बांग्लादेश को मिली सौगात, प्रधानमंत्री शेख हसीना ने किया देश के सबसे लंबे पद्मा ब्रिज का लोकार्पण

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

यह पुल विश्व बैंक की सहायता से बनना था। हालांकि, 2009 में शेख हसीना के सत्ता में आने के बाद विश्व बैंक ने 12 अरब डॉलर की फंडिंग को भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद रद्द कर दिया।
ढाका,
करीब 21 साल के लंबे इंतजार के बाद बांग्लादेश के लोगों को एक बड़ी सौगात मिली है। यहां पद्मा नदी पर बने पुल को आज लोगों के खोल दिया गया है। यह पुल बांग्लादेश का सबसे लंबा पुल है, जो देश की राजधानी ढाका और मोंगला पोर्ट के बीच की दूरी को कम करेगा। खबरों के मुताबिक, इससे बांग्लादेश को क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय व्यापार में बढ़ावा मिलेगी। शनिवार को जबरदरस्त उत्साह के बीच प्रधानमंत्री शेख हसीना ने इस पुल का लोकापर्ण किया। इस दौरान ‘हमारा पैसा, हमारा ब्रिज, हमारा गौरव- पद्मा ब्रिज’ के नारे भी लोगों ने लगाए। बांग्लादेश सरकार ने इस मौके पर न्यूज एजेंसी एएनआई से बताया कि यह बांग्लादेश के लोगों के लिए एक सपने का सच होने जैसा है। इस पुल के माध्यम से बांग्लादेश की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है। सरकार का अनुमान है कि पुल के कारण सकल घरेलू उत्पाद में 1.23 प्रतिशत और दक्षिण-पश्चिम क्षेत्री सकल घरेलू उत्पाद में 2.3 प्रतिशत की वृद्धि होगी।
2009 में हसीना सरकार को लगा था झटका
बांग्लादेश के प्रधानमंत्री कार्यालय ने बताया, यह पुल विश्व बैंक की सहायता से बनना था। हालांकि, 2009 में शेख हसीना के सत्ता में आने के बाद विश्व बैंक ने 12 अरब डॉलर की फंडिंग को भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद रद्द कर दिया। इसके बाद शेख हसीना सरकार ने इस पुल को अपने दम पर पूरा करने की ठानी पद्मा पुल का निर्माण कर सभी के सामने एक उदाहरण पेश किया। सरकार ने कहा पद्मा ब्रिज देश का गौरव है जो देश के दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र के अलावा बाकी हिस्सों को जोड़ता है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा, इस पुल ने देश के 21 जिलों को जोड़ा है।
लंबाई के मामले में दुनिया में 122वां स्थान
पुल की लंबाई के मामले में इसे दुनिया में 122वां स्थान दिया गया है। मुख्य पुल 6.15 किलोमीटर लंबा है। 6.15 किमी लंबे पुल का निर्माण 2015 में शुरू हुआ था और दिसंबर 2021 में यह पूरा हुआ।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News