रिब्यून को भी पुलित्जर पुरस्कार प्रदान किया गया। इन पुरस्कार का एलान शुक्रवार को किया गया। अमेरिका में गत वर्ष मई में अश्वेत व्यक्ति जार्ज फ्लायड की पुलिस के हाथों हत्या की कवरेज के लिए द मिनियापोलिस स्टार ट्रिब्यून को यह पुरस्कार प्रदान किया गया।

1917 से दिया जा रहा यह अवार्ड पुलित्जर

पुरस्कार हर साल 21 श्रेणियों में दिए जाते हैं। प्रत्येक विजेता को प्रमाणपत्र के साथ 15 हजार डॉलर (करीब 11 लाख रुपये) दिए जाते हैं। अमेरिकी पत्रकारिता में पुलित्जर सर्वाधिक प्रतिष्ठित पुरस्कार है। यह पुरस्कार 1917 से प्रदान किया जा रहा है।

Previous articleभुख से परेशान गांव में दिव्यजीवन एवं गूंज संस्था ने पहुंचाया महीने भर का राशन
Next articleबंधुआ मजदूरी और उइगर मुस्लिमों के उत्‍पीड़न के मसले पर चीन को घेरने में जुटा अमेरिका, बनाई रणनीति

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here