Home विदेश चीन ने जनगणना के एक साल बाद जारी किए आंकड़े, 10 साल...

चीन ने जनगणना के एक साल बाद जारी किए आंकड़े, 10 साल में घट गई जनसंख्या वृद्धि दर

31
0

चीन सरकार ने मंगलवार को दस साल की जनगणना के आंकड़े जारी किए। जनगणना का काम पिछले साल ही पूरा हो गया था, लेकिन आंकड़े अब जारी किए गए हैं और वो भी बहुत कम। बहरहाल, इन आंकड़ों के हिसाब से देखें तो 2011 से 2020 के बीच चीन की जनसंख्या वृद्धि दर 5.38% रही। 2010 में यह 5.84% थी। जाहिर है जनसंख्या वृद्धि दर कम रही और अब चीन के विशेषज्ञ देश के लिए इसे अच्छा संकेत नहीं मान रहे।

कुछ एक्सपर्ट्स इसे 1979 में अपनाई गई ‘वन चाइल्ड पॉलिसी’ का रिवर्स इफेक्ट मानते हैं। हालांकि, यह पॉलिसी 2016 में खत्म कर दी गई थी। लेकिन, अब यहां कपल्स इसके आदी हो चुके हैं। ताजा आंकड़ों के मुताबिक, चीन की जनसंख्या फिलहाल, 1 अरब 41 करोड़ है। 2010 की तुलना में 72 मिलियन ज्यादा। चीन में पहली जनगणना 1953 में कराई गई थी। इसके बाद से यह सबसे कम जनसंख्या वृद्धि दर है। और यही बीजिंग की फिक्रमंदी का सबब भी है।

वर्क फोर्स कम होने का खतरा
‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन सरकार को अब यह डर सताने लगा है कि भविष्य में कहीं देश में काम करने लायक सही उम्र वालों (work force) की कमी न हो जाए। पिछले साल चीन में 12 लाख बच्चों ने जन्म लिया।

देश में जनगणना के मुख्य अधिकारी निंग जिंझे के मुताबिक- चार साल से हम बच्चों की कम होती जन्म दर यानी बर्थ रेट देख रहे हैं। यह भविष्य के लिहाज से अच्छे संकेत नहीं कहे जा सकते।

चीन की ताकत कम हो जाएगी
रिपोर्ट के मुताबिक, चीन दुनिया की दूसरी बड़ी इकोनॉमी और सुपर पॉवर है। अगर इसी रफ्तार से वर्क फोर्स कम होता गया तो भौगोलिक हालात भी तेजी से बदलेंगे। इसका सीधा असर इकोनॉमिक ग्रोथ और सेना पर भी पड़ेगा। जिंझे मानते हैं कि चीन में युवाओं की तुलना में बुजुर्गों की तादाद कम होना भी चिंता की वजह है। इससे खर्च बढ़ेगा और आमदनी कम होगी। पेंशन और दूसरे उपायों पर खर्च ज्यादा करना पड़ेगा।

शादी की उम्र बहुत ज्यादा
इसी रिपोर्ट में बताया गया है कि 2014 के बाद से चीन में शादी करने की औसत उम्र बढ़ती जा रही है। यानी युवा सही उम्र में शादी नहीं कर रहे हैं। इसका सीधा संबंध जन्म दर से है। इतना ही नहीं, मुसीबत दोहरी है। एक और जहां युवा देरी से शादी कर रहे हैं वहीं, 2003 के बाद से तलाक लेने वालों की तादाद बहुत तेजी से बढ़ी है। इस बढ़ते ट्रैंड को कम करने के लिए स्कूल और कॉलेजों में परिवार और बच्चों के महत्व पर स्पेशल कोर्स लाए जा रहे हैं।

चीन की इस परेशानी के कुछ कारण

  • मातृत्व दर 1.3% है। मोटे तौर कपल्स एक से ज्यादा बच्चे नहीं चाहते।
  • वन चाइल्ड पॉलिसी की वजह से जेंडर गैप बढ़ा। बेटियों की भ्रूण हत्या कर दी गई। फिलहाल, करीब 112 पुरुषों पर 100 महिलाएं हैं। 2010 में यह 118 पुरुषों पर 100 महिलाएं थीं। यानी इस मामले में हालात बेहतर हुए।
  • युवा एजुकेशन और कॅरियर पर काफी फोकस कर रहे हैं। कई बार वे कॅरियर बनाने के चक्कर में परिवार से दूर हो जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here