Home विदेश ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका टीका बी1.617.2 स्वरूप के खिलाफ 80 फीसदी प्रभावी

ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका टीका बी1.617.2 स्वरूप के खिलाफ 80 फीसदी प्रभावी

21
0

लंदन। ब्रिटिश सरकार के एक नए अध्ययन में सामने आया है कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका या फाइजर के टीके की दो खुराक कोविड-19 के बी1.617.2 स्वरूप की रोकथाम में 80 प्रतिशत प्रभावी है। ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका का दो खुराक वाला टीका सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा कोविशील्ड के नाम से उत्पादित किया जा रहा है और भारत में इसे महामारी से बचाव के लिये वयस्कों को दिया जा रहा है।

ब्रिटेन का यह अध्ययन पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (पीएचई) के आंकड़ों पर आधारित है और इससे यह भी सामने आया कि इसकी दो खुराक बी.117 स्वरूप से 87 प्रतिशत तक सुरक्षा प्रदान करती हैं। वायरस का यह स्वरूप पहले इंग्लैंड के केंट क्षेत्र में सामने आया था और इसे बेहद संक्रामक माना जाता है।

‘द टेलीग्राफ अखबार के मुताबिक अध्ययन के यह नए नतीजे इस हफ्ते सरकार के न्यू एंड इमर्जिंग रेस्पिरेटरी वायरस थ्रेट्स एडवाइजरी ग्रुप (नर्वटेग) की बैठक में पेश किए गए। इस हफ्ते के शुरू में जारी किए गए नवीनतम पीएचई आंकड़े दिखाते हैं कि बी1.617.2 स्वरूप के मामले देश भर में पिछले हफ्ते 2111 बढ़कर 3424 पर पहुंच गए हैं। सेंगर इंस्टीट्यूट में कोविड-19 जीनोमिक्स के निदेशक डॉ. जेफरी बेरेट ने बीबीसी को बताया, मुझे लगता है कि यह स्पष्ट रूप से बढ़ रहा है, जिन्हें संख्याओं के लिहाज से कोई भी देख सकता है, जो हफ्ते दर हफ्ते सामने आ रही हैं।

भारत में पहली बार सामने आए चिंताजनक स्वरूप (वीओसी) की संक्रामकता दर के संदर्भ में उन्होंने कहा, अगर मुझे आज कयास लगाना हो तो मैं इसे 50 प्रतिशत के बजाय 20 से तीस प्रतिशत मानूंगा (केंट में मिले स्वरूप से ज्यादा संक्रामक)। लेकिन इसे लेकर अब भी अनिश्चितता है, 50 प्रतिशत एक तार्किक सबसे खराब परिदृश्य हो सकता है।

इस बीच, पीएचई अधिकारी भी जांच के दायरे वाले स्वरूप (वीयूआई) पर इंग्लैंड के यॉर्कशायर में करीबी नजर रख रहे हैं जो उच्च संक्रमण दर दर्शा रहा है। यह अध्ययन तब सामने आया है जब नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस) ने टीकाकरण कार्यक्रम के और विस्तार की घोषणा की है और कहा कि वह शनिवार से 34 साल से ज्यादा के जनसंख्या वर्ग के साथ ही 32 और 33 साल के लोगों के लिये भी टीकों की बुकिंग शुरू करेगा।

एनएचएस इंग्लैंड ने कहा कि एक हफ्ते के अंदर टीका लगवाने वालों के लिए नए आयुवर्ग को इसलिए जोड़ा जा सका क्योंकि 10 में से चार से ज्यादा वयस्कों को अब टीकों की दोनों खुराक मिल चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here