Home विदेश भारतीय-अमेरिकी व्यवसायी कैलिफोर्निया से लड़ेंगी संसदीय चुनाव, 2022 में लड़ेंगी मध्यावधि चुनाव

भारतीय-अमेरिकी व्यवसायी कैलिफोर्निया से लड़ेंगी संसदीय चुनाव, 2022 में लड़ेंगी मध्यावधि चुनाव

32
0

वाशिंगटन । एक भारतीय-अमेरिकी इंजीनियर और उद्यमी ने घोषणा की है कि वह कैलिफोर्निया के एक कांग्रेस सीट वाले जिले से अमेरिकी प्रतिनिधिसभा के लिए चुनाव लड़ेगी। रिवरसाइड में भारतीय अप्रवासी माता-पिता के घर पैदा हुई श्रिना कुरानी नवंबर 2022 में मध्यावधि चुनाव के लिए 15-अवधि के रिपब्लिकन अवलंबी केन कैल्वर्ट को चुनौती देंगी। कुरानी ने गुरुवार को कहा, ‘मैं सीए-42 में कांग्रेस के लिए चुनाव लड़ने वाली हूं! यह तथ्य आधारित समाधान और साहसिक कार्रवाई का समय है।’ एक पहली पीढ़ी के अमेरिकी के रूप में, मेरे परिवार ने यहीं रिवरसाइड में एक सफल पूल आपूर्ति व्यवसाय बनाने के लिए एक साथ काम किया। उन्होंने कहा कि उनके माता-पिता ने वर्षो से एक भी दिन की छुट्टी नहीं ली, लेकिन इन दिनों अक्सर इतनी हलचल भी पर्याप्त नहीं होती है। अवसर अधिकतर लोगों की पहुंच से बाहर हैं, जबकि कैरियर वाशिंगटन के केन कैल्वर्ट जैसे राजनेता खुद को, अपने राजनीतिक दलों और अपने कारर्पोरेट दाताओं की मदद करने पर केंद्रित हैं। कुरानी ने खुद को एक राजनेता ना बताकर एक इंजीनियर, उद्यमी और एक तथ्य-आधारित समस्या समाधानकर्ता के रूप में वíणत किया है। केन कैल्वर्ट 30 वर्षो से वाशिंगटन में हैं और उन्होंने बार-बार हमारे हित के खिलाफ मतदान किया है। कुरानी ने 16 साल की उम्र में ला सिएरा हाई स्कूल से स्नातक किया और यूसी रिवरसाइड से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल की।वर्तमान में, अमेरिकी प्रतिनिधि सभा में चार भारतीय अमेरिकी हैं- डॉ अमी बेरा, रो खन्ना, राजा कृष्णमूर्ति और प्रमिला जयपाल।
तनाव के बीच अमेरिकी विदेश उपमंत्री जाएंगी चीन
चीन और अमेरिका दोनों ही देश जारी तनाव के बीच वार्ता का रास्ता भी खोले हुए हैं। दोनों देशों के बीच उलझे मुद्दों को पर वार्ता के लिए अमेरिकी विदेश उपमंत्री वेंडी आर शेर्मन 25 जुलाई को चीन की यात्रा पर जाएंगी। इसके बाद वह जापान और दक्षिण कोरिया की यात्रा भी करेंगी। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा कि वे चीन में अधिकारियों के साथ तियानजिन में बैठक करेंगी। उनकी मुलाकात विदेश मंत्री वांग यी से भी तय है। यह यात्रा अमेरिका के चीन से द्विपक्षीय संबंधों के तहत आयोजित की गई है। नेड प्राइस ने कहा है कि चीन से हमारी बेशक कड़ी प्रतिस्पद्र्धा है। हम चाहते हैं, यह प्रतिस्पद्र्धा भी बेहतर संबंधों के साथ पूरी ईमानदारी से होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि यह यात्रा उन्हीं लक्ष्यों को पूरा करेगी।

Previous articleतालिबान के बढ़ते कदमों की आहट से परेशान ताजिकिस्‍तान, इतिहास में पहली बार सुरक्षा की सबसे बड़ी कवायद
Next articleजेफ बेजोस का महंगा अंतरिक्ष सफर, 60 सेकंड में खर्च हुए 4 हजार करोड़ रुपये, जानें मिशन की कुल लागत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here