चीन ने ताइवान की यात्रा करने पर नैंसी पेलोसी पर लगाई पाबंदी

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

अमेरिकी संसद की स्पीकर नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा से चीन बहुत भड़का सा गया है। इसके चलते वो बहुत आक्रामक रूख अपना रहा है। अब चीन ने अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी पर शुक्रवार को पाबंदी लगा दी। इस पर चीनी विदेश मंत्रालय के हवाले से समाचार एजेंसी एएफपी ने यह खबर दी है। कि पेलोसी ने चीन की धमकियों की परवाह किए बगैर शनिवार को ताइवान का एक दिन का दौरा किया था।

चीन ने किया युद्धभ्यास शुरू

चीन ने गुरुवार को ताइवान की घेराबंदी के लिए युद्धभ्यास शुरू कर दिया है। इसके बाद ऐसी खबर सामने आई है कि चीन ने पांच मिसाइलें दागीं, जो जापान के इईजेड में जाकर गिरीं। इसका जापान ने कड़ा विरोध जताया है। वहीं चीन के 22 विमानों ने एक बार फिर ताइवान के वायु रक्षा क्षेत्र में प्रवेश किया। इन सबके बीच नैंसी पेलोसी जापान की राजधानी टोक्यो पहुंच गईं।

ये भी पढ़ें:  कैलिफोर्निया में हुई दो छोटे विमानों की भिड़ंत

चीन ने अमेरिका के साथ कई मुद्दों पर बातचीत रोकी

चीन ने पेलोसी की ताइवान यात्रा के प्रतिशोध में जलवायु परिवर्तन, सैन्य मुद्दों, नशीली दवाओं के खिलाफ काम पर अमेरिका के साथ बातचीत रोक दी है, एपी के हवाले से ये खबर सामने आई है।

अब चीन ने जापान पर उठाई उंगली

चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने शुक्रवार को एक नियमित ब्रीफिंग के दौरान कहा कि ताइवान जलडमरूमध्य में मौजूदा तनाव पर जापानी अधिकारियों के हालिया बयान गलतियों को सही ठहराने का एक प्रयास है।

जापानी प्रधानमंत्री किशिदा ने पेलोसी से मुलाकात की

जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने शुक्रवार को कहा कि ताइवान की ओर लक्षित चीन का सैन्य अभ्यास एक ‘‘गंभीर समस्या’’ के दिखाता है, जिससे क्षेत्रीय शांति एवं सुरक्षा को खतरा है। दरअसल, अभ्यास के तौर पर चीन द्वारा दागी गयी पांच बैलिस्टिक मिसाइलें जापान के विशेष आर्थिक क्षेत्र में गिरीं।

ये भी पढ़ें:  चीन की धमकियों के बीच, अमेरिका बढ़ाएगा ताइवान के साथ कारोबार

चीन ने यूरोपीय देशों के राजदूतों को किया तलब

अमेरिकी संसद की स्पीकर नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा से भड़के चीन ने अब यूरोपियन यूनियन में शामिल सात देशों के राजदूतों को तलब किया है। जानकारी के मुताबिक, चीन ने उनके साझा बयान का विरोध दर्ज कराया है। दरअसल, इन देशों की ओर से बयान में कहा गया था कि ताइवान की सीमा पर चीन का सैन्य अभ्यास गलत है और इसे तत्काल रोका जाना चाहिए। चीन का कहना है, यूरोपीय देशों का यह बयान हमारे आंतरिक मामलों में दखल है।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News