Home विदेश म्‍यांमार में चीन को सबसे बड़ा घाटा, 32 फैक्ट्रियों में प्रदर्शनकारियों ने...

म्‍यांमार में चीन को सबसे बड़ा घाटा, 32 फैक्ट्रियों में प्रदर्शनकारियों ने लगाई आग, अरबों का नुकसान

18
0

यंगून । म्यांमार में सैन्य तख्तापलट का समर्थन करना चीन को अब भारी पड़ता दिखाई दे रहा है। लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर म्यांमार की क्रूर सेना का बचाव करने पर अपना गुस्सा चीनी फैक्ट्रियों पर निकाला है। म्यांमार के सबसे बड़े शहर यंगून में चीन के निवेश वाली 32 फैक्ट्रियों पर हमले हुए हैं। प्रदर्शनकारियों ने इन फैक्ट्रियों में न सिर्फ आगजनी की है, बल्कि कईयों को लूट लिया गया है। दरअसल, म्यांमार में तख्तापलट के पीछे चीन का हाथ बताया जा रहा है, जो लंबे समय से वहां की लोकतांत्रित सरकार से खुश नहीं था।

260 करोड़ से ज्यादा का नुकसान

म्यांमार में स्थित चीनी दूतावास के अनुसार, यंगून में चीनी निवेश वाली कुल 32 फैक्ट्रियों पर हमले हुए हैं। इन हमलों में 36 मिलियन डॉलर ( 261 करोड़ रुपये से ज्यादा) से ज्यादा का नुकसान हुआ है। इन हमलों में फैक्टरियों में काम करने वाले चीन के दो नागरिक भी घायल हुए हैं। उधर, चीनी विदेश मंत्रालय ने चीन की फैक्ट्रियों पर हो रहे हमले को रोकने और चीनी कर्मचारियों और उद्यमों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए म्यांमार की सेना से बात की है। चीन ने हमला करने वाले प्रदर्शनकारियों को दंडित करने को भी कहा है।

फैक्टरियों वाले इलाके में मॉर्शल ला घोषित

चीनी सरकार के इस बयान के तुरंत बाद म्यांमार की सैन्य सरकार ने इन फैक्ट्रियों वाले इलाके में मार्शल लॉ घोषित कर दिया है। यह वही इलाका है जहां रविवार को शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन के दौरान सुरक्षाबलों द्वारा 37 से अधिक लोगों को मार दिया गया। म्यांमार के आम लोगों ने चीन के इस बयान की कड़ी निंदा की है। यहां के लोगों में चीन के खिलाफ आक्रोश दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है।

सोशल मीडिया में म्यांमार के खिलाफ फूटा लोगों का गुस्सा

10 लाख से अधिक लोगों ने सोशल मीडिया में चीन के बयान की निंदा की है। एक यूजर ने लिखा कि हम पूरी तरह से अपने हितों के लिए खड़े होकर चीनी दूतावास के बयान की कड़ी निंदा करते हैं। शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन के दौरान सैकड़ों लोगों की जान जाने के बावजूद चीन सैन्य शासन की निंदा करने में विफल रहा है। एक दूसरे यूजर ने लिखा कि आप पर शर्म आती है, चीन! आप बर्मी लोगों की गैरकानूनी हत्या की पूरी तरह से अनदेखी करते हैं और केवल अपने स्वार्थ के लिए बोलते हैं।

म्यांमार में अब तक मारे गए 138 प्रदर्शनकारी

संयुक्त राष्ट्र ने सोमवार को कहा कि म्यांमार में एक फरवरी को हुए सैन्य तख्तापलट के बाद से शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे कम से कम 138 लोग मारे गए हैं। विश्व निकाय के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने बताया कि इनमें से 38 लोग रविवार को मारे गए। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों के खिलाफ की जा रही हिंसा की कड़ी निंदा करते हैं।

अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने हिंसा की निंदा की

अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने हिंसा की निंदा की है। संयुक्त राष्ट्र, अमेरिका, चीन और ब्रिटेन ने हिंसा की निंदा की है जबकि म्यांमार का सैन्य प्रशासन नरम होता नहीं दिखाई दे रहा है। वहीं, प्रदर्शनकारियों ने भी हार नहीं मानी है। रविवार को तीन दर्जन से ज्यादा लोगों के मारे जाने के बावजूद सोमवार को एक बार फिर लोग सड़कों पर उतरे और फिर से हिंसा का शिकार बने।

मार्शल लॉ लागू

म्यांमार में सत्तारूढ़ जुंटा (सैन्य शासन) ने देश के सबसे बड़े शहर यांगून की छह टाउनशिप में मार्शल लॉ लागू कर दिया है। असैन्य सरकार का तख्ता पलट करने के खिलाफ हो रहे प्रदर्शनों को काबू करने के लिए की जा रही सख्त कार्रवाई और दर्जनों प्रदर्शनकारियों के मारे जाने के बाद जुंटा शासन ने यह कदम उठाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here